Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाजछत्तीसगढ़ में मतदान की शुरुआत बम ब्लास्ट से, 24 घंटे के भीतर वामपंथी नक्सलियों...

छत्तीसगढ़ में मतदान की शुरुआत बम ब्लास्ट से, 24 घंटे के भीतर वामपंथी नक्सलियों ने किए 3 धमाके: सुरक्षा बलों के 3 जवान समेत 5 घायल

वामपंथी नक्सली अपने प्रभाव वाले इलाकों में लगातार लोगों को इस बात के लिए धमका रहे हैं कि वह मतदान ना करें। ऐसा करने पर वह गाँव वालों को मारने की धमकी दे रहे।

छत्तीसगढ़ में आज (7 नवम्बर 2023) विधानसभा चुनाव के लिए पहले चरण का मतदान हो रहा है। मतदान शुरू होने से 24 घंटे के भीतर राज्य में नक्सलियों ने 3 IED धमाके किए हैं। इन धमाकों में सुरक्षा बलों के 3 जवान और 2 मतदानकर्मी घायल हुए हैं।

वामपंथी नक्सलियों ने आज मतदान के दिन सुकमा में एक धमाका किया है। सुकमा के टोंडामरका इलाके में यह धमाका किया गया। यह धमाका IED के जरिए किया गया। इस धमाके में केन्द्रीय रिज़र्व पुलिस फ़ोर्स (CRPF) की कोबरा बटालियन के एक जवान घायल हुए हैं। यह जवान भी चुनावी ड्यूटी में लगे हुए थे।

मतदान से एक दिन पहले छत्तीसगढ़ के नक्सल आतंकवाद प्रभावित जिलों कांकेर और नारायणपुर में धमाके किए गए थे। कांकेर में हुए धमाके में सीमा सुरक्षा बल के एक जवान और 2 मतदानकर्मी घायल हो गए हैं।

वहीं नारायणपुर में हुए धमाके में भारत-तिब्बत सीमा पुलिस का एक जवान घायल हो गया। बताया गया कि यह जवान एक IED बम को डिफ्यूज करने के दौरान हुए धमाके के कारण घायल हुए। यह घटना नारायणपुर जिले के मूढापाधार क्षेत्र में हुई।

गौरतलब है कि नक्सली अपने प्रभाव वाले इलाकों में लगातार लोगों को इस बात के लिए धमका रहे हैं कि वह मतदान ना करें। ऐसा करने पर वह गाँव वालों को मारने की धमकी दे रहे हैं। नक्सलियों ने वर्ष 2023 में छत्तीसगढ़ के अंदर 7 भाजपा नेताओं की हत्या की है। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इन हत्याओं को छिटपुट घटनाएँ बताया है।

छत्तीसगढ़ में आज पहले चरण का मतदान हो रहा है। पहले चरण में छत्तीसगढ़ में दुर्ग और बस्तर क्षेत्र की 20 विधानसभा सीटों पर मतदान करवाया जा रहा है। इनमें से अधिकाँश इलाके नक्सल प्रभावित हैं। इस बार इस क्षेत्र के 127 गाँवों में पहली बार मतदान करवाया जा रहा है। इससे पहले नक्सलियों के खतरे के कारण यहाँ मतदान केन्द्र स्थापित नहीं करवाए जाते थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसने चलाई डोनाल्ड ट्रंप पर गोली, उसने दिया था बाइडेन की पार्टी को चंदा: FBI लगा रही उसके मकसद का पता

पेंसिल्वेनिया के मतदाता डेटाबेस के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करने वाला थॉमस मैथ्यू क्रूक्स रिपब्लिकन के मतदाता के रूप में पंजीकृत था।

डोनाल्ड ट्रंप को मारी गई गोली, अमेरिकी मीडिया बता रहा ‘भीड़ की आवाज’ और ‘पॉपिंग साउंड’: फेसबुक पर भी वामपंथी षड्यंत्र हावी

डोनाल्ड ट्रंप की हत्या के प्रयास की पूरी दुनिया के नेताओं ने निंदा की, तो अमेरिकी मीडिया ने इस घटना को कमतर आँकने की कोशिश की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -