Friday, April 19, 2024
Homeदेश-समाजभगवद् गीता पर IIM अहमदाबाद में पाठ्यक्रम, कॉरपोरेट्स को सिखाएगा प्रबंधन और कुशल नेतृत्व...

भगवद् गीता पर IIM अहमदाबाद में पाठ्यक्रम, कॉरपोरेट्स को सिखाएगा प्रबंधन और कुशल नेतृत्व से जुड़े स्किल

''भगवद् गीता के पाठ प्रबंधन की बारीकियों को समझने और इसमें बेहतर करने के लिए आवश्यक तरीके सुझाते हैं, जो बिजनेस मॉडल के अनुरूप हैं और नैतिक भी हैं।''

भारतीय प्रबंधन संस्थान (IIM) अहमदाबाद कॉर्पोरेट पेशेवरों के लिए प्रबंधन पाठ (management lessons) पढ़ाने के लिए भगवद् गीता पर एक पाठ्यक्रम शुरू करने जा रहा है। 13 दिसंबर से शुरू होने वाले प्रोग्राम में गीता से ‘समकालीन प्रबंधन अवधारणाओं, संघर्षों, संकट की स्थिति और व्यापार में ट्रेड ऑफ का पता लगाने’ के पाठ और अध्याय शामिल किए जाएँगे।

महाभारत और भगवद् गीता जैसे भारतीय महाकाव्यों ने लोगों के जीवन को काफी प्रभावित किया है। महाकाव्यों में बताई गई बातें एक बेहतर जीवन के लिए बेहद जरूरी हैं। इसने कई संस्थानों और कॉरपोरेट्स को भी प्रेरित किया है। आईआईएम-ए वेबसाइट के अनुसार, ”भगवद् गीता के पाठ प्रबंधन की बारीकियों को समझने और इसमें बेहतर करने के लिए आवश्यक तरीके सुझाते हैं, जो बिजनेस मॉडल के अनुरूप हैं और नैतिक भी हैं।”

अहमदाबाद मिरर के साथ बात करते हुए एक आईआईएम अधिकारी ने कहा, “भगवद् गीता के पाठ Management Practices को बढ़ावा देने के सटिक तरीकों का सुझाव देते हैं, जो बिजनेस मॉडल के अनुरूप हैं और नैतिक भी हैं।”

पाठ्यक्रम के बारे में

पाठ्यक्रम को हर 3 घंटे के 6 सेशन में बाँटा गया है। पाठ्यक्रम का उद्देश्य अंतर्दृष्टि विकसित करना, समकालीन प्रबंधन और मूल्य-आधारित नेतृत्व की अवधारणाओं को मजबूत करना, नेतृत्व कुशलता और समझ को विकसित करना है। भगवद् गीता पढ़ने वाला हर शख्स कृष्ण-अर्जुन संवाद से महान शिक्षाओं, युद्ध में कदम रखने से पहले अर्जुन की दुविधा और एक मार्गदर्शक के रूप में कृष्ण की भूमिका से अच्छी तरह वाकिफ होगा।

अधिकारी ने आगे कहा, “भगवद् गीता पाठ्यक्रम प्रतिभागियों को आत्मविश्वास के साथ अपने करियर में चुनौतीपूर्ण समय का सामना करने की क्षमता विकसित करने में मदद करेगा। कार्यक्रम का उद्देश्य उन्हें कॉरपोरेट जगत में खुद को प्रभावी लीडर के रूप में विकसित करने के तरीकों के बारे में जागरूक करना है। केस डिस्कशन और वीडियो फिल्मों का उपयोग करके जो कंटेंट दिखाया जाएगा, उसमें कृष्ण ने गीता का जो उपदेश दिया जो आज भी व्यवहारिक जीवन की समस्याओं के लिए समाधानकारक है। वह सब भी​ सिखाया जाएगा।”

यह प्रोग्राम 5 साल के कार्य अनुभव वाले पेशेवरों के लिए है। निर्णय लेना, नेतृत्व क्षमता, प्रेरणा, रणनीति योजना, बातचीत, टीम के निर्माण में कुशल प्रबंधन तकनीकों को सीखने का इच्छुक कोई भी व्यक्ति पाठ्यक्रम के लिए नामांकन कर सकता है। प्रोग्राम की फीस 64,000 रुपए है। इसके लिए रजिस्ट्रेशन कराने की अंतिम तिथि 29 नवंबर है।

मीडिया से बात करते हुए पाठ्यक्रम बनाने वाले प्रोफेसर सुनील माहेश्वरी ने कहा, “हम केस स्टडी पद्धति के माध्यम से पढ़ाते हैं और अगर हमें प्रबंधकों को ये कौशल सिखाना है, तो कुशल नेतृत्व सिखाने के लिए भगवान कृष्ण के जीवन से बेहतर तरीका और क्या हो सकता है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

इजरायल ने किया ईरान पर हमला, एयरबेस को बनाया निशाना: कई बड़े शहरो में एयरपोर्ट बंद, हवाई उड़ानों पर भी रोक

इजरायल का हमला ईरान के असफ़हान के एयरपोर्ट को निशाना बना कर किया गया था। इस हमले के बाद ईरान के बड़े शहरो में एयरपोर्ट बंद कर दिए गए

बंगाल में मतदान से पहले CRPF जवान की मौत, सिर पर चोट के बाद बेहोश मिले: PM मोदी ने की वोटिंग का रिकॉर्ड बनाने...

बाथरूम में CRPF जवान लोगों को अचेत स्थिति में मिला, जिसके बाद अस्पताल ले जाया गया। वहाँ डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। जाँच-पड़ताल जारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe