Thursday, May 26, 2022
Homeदेश-समाजभोपाल स्टेशन के सालों पुराने ‘ईरानी डेरे’ पर चला शिवराज सरकार का बुलडोजर, हाल...

भोपाल स्टेशन के सालों पुराने ‘ईरानी डेरे’ पर चला शिवराज सरकार का बुलडोजर, हाल ही में हुआ था पुलिस पर पथराव

हाल ही में भोपाल के ही करोंद क्षेत्र स्थित अमन कॉलोनी, ईरानी डेरे के पास पुलिस पर हमला हो गया था। धोखाधड़ी के एक मामले में सागर पुलिस 3 आरोपितों को गिरफ्तार करने के लिए पहुँची थी। इस कार्रवाई के दौरान पुलिस की टीम पर पथराव किया गया था....

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में रेलवे स्टेशन के पास सालों पुराने अतिक्रमण पर बड़ी कार्रवाई की गई है। नगर निगम, पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की टीम ने संयुक्त अभियान के तहत भोपाल रेलवे स्टेशन 6 नंबर प्लैटफॉर्म के नज़दीक स्थित ईरानी बस्ती/डेरे का अतिक्रमण हटाया। इस कार्रवाई के दौरान 12 हज़ार वर्गफीट की जगह पर किए गए अवैध निर्माण को जेसीबी मशीन से हटाया गया। इस घटना की जानकारी मिलते ही तमाम दुकानदार अपनी दुकानों पर पहुँचे और वहाँ से अपना सामान हटाया। 

दरअसल, इसके पहले भोपाल रेलवे स्टेशन के आस-पास स्थित ईरानी कॉलोनी का अतिक्रमण हटाने की माँग उठी थी। अमूमन हर बार किसी न किसी कारणवश कार्रवाई पूरी नहीं हो पाती थी, काफ़ी समय बाद प्रशासन ने पूरी तैयारी के साथ इस कार्रवाई को सफलतापूर्वक अंजाम दिया।

हाल ही में भोपाल के ही करोंद क्षेत्र स्थित अमन कॉलोनी, ईरानी डेरे के पास पुलिस पर हमला हो गया था। धोखाधड़ी के एक मामले में सागर पुलिस 3 आरोपितों को गिरफ्तार करने के लिए पहुँची थी। इस कार्रवाई के दौरान पुलिस की टीम पर पथराव किया गया था जिसकी वजह से पुलिस एक ही आरोपित को गिरफ्तार कर पाई थी। 

साल 2017 के एक आदेश में अदालत ने इस ज़मीन को सरकारी बताया था लेकिन अदालत के आदेश के बावजूद ईरानी यहाँ से कब्ज़ा नहीं हटा रहे थे। उनका कहना था कि वह पिछले 50-60 सालों से यहाँ रह रहे हैं और यह ज़मीन प्राइवेट है इसलिए सरकार इस पर कोई कार्रवाई नहीं कर सकती है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ रेलवे स्टेशन के नज़दीक जिस ज़मीन से अतिक्रमण हटाया जा रहा है वह लालजी भाई ठाकुर के नाम पर बताई जा रही है। फ़िलहाल उनकी मृत्यु हो चुकी है। जिसके बाद यहाँ दुकान चलाने वाले डेरे के लोगों और लालजी भाई के उत्तराधिकारियों के बीच मामला अदालत में विचाराधीन है। इस जगह पर अतिक्रमण करने वालों का आरोप है कि प्रशासन ने यहाँ किस आधार पर कार्रवाई की, यह ज़मीन निजी है। अभी तक करीब 40 दुकानों का अतिक्रमण हटाया जा चुका है और इस कार्रवाई के दौरान रैपिड एक्शन फ़ोर्स के लगभग 200 जवान तैनात किए गए थे। 

प्रशासन का कहना है कि अभी रहवासी क्षेत्र का अतिक्रमण भी तोड़ा जाएगा और पुलिस ने विरोध करने वालों को चेतावनी भी दी थी। इस क्षेत्र में दाखिल होने वाले तीनों रास्तों को बंद कर दिया गया था और पूरे क्षेत्र की बिजली भी काट दी गई थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ 80 फीट चौड़ी हमीदिया समानांतर सड़क के किनारे अवैध कब्जे वाली करीब 12 हज़ार वर्गफीट सरकारी ज़मीन पर हुसैनी जनकल्याण समिति का अवैध कब्जा है। 

अतिक्रमण की इस कार्रवाई पर राजनीतिक बयानबाजी भी तेज़ हो गई है। मध्य प्रदेश की कॉन्ग्रेस सरकार में पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने इस कार्रवाई को बदले की कार्रवाई बताया है। इसके अलावा उनका कहना था कि लोगों का रोज़गार छिनेगा तो वह आपराधिक गतिविधियों की तरफ बढ़ेंगे। सरकार रोजगार दे तो पा नहीं रही है, जो मेहनत करके अपना घर चला रहे हैं उनका श्रम सरकार को स्वीकार नहीं है। 

इस पर पलटवार करते हुए मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार में कैबिनेट मंत्री विश्वास सारंग ने कॉन्ग्रेस की सरकार के पूर्व मंत्री को झुग्गी माफिया बताया। इसके अलावा उन्होंने कहा कि क़ानून व्यवस्था के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा, कॉन्ग्रेस की सरकार में गुंडों को भरपूर संरक्षण मिलता था लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। सरकारी ज़मीन पर किसी भी तरह का अवैध कब्ज़ा बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उइगर मुस्लिमों से कुरान और हिजाब छीन रहा चीन, भागने पर गोली मारने का आदेश: लीक दस्तावेजों से खुलासा- डिटेंशन कैंपों में कैद हैं...

इन दस्तावेजों से यह भी खुलासा हुआ है कि चीन मुस्लिमों से कुरान, हिजाब समेत सभी धार्मिक-मजहबी चीजें जब्त कर उनकी पहचान मिटा रहा है।

केजरीवाल सरकार के स्टेडियम में खिलाड़ियों से VIP कुत्ता: बाहर निकाल दिए जाते हैं एथलीट, क्योंकि कुत्ते के साथ टहलते हैं IAS अफसर

मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि त्यागराज स्टेडियम शाम होते ही खाली करवा दिया जाता है क्योंकि दिल्ली के प्रधान सचिव (राजस्व) अपने कुत्ते के साथ वॉक करते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,942FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe