Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाज'च*टे तेरे परिवार को खत्म कर देंगे, तू गाँव छोड़ कर भाग जा': दलित...

‘च*टे तेरे परिवार को खत्म कर देंगे, तू गाँव छोड़ कर भाग जा’: दलित नेत्रपाल जाटव को परिवार सहित धमकी, पेड़ भी काट कर ले गए नसीम, तपीस, हारिस, मुश्ताक और यासीन

आरोपितों ने नेत्रपाल जाटव की पत्नी से कहा, "च*टे तेरे परिवार को खत्म कर देंगे। तूने थाने में शिकायत की तो जान से मार देंगे। पुलिस हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकती।"

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले में एक दलित परिवार पर गाँव छोड़ कर चले जाने का दबाव बनाने का मामला सामने आया है। पीड़ित परिवार को जातिसूचक शब्द, बोल कर और गालियाँ देते हुए हथियार दिखाए जा रहे हैं। साथ ही उनकी हत्या की धमकियाँ दी जा रही हैं। इस मामले में पीड़ित ने अदालत के माध्यम से नसीम, तपीस, हारिस, मुश्ताक और यासीन के खिलाफ नामजद FIR दर्ज करवाई है। शनिवार (16 मार्च 2024) को दर्ज हुई इस FIR में कुछ अन्य अज्ञात लोगों का भी जिक्र है। पुलिस मामले की जाँच कर रही है।

यह मामला बुलंदशहर के थानाक्षेत्र कोतवाली देहात का है। यहाँ के गाँव दरियापुर के रहने वाले नेत्रपाल जाटव ने अदालत के माध्यम से शनिवार को पुलिस में अपनी FIR दर्ज करवाई है। FIR में नेत्रपाल ने खुद को सीधा-साधा व्यक्ति बताते हुए कहा है कि उनके खेत में एक शीशम का पेड़ लगा था जिसे 5 जनवरी 2024 को नसीम, तपीस, हारिस, मुश्ताक और यासीन ने जबरन काट लिया था। यह पेड़ लगभग 50 साल पुराना था जिसे नामजद आरोपितों ने कुछ अज्ञात लोगों के साथ काट कर ट्रॉली में लाद लिया और अपने साथ ले गए।

जब नेत्रपाल की पत्नी ने आरोपितों को ऐसे करने से रोका तो उन्हें जान से मारने की धमकी दी गई। शिकायत में बताया गया है कि आरोपितों ने नेत्रपाल जाटव की पत्नी से कहा, “च*टे तेरे परिवार को खत्म कर देंगे। तूने थाने में शिकायत की तो जान से मार देंगे। पुलिस हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकती।” पीड़ित का दावा है कि उसने तब पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई थी। हालाँकि इस शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। आरोप है कि उलटे पीड़ित को ही मुचलके में पाबन्द कर दिया गया था।

इसके घटना के कुछ दिन बाद 28 जनवरी 2024 को पीड़ित नेत्रपाल जाटव गाँव के ही विजेंद्र और जगवीर के साथ कहीं जा रहा था। तभी रास्ते में उसे नसीम, तपीस, हारिस, मुश्ताक और यासीन ने घेर लिया। इन सभी ने पीड़ित को पहले तो गालियाँ देते हुए जातिसूचक शब्द बोले। बाद में आरोपितों ने कहा, “तू गाँव छोड़ कर भाग जा नहीं तो हम कहीं का नहीं छोड़ेंगे।” पीड़ित ने इस धमकी के बाद खुद को बेहद डरा हुआ बताया है। शिकायत में कहा गया है कि तब जिले के एसएसपी से शिकायत का भी कोई असर नहीं हुआ।

नेत्रपाल जाटव ने अदालत में अर्जी दे कर FIR दर्ज करने की गुहार लगाई थी। अदालत के आदेश पर पुलिस ने नसीम, तपीस, हारिस, मुश्ताक और यासीन के खिलाफ FIR दर्ज कर ली है। इन सभी पर IPC की धारा 379, 504 और 506 के अलावा SC/ST एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है। ऑपइंडिया के पास FIR कॉपी मौजूद है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलिस मामले की जाँच कर रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -