Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाज3 मौलवियों की साजिश, बाहर से मँगाए दंगाई: गुजरात के खंभात में रामनवमी पर...

3 मौलवियों की साजिश, बाहर से मँगाए दंगाई: गुजरात के खंभात में रामनवमी पर ऐसे भड़की हिंदू विरोधी हिंसा, घात लगा बैठे थे दंगाई

रेंज के आईजी अभय चुडास्मा ने कहा कि हिम्मतनगर ए डिवीजन में 700 और बी डिवीजन में 150 दंगाइयों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। इसके अलावा 30 से अधिक आरोपितों को राउंडअप किया गया है।

गुजरात के खंभात में भी देश के अन्य हिस्सों की तरह ही 10 अप्रैल 2022 को रामनवमी के दौरान हिंदुओं द्वारा निकाले गए जुलूस में कट्टरपंथी मुस्लिमों ने हिंसा फैलाई, पत्थरबाजी की। इस पत्थरबाजी में एक बुजुर्ग की मौत हो गई। इसमें तीन मौलवियों की भूमिका सामने आई है। पुलिस ने मामले में तीनों मौलवियों सहित 9 आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। बाकियों की तलाश की जा रही है।

रिपोर्ट के मुताबिक, हिंसा के मामलों में पुलिस ने खंभात जिले में दो और हिम्मतनगर में तीन एफआईआर दर्ज की गई है। खंभात में 65 लोगों और हिम्मतनगर में 850 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। इसके साथ ही हिम्मतनगर की दो कंपनियों को तैनात किया गया है। रेंज के आईजी अभय चुडास्मा ने कहा कि हिम्मतनगर ए डिवीजन में 700 और बी डिवीजन में 150 दंगाइयों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। इसके अलावा 30 से अधिक आरोपितों को राउंडअप किया गया है।

क्या हुआ था खंभात में

रविवार को खंभात के शंकरपुरा में रामनवमी के मौके पर हिंदुओं की ओर से जुलूस निकाला गया, जिसमें करीब 3000 लोग शामिल थे। शंकरपुरा से चले इस जुलूस को चितरी बाजार, पीठ बाजार और मंडई चौकी से गुजरना था, लेकिन जैसे ही ये जुलूस शुरू हुआ। बबूल के खेतों में पहले से घात लगाए बैठे इस्लामी दंगाइयों ने पथराव शुरू कर दिया। अचानक पत्थर बरसता देख लोग घबरा गए और वहाँ भगदड़ मच गई। दोनों ओर से पत्थरबाजी भी की गई।

मौका अनुकूल देख दंगाइयों ने छगडोल मैदान और सरदार टावर में कई लारियों और दुकानों में आग लगा दी। इसके साथ ही एक घर में भी आग लगा दी गई। पुलिस ने दंगाइयों को कंट्रोल करने के लिए बल प्रयोग किया, जिसमें 15 पुलिस के जवान भी घायल हो गए।

किराए के दंगाई बुलाए गए

सांप्रदायिक हिंसा फैलाने की साजिश रचने वाले मौलवियों ने अपनी नापाक साजिश को अंजाम देने के लिए खंभात के बाहर से दंगाइयों को बुलाया था, ताकि उनकी पहचान न हो सके।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -