Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाज'जहाँगीरपुरी में हिन्दू महिलाओं का रेप और पुलिस से मारपीट आम': स्थानीय का दावा...

‘जहाँगीरपुरी में हिन्दू महिलाओं का रेप और पुलिस से मारपीट आम’: स्थानीय का दावा – ममता बनर्जी के चुनाव में फंडिंग करते हैं बांग्लादेशी

"कई बांग्लादेशी ऐसे हैं, जिन्होंने दो नंबर के धंधे कर के बड़ी संपत्ति अर्जित कर ली है। एजेंसियों को इसकी जाँच करनी चाहिए। ये लोग ममता बनर्जी को चुनाव लड़वाने के लिए पश्चिम बंगाल भी गए थे।"

दिल्ली के जहाँगीरपुरी में हनुमान जन्मोत्सव के दिन हुई हिंसा के बाद दिल्ली पुलिस कार्रवाई में जुटी है। शोभा यात्रा निकाल रहे हिन्दू श्रद्धालुओं पर इस्लामी भीड़ ने पत्थरबाजी और गोलीबारी की। हिंसा में कई लोग और पुलिसकर्मी घायल हुए। अब तक 21 गिरफ्तारियाँ हो चुकी हैं। ऑपइंडिया ने इस हिंसा को लेकर स्थानीय लोगों से बातचीत की। जहाँगीरपुरी के H ब्लॉक में रहने वाले दिनेश ने बताया कि उन्होंने इस घटना के बारे में जाना-समझा है और ये नई नहीं है।

उन्होंने कहा कि जहाँगीरपुरी में इससे बड़ी-बड़ी घटनाएँ होती आई हैं और मीडिया में इसकी चर्चा तक नहीं होती। उन्होंने बताया कि कैसे छोटे-छोटे बच्चे हिन्दू महिलाओं को परेशान करते हैं। उन्होंने इलाके में कई हिन्दू महिलाओं का रेप होने का भी दावा किया। उन्होंने कहा कि शिकायत करने पर थाने में पुलिस वाले जबरन उनलोगों को ही परेशान करने लगते हैं। उन्होंने दावा किया कि कुछ दिनों पहले एक महिला का 15 दिनों तक बलात्कार हुआ था।

दिनेश ने बताया, “वो महिला हिन्दू थीं, जबकि बलात्कार आरोपित मुस्लिम थे। थाने के सामने उस महिला को आरोपितों ने मारा-पीटा। मुस्लिम बहुल इलाका होने के कारण उस महिला को वहाँ से घर बेच-बाच कर निकलने को मजबूर कर दिया है। एक अन्य लड़की के बलात्कार का मामला है। जहाँगीरपुरी पुलिस पर हमें भरोसा नहीं, इसीलिए नाम नहीं लूँगा। उस लड़की के परिवार को भी यहाँ से बाहर निकलना पड़ा। कोई FIR तक दर्ज नहीं की गई।”

उन्होंने अफ़सोस जताया कि ऐसी पीड़ितों की मदद भी कैसे की जा सकती है, जो डर और प्रताड़ना के कारण जगह छोड़ कर ही चले गए हैं। उन्होंने बताया कि 4-5000 रुपए छीने जाने के एक मामले में आरोपित ने पुलिस पर ही पिस्तौल तान दी, ये 5-6 महीने की बात है। उन्होंने याद दिलाया कि जहाँगीरपुरी में कभी मुहर्रम पर कोई खतरे की बात सामने नहीं आई जबकि वहाँ हर साल इसके जुलूस निकलते हैं, क्योंकि हिन्दू लोगों ने कभी कोई दिक्कत नहीं की।

उन्होंने हिन्दू श्रद्धालुओं पर पत्थरबाजी की घटनाओं को एक साजिश करार देते हुए कहा कि जहाँगीरपुरी में पुलिसकर्मियों को कई बार मारा-पीटा गया है। उन्होंने नेत्रपाल नाम के एक पुलिस अधिकारी का नाम लिया, जिसे यहाँ सट्टा बाजार चलाने वाले एक व्यक्ति ने मारा-पीटा था। उन्होंने बताया कि यहाँ के ‘मछली बाजार’ को कोरोना के दौरान भी खुला रखा गया और पुलिस तक लॉकडाउन के दिशानिर्देशों का पालन नहीं कराया गया।

इलाके में अपराध की घटनाओं की बात करते हुए उन्होंने कहा कि छोटे-छोटे बच्चे चाकूबाजी की घटनाओं को अंजाम देते हैं। एक घटना के बारे में उन्होंने बताया कि लड़के ने जबरन एक हिन्दू लड़की से चाकू के बल पर शादी कर ली और उसका रेप किया था। पुलिस ने कोई उम्मीद न होने की बात कहते हुए उन्होंने माँग की कि उचित कार्रवाई की जाए। उन्होंने कहा कि जब पुलिस बात ही नहीं सुनती है, तो किस्से गुहार लगाई जाए।

उन्होंने कहा, “यहाँ अधिकतर बांग्लादेशी हैं और पुलिस उन सबसे बहुत डरती है। इन पर हाथ डालने से डरती है पुलिस। पुलिस वालों को दौड़ा-दौड़ा कर मारते हैं ये। अधिकतर झुग्गियों में रहते हैं। कई ऐसे हैं, जिन्होंने दो नंबर के धंधे कर के बड़ी संपत्ति अर्जित कर ली है। एजेंसियों को इसकी जाँच करनी चाहिए। ये लोग ममता बनर्जी को चुनाव लड़वाने के लिए पश्चिम बंगाल भी गए थे।” अब देखना ये है कि पुलिस इस्लामी दंगे के कितने गुनहगारों को सज़ा दिला पाती है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -