Friday, January 27, 2023
Homeदेश-समाजघाटी में पत्थरबाजों का शिकार बने असरार अहमद ने तोड़ा दम: 30 दिन में...

घाटी में पत्थरबाजों का शिकार बने असरार अहमद ने तोड़ा दम: 30 दिन में 5 नागरिक मारे गए

इससे पहले दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग के बिजबेहरा इलाके में 25 अगस्त को पत्थरबाजों ने सेना का जवान समझकर एक ट्रक ड्राइवर की बर्बरता से हत्या कर दी थी। मृतक की पहचान 42 वर्षीय नूर मोहम्मद डार के रूप में हुई थी।

कश्मीर में पिछले महीने पत्थरबाजों का शिकार हुए कश्मीरी युवक असरार अहमद की बुधवार (सितंबर 4, 2019) तड़के श्रीनगर के अस्पताल में मौत हो गई। लेफ्टिनेंट जेनरल केजेएस ढिल्लन ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि 6 अगस्त को पत्थरबाजों ने असरार अहमद खान को निशाना बनाया था।

शौरा अस्पताल में उसका इलाज चल रहा था। उन्होंने बताया कि बीते 30 दिनों में घाटी में किसी नागरिक की मौत की यह पाँचवीं घटना है। सभी जानें आतंकियों, पत्थरबाजों और पाकिस्तान परस्तों ने ली है।

असरार अहमद की मौत के बाद श्रीनगर के कुछ इलाके में माहौल तनावपूर्ण है। एहतियात के तौर पर सुरक्षाबलों ने इलाके में फिर से प्रतिबंध लगा दिया गया है। डाउन टाउन और सिविल लाइंस इलाके में कर्फ्यू लगा दिया गया है।

गौरतलब है कि, इससे पहले दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग के बिजबेहरा इलाके में 25 अगस्त को पत्थरबाजों ने सेना का जवान समझकर एक ट्रक ड्राइवर की बर्बरता से हत्या कर दी थी। मृतक की पहचान 42 वर्षीय नूर मोहम्मद डार के रूप में हुई थी। नूर देर शाम ट्रक लेकर वापस घर लौट रहा था कि तभी वहाँ मौजूद कुछ पत्थरबाजों की नजर उस पर पड़ी। पत्थरबाजों ने उसके ट्रक को सुरक्षाबल की गाड़ी और उसे जवान समझ लिया। इसके बाद उन्होंने नूर पर पत्थरबाजी शुरू कर दी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नाक से दिया जाने वाला दुनिया का पहला कोरोना वैक्सीन भारत ने किया लॉन्च: बाजार में 800 रुपए है कीमत, सरकार को आधी से...

भारत ने विश्व का कोरोना के लिए पहला स्वदेशी नेजल वैक्सीन विकसित किया है। इसे केंद्रीय मंत्री मंडाविया और जितेंद्र सिंह ने लॉन्च किया।

NRIs और महानगरों का हीरो, जिसे हम पर थोप दिया गया: SRK नहीं मिथुन-देओल-गोविंदा ही रहे गाँवों के फेवरिट, मुट्ठी भर लोगों के इलीट...

शाहरुख़ खान सिनेमा के मल्टीप्लेक्स युग की देन है, जिसे महानगरों में लोकप्रियता मिली और फिर एक इलीट समूह ने उसे 'किंग' कह दिया। SRK को आज भी गाँवों के लोग पसंद नहीं करते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
242,615FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe