Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजमदरसे में 11 साल के बच्चे की जमकर पिटाई, मौलवी ने जंजीर से बाँधा:...

मदरसे में 11 साल के बच्चे की जमकर पिटाई, मौलवी ने जंजीर से बाँधा: जम्मू-कश्मीर की घटना, जानिए कैसे हुआ आजाद

एक दिन जब मौलवी नमाज की तैयारी कर रहा था तो मौका देखकर बच्चा भाग गया। उसे जंजीर से बँधा देख लोगों ने पुलिस को सूचना दी। इसके बाद उसे मुक्त कराया गया। आरोपित मौलवी फरार है।

जम्मू-कश्मीर के राजौरी के एक मदरसे से रूह कँपा देने वाली हैवानियत सामने आई है। 11 साल के बच्चे को मौलवी ने पहले जमकर पीटा। फिर उसे जंजीर से बाँध दिया। तीन दिन बाद बच्चा किसी तरह मदरसे से भागने में कामयाब रहा। जंजीर से उसके हाथ बँधे देख लोगों ने पुलिस को सूचना दी। फिर बच्चे को मुक्त कराया गया। आरोपित मौलवी बशारत फरार है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पीड़ित बच्चा राजौरी के अंडरूथ गाँव का रहने वाला है। वह पुल्लिलियां गाँव स्थित मदरसे में 6वीं कक्षा में पढ़ता है। इसी मदरसे के मौलवी बशारत ने शुक्रवार (21 जुलाई, 2023) को उसके साथ बेरहमी से मारपीट की। बच्चा मदरसे से भाग न पाए इसलिए मौलवी ने उसे चेन से बाँध दिया था। तीन दिन बाद रविवार (23 जुलाई, 2023) को मौलवी नमाज की तैयारी कर रहा था। इसी दौरान पीड़ित बच्चा मौका पाकर मदरसे से भाग निकला।

मदरसे से निकलने के बाद डरा-सहमा बच्चा भागता हुआ राजौरी जा पहुँचा। वह मौलवी के चंगुल से तो निकल आया था, लेकिन उसे जिस जंजीर से बाँधा गया था, वह चैन बच्चा नहीं खोल पाया था। ऐसे में लोगों ने उसे जंजीर से बँधा देखकर उससे पूछताछ की। पीड़ित बच्चे ने आपबीती सुनाई। पीड़ित बच्चे ने यह भी बताया कि मौलवी की प्रताड़ना से तंग आकर वह इससे पहले भी भागकर अपने गाँव चला गया था। लेकिन तब घर वालों ने उसे वापस मदरसा भेज दिया था।

बच्चे की बात सुनने के बाद लोगों ने मामले की जानकारी पुलिस और बाल संरक्षण विभाग को दी। मौके पर पहुँची टीम ने बच्चे के हाथ से जंजीर काटी। फिर उसे मेडिकल के लिए हॉस्पिटल ले जाया गया। पुलिस के पहुँचने से पहले ही आरोपित मौलवी बशारत फरार हो चुका था। पुउसकी तलाश जारी है। बाल संरक्षण इकाई की कानूनी अधिकारी शिवांगी कांत शर्मा का कहना है कि बच्चे को सुरक्षित स्थान पर रखा गया है। मामला गंभीर है। आरोपितों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

तिब्बत को संरक्षण देने के लिए अमेरिका ने बनाया कानून, चीन से दो टूक – दलाई लामा से बात करो: जानिए क्या है उस...

14वें दलाई लामा 1959 में तिब्बत से भागकर भारत आ गये, जहाँ उन्होंने हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में निर्वासित सरकार स्थापित की थी।

बिहार में निर्दलीय शंकर सिंह ने जदयू-राजद को हराया, बंगाल में 25 साल की मधुपूर्णा बनीं MLA, हिमाचल में CM सुक्खू की पत्नी जीतीं:...

उप-मुख्यमंत्री व भाजपा नेता विजय सिन्हा ने कहा कि शंकर सिंह भी हमलोग से ही जुड़े हुए उम्मीदवार थे। 'नॉर्थ बिहार लिबरेशन आर्मी' के थे मुखिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -