Wednesday, October 20, 2021
Homeदेश-समाजCRPF ने फिर पेश की मिसाल, अपने ही खून के प्यासे नक्सली की रक्तदान...

CRPF ने फिर पेश की मिसाल, अपने ही खून के प्यासे नक्सली की रक्तदान से बचाई जान

जिन सीआरपीएफ के जवानों पर नक्सली सोमोपूर्ति ने कभी गोलियाँ चलाई होगी, उसी नक्सली की जान CRPF के राजकमल नाम के जवान ने अपना खून देकर बचा लिया

नक्सली और सीआरपीएफ जवानों के बीच गोलीबारी की घटनाएँ आए दिन सुनने को मिलती रहती हैं। जब कभी भी जंगलों में सुरक्षा बल के जवान और नक्सलियों के बीच गोलियाँ चलती है तो किसी न किसी का बेटा, पति या भाई ज़रूर मारा जाता है।

देश में हिंसा के सहारे परिवर्तन की चाह रखने वाले नक्सली आतंकी न सिर्फ देशद्रोही हैं बल्कि मानवीय मूल्यों के भी विरोधी हैं। 29 जनवरी 2019 को झारखंड के खूँटी जिले में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच झड़प की एक ख़बर आई थी।

अमर उजाला ने अपने रिपोर्ट में इस बात का जिक्र किया है कि सीआरपीएफ की 209-कोबरा बटालियन और नक्सलियों के बीच जमकर फायरिंग हुई। दोनों ही तरफ़ से हुई गोलाबारी में पाँच नक्सली मारे गए जबकि दो घायल हो गए थे। दो में से एक घायल नक्सली का नाम सोमोपूर्ति है।

सोमोपूर्ति अपने साथी मृत नक्सली को उठाकर साथ ले जाना चाहता था, इसी दौरान उसे सीआरपीएफ की गोली लगी। सोमोपूर्ति को इलाज के लिए राँची के राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस में भर्ती किया गया। अस्पताल में डॉक्टरों ने बताया कि इसे खून नहीं चढ़ाया गया तो इसकी मौत हो सकती है।

मौके पर नक्सली के जान पहचान का कोई भी व्यक्ति मौजूद नहीं था। इस समय बड़ा सवाल यह था कि खूंखार नक्सली की जान बचाने के लिए खून कौन देगा? ऐसे समय में सीआरपीएफ के कांस्टेबल राजकमल नक्सली की जान बचाने के लिए रक्तदान करने को तैयार हो गए।

जिन सीआरपीएफ के जवानों पर नक्सली सोमोपूर्ति ने कभी गोलियाँ चलाई होगी, उसी नक्सली की जान CRPF के राजकमल नाम के जवान ने अपना खून देकर बचा लिया।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अभी जेल में ही गुजरेंगी आर्यन खान की रातें, SRK के लाडले को नहीं मिली जमानत: पेश हुए थे दो-दो बड़े वकील

ड्रग्स मामले में शाहरुख़ खान के बेटे आर्यन खान को बुधवार (20 अक्टूबर, 2021) को भी जमानत नहीं मिली। स्पेशल NDPS कोर्ट ने नहीं दिया बेल।

‘इस्लाम ही एकमात्र समाधान है’: कानपुर में बिल की पर्ची के जरिए फैलाई जा रही जिहादी विचारधारा, IAS इफ्तिखारुद्दीन की भी यही भाषा

उत्तर प्रदेश स्थित कानपुर के कुछ कारोबारी व्यापारिक प्रतिष्ठानों के माध्यम से जिहादी विचारधारा फैला रहे हैं। ये लोग इस्लामी धर्मांतरण को बढ़ावा देने वाले IAS इफ्तिखारुद्दीन से प्रेरित हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
130,199FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe