Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजगुदाद्वार और मुँह में डाल दिया लिंग, पाँव पर गिरा फिर भी नहीं पसीजा...

गुदाद्वार और मुँह में डाल दिया लिंग, पाँव पर गिरा फिर भी नहीं पसीजा दिल… बाप-भाई से भी भयानक सूरज रेवन्ना की करतूतें, पार्टी कार्यकर्ता को ही बनाया शिकार

इस दौरान सूरज रेवन्ना ने पीड़ित से कहा कि ये उनके लिए उसके साथ पहली बार सेक्स का अनुभव है, अगली बार वो और अच्छे से करेंगे। साथ ही पीड़ित को नौकरी का भी झाँसा दिया गया।

पूर्व प्रधानमंत्री HD देवगौड़ा का परिवार लगातार आ रहे दुष्कर्म के मामलों के कारण विवादों में है। उनके बेटे रेवन्ना पर बलात्कार का आरोप लगा, इसके बाद पोते प्रज्वल पर भी यही आरोप लगा, अब एक अन्य पोते सूरज पर तो पार्टी के पुरुष कार्यकर्ता के साथ ही कुकर्म करने का आरोप लगा है। सूरज और प्रज्वल, दोनों ही रेवन्ना के बेटे हैं। तीनों पिता-पुत्र फ़िलहाल जेल में बंद हैं। इनकी पार्टी JDS कर्नाटक में कई बार सत्ता में रह चुकी है। देवगौड़ा के एक अन्य बेटे HD कुमारस्वामी मुख्यमंत्री रहे हैं।

सूरज रेवन्ना ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ता के साथ उसकी आपत्तियों के बावजूद सेक्स किया और साथ ही कहा कि अगली बार सब कुछ और अच्छे से होगा। कर्नाटक के हासन जिले के गन्नीकडा स्थित अपने फार्महाउस में सूरज रेवन्ना ने पार्टी कार्यकर्ता के साथ कुकर्म किया। ये घटना 16 जून, 2024 की है। इस दौरान सूरज रेवन्ना ने पीड़ित से कहा कि ये उनके लिए उसके साथ पहली बार सेक्स का अनुभव है, अगली बार वो और अच्छे से करेंगे।

साथ ही पीड़ित को नौकरी का भी झाँसा दिया गया। 16 जून को सूरज ने पीड़ित को दोपहर के 2 बजे कहा कि वो शाम के 6-6:30 के बीच उनके फार्महाउस पर आ जाए। जैसे ही वो पहुँचा, दर्ज ने उससे दरवाजा बंद करने को कहा और उसके कंधे पर अपना हाथ रख दिया। इसके बाद वो उसके कानों को सहलाने लगे और उसके गाल पर किस कर लिया। उन्होंने पार्टी के कार्यकर्ता के होंठों को काटना शुरू कर दिया। FIR के अनुसार, पीड़ित ने विरोध किया तो सूरज रेवन्ना ने उसकी हत्या तक की धमकी दे डाली।

इसके बाद उसके मुँह और गुदाद्वार का इस्तेमाल करते हुए सूरज रेवन्ना ने सेक्स किया। पीड़ित इस दौरान उनके पाँव पड़ कर माफ़ी माँगता रहा, लेकिन सूरज रेवन्ना का दिल नहीं पसीजा। उन्होंने कहा कि अगर पीड़ित जब वो बुलाते हैं तब आ जाता है और मैसेजों का सही से जवाब देता है तो उसे नौकरी दी जाएगी। पीड़ित इसके बाद अवसाद में चला गया और उसने हनुमनहल्ली के रहने वाले सूरज रेवन्ना के सहायक शिवकुमार को इसके बारे में बताया। शिवकुमार ने उलटे उस पर ही पैसे लेकर मामला शांत करने का दबाव बनाया और उसे ब्लैकमेल किया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -