Wednesday, December 1, 2021
Homeदेश-समाजझारखंड में 45 साल के पंकज की पीट-पीटकर हत्या, इश्तियाक मियाँ सहित 3 गिरफ्तार:...

झारखंड में 45 साल के पंकज की पीट-पीटकर हत्या, इश्तियाक मियाँ सहित 3 गिरफ्तार: मस्जिद के बगल में रहते थे, दिव्यांग हैं दोनों बेटे

पंकज चौधरी को मेलाटांड इलाके में घेर कर मारा गया। वह परिवार में कमाने वाला एकलौता सदस्य था। पंकज लकड़ी मिस्त्री का काम कर परिवार का पेट पालता था।

झारखंड के जिला खूँटी में 45 वर्षीय पंकज चौधरी नाम की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। घटना खूँटी जिले के तपकारा थानाक्षेत्र की है। शनिवार (23 अक्टूबर 2021) की रात इसे अंजाम दिया गया। पंकज को बेहद मामूली कहासुनी के चलते मारा गया।

बुरी तरह से घायल पंकज चौधरी को पहले तोपरा अस्पताल में भर्ती करवाया गया। हालत गंभीर होने पर रांची के रिम्स अस्पताल रेफर किया गया। रविवार की सुबह रिम्स अस्पाल ने उन्होंने दम तोड़ दिया। मौत की वजह आंतरिक चोटें और अधिक खून बह जाना बताया गया है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इस मामले में नामजद तहरीर थाना तपकारा में दी गई है। तहरीर के आधार पर इश्तियाक मियाँ उर्फ़ ताजो, नाज़िर अंसारी और सुहैल आलम को गिरफ्तार कर लिया गया है। तहरीर पंकज की पत्नी की तरफ से दी गई है।

हमलवारों ने इस घटना को पुलिस थाने से मात्र 50 मीटर की दूरी पर अंजाम दिया था। पंकज चौधरी को मेलाटांड इलाके में घेर कर मारा गया। वह परिवार में कमाने वाला एकलौता सदस्य था। पंकज लकड़ी मिस्त्री का काम कर परिवार का पेट पालता था। वह अपने परिवार के साथ तपकारा मस्जिद के बगल रहता था। उसके दोनों बेटे सत्यम और सूरज दिव्यांग हैं। पंकज की एक बेटी भी है, जिसका नाम शिवानी है। वह कक्षा 9 में पढ़ती है।

मृतक पंकज का परिवार, स्रोत – जागरण

पंकज की मौत की खबर फैलते ही स्थानीय लोग आक्रोशित हो गए। भीड़ ने तपकरा थाने पर प्रदर्शन शुरू कर दिया। मौके पर पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। घटना की सूचना पर भारतीय जनता पार्टी के तोरपा विधायक कोचे मुंडा भी पहुँचे। उनकी मौजूदगी में अधिकारियों ने पंकज के परिवार को 20 हजार रुपये की सहायता दी।

विधायक मुंडा ने पुलिस से निष्पक्ष जाँच करवाने की माँग की। पुलिस ने भी आरोपितों को कड़ी सज़ा दिलाने का आश्वासन दिया। स्थानीय लोगों ने पीड़ित परिवार के बच्चों को दिव्यांग पेंशन, पत्नी को विधवा पेंशन और आवास देने की माँग की। स्थिति को सामान्य करने के लिए पुलिस ने इलाके में फ्लैग मार्च भी किया है।

इस घटनाक्रम पर ऑपइंडिया ने स्थानीय टपकारा थाना प्रभारी सत्यजीत से बात की। उन्होंने बताया कि इस घटना में कोई भी साम्प्रदायिक विवाद जैसी बात नहीं हैं। उन्होंने ये भी कहा कि पंकज डायबिटीज का मरीज था जिसके चलते चोट के बाद उसका खून बहना नहीं बंद हो पाया। साथ ही उन्होंने बताया कि स्थानीय लोगों ने जल्द ही शांति कमेटी की बैठक प्रस्तावित की है। थाना प्रभारी ने बताया कि आरोपितों पर धारा 341, 323, 325 , 307, 34 के तहत मुकदमा पंजीकृत किया गया था। सभी आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। पंकज की मृत्यु के बाद पुलिस ने न्यायालय में धारा 302 जोड़ने का आवेदन दिया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe