Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाज'तुम्हारी बेटी मेरे पास है, ज्यादा हाथ-पाँव मत मारो, जान से मार देंगे': RJD...

‘तुम्हारी बेटी मेरे पास है, ज्यादा हाथ-पाँव मत मारो, जान से मार देंगे’: RJD नेता शकील अख्तर ने नाबालिग को अगवा किया, धमकाया

"ज्यादा चिंता एवं खोजबीन करने की जरूरत नहीं है। तुम्हारी बेटी मेरे पास है। ज्यादा हाथ-पॉंव मत मारो नहीं तो तुम्हारी बेटी और तुम लोगों को जान से मार देंगे।"

झारखंड के लोहरदगा से एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार राजद जिलाध्यक्ष शकील अख्तर के खिलाफ एक नाबालिग लड़की को अगवा करने का मामला दर्ज किया गया है। उस पर पीड़ित परिवार को धमकाने का भी आरोप है।

शकील को इसी साल जनवरी में लोहरदगा जिले की कमान मिली थी। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार पीड़िता की माँ की शिकायत पर शकील पर भादवि धारा 366ए, 363 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

घटना सेन्हा थाना क्षेत्र के झखरा गाँव की है। शकील अख्तर 16 जून को गाँव की एक नाबालिग को अगवा कर फरार हो गया। साथ ही उसने पीड़िता की के माँ- बाप को फ़ोन कर धमकी भी दी।

नाबालिग की मॉं के अनुसार 16 जून की सुबह वह और उनकी बेटी सोकर उठी। वह रसोई में काम करने लगी। कुछ देर बाद बेटी नहीं मिली। घर और आसपास खोजबीन करने पर भी उसका पता नहीं चला। उसी दिन शाम के करीब 5:30 बजे शकील अख्तर ने उनके मोबाइल पर फोन कर कहा कि ज्यादा चिंता एवं खोजबीन करने की जरूरत नहीं है। तुम्हारी बेटी मेरे पास है। ज्यादा हाथ-पॉंव मत मारो नहीं तो तुम्हारी बेटी और तुम लोगों को जान से मार देंगे।

इसके बाद उसने पुलिस को सूचना दी और अपहरण का मामला दर्ज कराया। उन्होंने शकील अख्तर पर गलत नीयत से अपनी बेटी के अपहरण का आरोप लगाया है। साथ ही उसके साथ अनहोनी की आशंका जताई है।

इस संबंध में राजद के प्रदेश अध्यक्ष अभय कुमार सिंह ने प्रतिक्रिया देने से इनकार किया है। उनका कहना है कि उन्हें मामले की जानकारी नहीं है। एफआईआर की कॉपी देखने के बाद ही वे कुछ कह पाएँगे।

गौरतलब है कि हाल ही में झारखंड के लातेहार से गैंगरेप का मामला सामने आया था। तीन युवतियों को रास्ते से अगवा करने उनके साथ दुष्कर्म किया गया था। पिछले महीने राज्य के साहिबगंज जिले में बगीचे में गई एक नाबालिग के साथ इदगार शेख, शाहनवाज शेख और एकरामुल शेख ने रेप किया था। मामला दो समुदाय से जुड़ा होने के कारण इलाके में तनाव पैदा हो गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अपनी मौत के लिए दानिश सिद्दीकी खुद जिम्मेदार, नहीं माँगेंगे माफ़ी, वो दुश्मन की टैंक पर था’: ‘दैनिक भास्कर’ से बोला तालिबान

तालिबान प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा कि दानिश सिद्दीकी का शव युद्धक्षेत्र में पड़ा था, जिसकी बाद में पहचान हुई तो रेडक्रॉस के हवाले किया गया।

विवाद की जड़ में अंग्रेज, हिंसा के पीछे बांग्लादेशी घुसपैठिए? असम-मिजोरम के बीच झड़प के बारे में जानें सब कुछ

असल में असम से ही कभी मिजोरम अलग हुआ था। तभी से दोनों राज्यों के बीच सीमा-विवाद चल रहा है। इस विवाद की जड़ें अंग्रेजों के काल में हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,381FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe