Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाजराँची के 4 मंदिरों में तोड़फोड़, कटर से काट दी देवी-देवताओं की प्रतिमाएँ: 3...

राँची के 4 मंदिरों में तोड़फोड़, कटर से काट दी देवी-देवताओं की प्रतिमाएँ: 3 दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली

सुबह लोगों को पता चला कि मुड़मा स्थित महावीर मंदिर, छोटा बजरंग बली मंदिर, बूढ़ा महादेव और मड़ई देवी मंडप में किसी असामाजिक तत्व ने न सिर्फ तोड़फोड़ की थी बल्कि मूर्तियों को कटर चला कर काट दिया था।

झारखंड की राजधानी राँची में एक साथ कई हिन्दू मंदिरों में तोड़फोड़ की खबर है। तोड़फोड़ के दौरान देवी-देवताओं की मूर्तियों को कटर से काटा गया है। इस घटना के बाद हिन्दू संगठनों ने नाराजगी जताते हुए प्रदर्शन किया है। शुक्रवार (17 नवंबर, 2023) को सामने आई इस घटना में फ़िलहाल पुलिस अभी तक किसी भी आरोपित को गिरफ्तार नहीं कर पाई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक घटना राँची के मांडर इलाके की है। यहाँ शुक्रवार को जब लोग सुबह उठे तो उनको 4 मंदिरों में देवी-देवताओं की प्रतिमाओं के खंडित होने की जानकारी मिली। लोगों को पता चला कि मुड़मा स्थित महावीर मंदिर, छोटा बजरंग बली मंदिर, बूढ़ा महादेव और मड़ई देवी मंडप में किसी असामाजिक तत्व ने न सिर्फ तोड़फोड़ की थी बल्कि मूर्तियों को कटर चला कर काट दिया था। थोड़ी ही देर में क्षतिग्रस्त प्रतिमाओं के फोटो और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गए।

वहीं इस घटना से नाराज लोगों ने सड़क पर उतर कर प्रदर्शन किया। इस दौरान जाम लगाया गया और आरोपितों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने की माँग की गई। हालात को सँभालने पहुँचीं पुलिस ने नाराज लोगों को समझाया और शांत करवाया। छठ पर्व होने की वजह से लोगों ने प्रशासन का सहयोग किया। हालाँकि, इस दौरान जल्द कार्रवाई करने का अल्टीमेटम भी दिया गया। पुलिस ने अज्ञात आरोपितों के खिलाफ केस दर्ज कर जाँच शुरू कर दी। हालाँकि अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है।

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता बाबूलाल मरांडी ने राज्य में मंदिरों को क्षतिग्रस्त होने जैसी घटनाओं के आम बात हो जाने का आरोप लगाया है। उन्होंने राँची पुलिस द्वारा आरोपितों की जल्द गिरफ्तारी की उम्मीद जताई है। इस मामले में ऑपइंडिया से बात करते हुए स्थानीय भाजपा नेता आनंद सिंह ने इस घटना के पीछे ईसाई मिशनरियों की साजिश की आशंका जताई है। आनंद सिंह ने इस मामले में अब तक कोई गिरफ्तारी न होने की वजह प्रशासनिक अधिकारीयों द्वारा की जा रही ढिलाई को जिम्मेदार बताया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सेजल, नेहा, पूजा, अनामिका… जरूरी नहीं आपके पड़ोस की लड़की ही हो, ये पाकिस्तान की जासूस भी हो सकती हैं: जानिए कैसे ISI के...

पाकिस्तानी ISI के जासूस भारतीय लड़कियों के नाम से सोशल मीडिया पर आईडी बना देश की सुरक्षा से जुड़े लोगों को हनीट्रैप कर रहे हैं।

ऋषिकेश AIIMS में भर्ती अपनी माँ से मिलने पहुँचे CM योगी आदित्यनाथ, रुद्रप्रयाग हादसे के पीड़ितों को भी नहीं भूले

उत्तराखंड के ऋषिकेश से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यमकेश्वर प्रखंड का पंचूर गाँव में ही योगी आदित्यनाथ का जन्म हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -