Wednesday, April 21, 2021
Home देश-समाज हलाल नहीं... झटका मीट ऑनलाइन ऑर्डर कर मँगवा सकते हैं अब आप: वराह फाउंडेशन...

हलाल नहीं… झटका मीट ऑनलाइन ऑर्डर कर मँगवा सकते हैं अब आप: वराह फाउंडेशन की नई शुरुआत

"आजकल लोग ऑनलाइन खरीददारी करते हैं और कोई भी ऑनलाइन पोर्टल झटका मीट की डिलीवरी नहीं करता है। इस वजह से खटिक समुदाय के लोगों का मीट नहीं बिक पाता। मजबूरी में खटिक समुदाय के दो भाइयों ने इस्लाम अपना लिया, ताकि वो हलाल मांस बेच सकें।"

देश में ऐसी कंपनी, वेबसाइट या रेस्टॉरेंट की कमी नहीं है, जो सिर्फ हलाल मीट ही बेचती है। लेकिन देश में एक भी ऐसा प्लेटफॉर्म अब तक नहीं था, जहाँ झटका मीट बेचा जाता हो। जिसकी वजह से हिंदुओं और सिखों के सामने हलाल मीट के अलावा और कोई विकल्प ही नहीं रह जाता है, या फिर यूँ कहें कि उन पर हलाल मीट थोपा जाता है।

ऐसे में ‘वराह फाउंडेशन’ नाम की एक संस्था ने हिंदुओं और सिखों की दुविधा और परेशानियों को समझते हुए एक प्लेटफॉर्म की शुरुआत की है। जहाँ पर सिर्फ झटका मीट और झटका मीट से बने प्रोडक्ट ही बेचे जाएँगे। इस वेबसाइट के माध्यम से हिंदू और सिख समुदाय के लोग बेहिचक होकर झटका मीट मँगवा सकते हैं।

ऑपइंडिया ने इस बाबत वराह फाउंडेशन के सदस्य से बात की। जब हमने उनसे पूछा कि इस प्लेटफॉर्म को शुरू करने के पीछे उनका क्या मकसद था? उन्हें ऐसा क्यों लगा कि भारत में इसे खोलने की जरूरत है? तो उन्होंने इसका जवाब देते हुए कहा, “इंडिया में ऐसा कोई ऐप नहीं था, जिस पर झटका मीट मिलता हो। हमने हिंदुओं और सिखों के लिए इसे खोला है।”

उन्होंने आगे कहा, “हिंदू और सिख सिर्फ झटका मीट खाते हैं और अगर उन्हें घर बैठे मीट खाने का मन करेगा, तो वो कहाँ जाएँगे। इसलिए हमने इसकी शुरुआत की। इस पर सभी झटका करने वाले बूचर्स के नाम, एड्रेस, फोन नंबर होंगे। कस्टमर चाहें तो यहाँ ऑर्डर करें या फिर सीधा बूचर के पास जाकर ले आ सकते हैं।”

जब हमने उनसे पूछा कि ये काम किस तरह से करेगी तो उन्होंने कहा कि इसके लिए होम डिलीवरी और पिक-अप सब कुछ उपलब्ध है। फाउंडेशन की ओर से बताया गया कि अभी लॉकडाउन की वजह से काफी जगहों पर होम डिलीवरी नहीं हो पा रही है, क्योंकि कई जगहों पर डिलीवरी ब्वॉय को जाने की अनुमति नहीं है, इस वजह से थोड़ी दिक्कत हो रही है।

इसके माध्यम से लोग देश के भीतर कहीं भी झटका मीट ऑर्डर कर सकते हैं। फिलहाल गुड़गाँव, नोएडा में होम डिलीवरी की सुविधा उपलब्ध है। इसके अलावा दिल्ली और पुणे में कुछ एरिया में होम डिलीवरी की जा रही है, क्योंकि बाकी एरिया को सील कर दिया गया है। लॉकडाउन हटते ही इसे पूरे देश भर में इस सुविधा को लॉन्च किया जाएगा। इसके वेबसाइट का नाम है – झटैक.कॉम (jhattack.com)

वराह फाउंडेशन ने इसकी शुरुआत के पीछे की एक और वजह खटिक समुदाय को रोजगार उपलब्ध करवाना बताया। उन्होंने बताया कि झटका मीट की डिमांड कम होने की वजह से काफी लोगों का रोजगार छिन गया। फाउंडेशन की ओर से बताया गया कि उन्होंने खटिक समुदाय के 30 लोगों से बात की है।

उनके मुताबिक 30 में से 27 लोगों ने अब झटका मीट का कारोबार करना बंद कर दिया और इनमें से एक व्यक्ति के दो चचेरे भाइयों ने इस्लाम अपना लिया, ताकि वो हलाल मांस बेच सकें। और हलाल मांस का काम सिर्फ समुदाय के लोग ही कर सकते हैं, इसमें दूसरे मजहब वालों को रोजगार नहीं दिया जाता है।

इस्लाम कबूल करने वाले खटिक समुदाय के लोगों ने बताया कि पहले समुदाय विशेष के लोग उनसे मांस नहीं खरीदते थे, जिसकी वजह से उन्होंने अपना घर चलाने के लिए इस्लाम कबूल कर हलाल मांस का कारोबार करना शुरू कर दिया।

फाउंडेशन का कहना है कि झटका मांस की डिमांड कम होने की वजह उसके बारे में जानकारी का अभाव है। आजकल सभी लोग ऑनलाइन खरीददारी करते हैं और कोई भी ऑनलाइन पोर्टल झटका मीट की डिलीवरी नहीं करता है। इस वजह से खटिक समुदाय के लोगों का मीट नहीं बिक पाता है। मगर अब खटिक समुदाय के बूचर इस ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर अपना नाम रजिस्टर करवा कर रोजगार कर सकेंगे।

झटका सर्टिफिकेशन अथाॅरिटी के चेयरमैन रवि रंजन सिंह बताते हैं कि ‘झटका‘ हिन्दुओं, सिखों आदि भारतीय, धार्मिक परम्पराओं में ‘बलि/बलिदान’ देने की पारम्परिक पद्धति है। इसमें जानवर की गर्दन पर एक झटके में वार कर रीढ़ की नस और दिमाग का सम्पर्क काट दिया जाता है, जिससे जानवर को मरते समय दर्द न्यूनतम होता है। इसके उलट हलाल में जानवर की गले की नस में चीरा लगाकर छोड़ दिया जाता है, और जानवर खून बहने से तड़प-तड़प कर मरता है।

इसके अलावा मारे जाते समय जानवर को मजहब के पवित्र स्थल मक्का की तरफ़ ही चेहरा करना होगा। लेकिन सबसे आपत्तिजनक शर्तों में से एक है कि हलाल मांस के काम में ‘काफ़िरों’ (‘बुतपरस्त’, जैसे हिन्दू) को रोज़गार नहीं मिलेगा। यानी कि यह काम सिर्फ समुदाय का आदमी ही कर सकता है।

इसमें जानवर/पक्षी को काटने से लेकर, पैकेजिंग तक में सिर्फ और सिर्फ समुदाय के लोग ही शामिल हो सकते हैं। मतलब, इस पूरी प्रक्रिया में, पूरी इंडस्ट्री में एक भी नौकरी दूसरे धर्म वालों के लिए नहीं है। यह पूरा कॉन्सेप्ट ही हर नागरिक को रोजगार के समान अवसर देने की अवधारणा के खिलाफ है। बता दें कि आज McDonald’s और Licious जैसी कंपनियाँ सिर्फ हलाल मांस बेचती है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

देश को लॉकडाउन से बचाएँ, आजीविका के साधन बाधित न हों, राज्य सरकारें श्रमिकों में भरोसा जगाएँ: PM मोदी

"हमारा प्रयास है कि कोरोना वायरस के प्रकोप को रोकते हुए आजीविका के साधन बाधित नहीं हों। केंद्र और राज्यों की सरकारों की मदद से श्रमिकों को भी वैक्सीन दी जाएगी। हमारी राज्य सरकारों से अपील है कि वो श्रमिकों में भरोसा जगाएँ।"

‘दिल्ली के अस्पतालों में कुछ ही घंटे का ऑक्सीजन बाकी’, केजरीवाल ने हाथ जोड़कर कहा- ‘मोदी सरकार जल्द करे इंतजाम’

“दिल्ली में ऑक्सीजन की भारी किल्लत है। मैं फिर से केंद्र से अनुरोध करता हूँ दिल्ली को तत्काल ऑक्सीजन मुहैया कराई जाए। कुछ ही अस्पतालों में कुछ ही घंटों के लिए ऑक्सीजन बची हुई है।”

पत्रकारिता का पीपली लाइवः स्टूडियो से सेटिंग, श्मशान से बरखा दत्त ने रिपोर्टिंग की सजाई चिता

चलते-चलते कोरोना तक पहुँचे हैं। एक वर्ष पहले से किसी आशा में बैठे थे। विशेषज्ञ को लाकर चैनल पर बैठाया। वो बोला; इतने बिलियन संक्रमित होंगे। इतने मिलियन मर जाएँगे।

यूपी में दूसरी बार बिना मास्क धरे गए तो ₹10,000 जुर्माने के साथ फोटो भी होगी सार्वजनिक, थूकने पर 500 का फटका

उत्तर प्रदेश में पब्लिक प्लेस पर थूकने वालों के खिलाफ सख्ती करने का आदेश जारी किया गया है। इसके तहत यदि कोई व्यक्ति पब्लिक प्लेस में थूकते हुए पकड़ा गया तो उस पर 500 रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा।

हाँ, हम मंदिर के लिए लड़े… क्योंकि वहाँ लाउडस्पीकर से ऐलान कर भीड़ नहीं बुलाई जाती, पेट्रोल बम नहीं बाँधे जाते

हिंदुओं को तीन बातें याद रखनी चाहिए, और जो भी ये मंदिर-अस्पताल की घटिया बाइनरी दे, उसके मुँह पर मार फेंकनी चाहिए।

दिल्ली-महाराष्ट्र में लॉकडाउन: राहुल गाँधी ने एक बार फिर राज्यों की नाकामी के लिए मोदी सरकार को ठहराया जिम्मेदार

"प्रवासी एक बार फिर पलायन कर रहे हैं। ऐसे में केंद्र सरकार की जिम्मेदारी है कि उनके बैंक खातों में रुपए डाले। लेकिन कोरोना फैलाने के लिए जनता को दोष देने वाली सरकार क्या ऐसा जन सहायक कदम उठाएगी?"

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

‘छोटा सा लॉकडाउन, दिल्ली छोड़कर न जाएँ’: इधर केजरीवाल ने किया 26 अप्रैल तक कर्फ्यू का ऐलान, उधर ठेकों पर लगी कतार

केजरीवाल सरकार ने 26 अप्रैल की सुबह 5 बजे तक तक दिल्ली में लॉकडाउन की घोषणा की है। इस दौरान स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त कर लेने का भरोसा दिलाया है।

नासिर ने बीड़ी सुलगाने के लिए माचिस जलाई, जलती तीली से लाइब्रेरी में आगः 3000 भगवद्गीता समेत 11 हजार पुस्तकें राख

कर्नाटक के मैसूर की एक लाइब्रेरी में आग लगने से 3000 भगवद्गीता समेत 11 हजार पुस्तकें राख हो गई थी। पुलिस ने सैयद नासिर को गिरफ्तार किया है।

‘सुअर के बच्चे BJP, सुअर के बच्चे CISF’: TMC नेता फिरहाद हाकिम ने समर्थकों को हिंसा के लिए उकसाया, Video वायरल

TMC नेता फिरहाद हाकिम का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल है। इसमें वह बीजेपी और केंद्रीय सुरक्षा बलों को 'सुअर' बता रहे हैं।

‘मैं इसे किस करूँगी, हाथ लगा कर दिखा’: मास्क के लिए टोका तो पुलिस पर भड़की महिला, खुद को बताया SI की बेटी-UPSC टॉपर

महिला ने धमकी देते हुए कहा कि उसका बाप पुलिस में SI के पद पर है। साथ ही दिल्ली पुलिस को 'भिखमंगा' कह कर सम्बोधित किया।

‘F@#k Bhakts!… तुम्हारे पापा और अक्षय कुमार सुंदर सा मंदिर बनवा रहे हैं’: कोरोना पर घृणा की कॉमेडी, जानलेवा दवाई की काटी पर्ची

"Fuck Bhakts! इस परिस्थिति के लिए सीधे वही जिम्मेदार हैं। मैं अब भी देख रहा हूँ कि उनमें से अधिकतर अभी भी उनका (पीएम मोदी) बचाव कर रहे हैं।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,304FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe