Sunday, August 1, 2021
Homeदेश-समाज'आग लगाओ आग': मेवात में जुनैद की मौत के बाद भीड़ ने किया पुलिस...

‘आग लगाओ आग’: मेवात में जुनैद की मौत के बाद भीड़ ने किया पुलिस पर हमला; लाठी-डंडे-पत्थर फेंकने के बाद लगाई आग

वीडियो में देख सकते हैं कि बीच रोड पर भीड़ बेकाबू हो गई है। पुलिस की गाड़ी पर लाठी डंडों और पत्थरों से वार हो रहा है। गाली दे देकर लुंगी पहने लोग उस पर लात मार रहे हैं। कई किशोर गाड़ी पर पत्थर फेंक रहे हैं। बीच में आवाज भी आती है- आग लगाओ आग।

हरियाणा के मेवात में पुलिस कस्टडी में एक युवक की मौत के बाद समुदाय विशेष के लोगों ने पुलिस पर हमला बोल दिया। मृतक के परिजनों ने ग्रामीणों के साथ मिलकर पुलिस पर पथराव किया, गाड़ी में तोड़फोड़ की और बाद में उसमें आग लगा दी।

दरअसल, 2 हफ्ते पहले जुनैद नाम के शख्स को फरीदाबाद पुलिस की क्राइम ब्रांच ने धोखाधड़ी मामले में गिरफ्तार किया था। मगर, पुलिस द्वारा कस्टडी में लिए जाने के बाद उसकी मौत हो गई। युवक की मौत से गुस्साए लोगों ने पलवल-होडल रोड जाम कर दिया और जब पुलिस वहाँ जाम को खुलवाने पहुँची तो उन पर हमला कर दिया गया।

रिपोर्ट्स के अनुसार, पुलिस कर्मियों को देखते ही जाम लगाने वाले लड़कों ने उनके वाहनों को क्षतिग्रस्त किया। उसके बाद पुलिस वाहन में आग लगा दी। हालात देख अन्य थाने की पुलिस टीम मौके पर बुलाई गई। कहा जा रहा है कि पुलिस अधिकारियों के समझाने के बाद भीड़ में शामिल लोग सड़क खाली करने को तैयार नहीं हैं। 

ग्रामीणोंं का आरोप है कि पुलिस कर्मियोंं ने युवक को दो दिन तक अवैध हिरासत में रख उसके साथ मारपीट की और बाद में परिजनों से पैसे लेकर उसे छोड़ा। लेकिन थर्ड डिग्री मिलने से जुनैद की मौत हो गई। स्थानीय रिपोर्ट्स बताती हैं कि जुनैद के दो सगे भाई अब भी फरीदाबाद पुलिस की हिरासत में हैं। परिजन कह रहे हैं कि वह बेगुनाह हैं और उन्हें छोड़ा जाए।

मामले के संबंध में सुदर्शन पत्रकार गौरव मिश्रा ने ट्वीट किया है। उन्होंने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को टैग करते हुए पूछा कि आखिर मेवात के हालात कब बदलेंगे। ट्वीट में बताया गया है, “मेवात में आज जुनैद के मौत के बाद पुलिस वालों को शांतिदूतों ने मारा पीटा थाने को आग के हवाले कर दिया पुलिस की गाड़ियों को तोड़ा फोड़ा गया।” 

वीडियो में देख सकते हैं कि बीच रोड पर भीड़ बेकाबू हो गई है। पुलिस की गाड़ी पर लाठी डंडों और पत्थरों से वार हो रहा है। गाली दे देकर लुंगी पहने लोग उस पर लात मार रहे हैं। कई किशोर गाड़ी पर पत्थर फेंक रहे हैं। बीच में आवाज भी आती है- आग लगाओ आग।

गौरतलब है कि हरियाणा का मेवात पिछले साल से चर्चा में है। अभी हाल में ये मेवात आसिफ की मॉब लिंचिंग की वजह से चर्चा में आया था। उससे पहले वहाँ गौ तस्करी और हिंदुओं पर अत्याचार की घटनाओं के कारण मेवात सुर्खियों में था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ममता बनर्जी महान महिला’ – CPI(M) के दिवंगत नेता की बेटी ने लिखा लेख, ‘शर्मिंदा’ पार्टी करेगी कार्रवाई

माकपा नेताओं ने कहा ​कि ममता बनर्जी पर अजंता बिस्वास का लेख छपने के बाद से वे लोग बेहद शर्मिंदा महसूस कर रहे हैं।

‘मस्जिद के सामने जुलूस निकलेगा, बाजा भी बजेगा’: जानिए कैसे बाल गंगाधर तिलक ने मुस्लिम दंगाइयों को सिखाया था सबक

हिन्दू-मुस्लिम दंगे 19वीं शताब्दी के अंत तक महाराष्ट्र में एकदम आम हो गए थे। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक इससे कैसे निपटे, आइए बताते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,404FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe