Tuesday, November 30, 2021
Homeदेश-समाजमेवात के आसिफ की हत्या में सांप्रदायिक एंगल नहीं, पुरानी राजनीतिक दुश्मनी: हरियाणा पुलिस

मेवात के आसिफ की हत्या में सांप्रदायिक एंगल नहीं, पुरानी राजनीतिक दुश्मनी: हरियाणा पुलिस

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र शरजील उस्मानी ने भी मामले में झूठ फैलाते हुए 'जय श्री राम' का एंगल दिया। उसने जस्टिस फॉर आसिफ का हैशटैग देते हुए ट्वीट किया कि 'जय श्री राम' का जाप करने वाला हिंदू किसी आतंकवादी से कम नहीं होता है।

हरियाणा पुलिस ने आसिफ की रविवार (मई 16, 2021) को हुई हत्या में किसी भी तरह के सांप्रदायिक एंगल से इनकार किया है। रिपोर्टों के अनुसार, आसिफ अपने दो चचेरे भाइयों के साथ अपनी बहन के घर से लौट रहा था जब उन पर कथित तौर पर पुरुषों के एक समूह ने हमला किया और उन्हें पीट-पीट कर मार डाला।

हालाँकि, उसकी मृत्यु की रिपोर्ट आने के तुरंत बाद, कुछ मीडिया हाउसों ने दावा किया कि उसे मारे जाने से पहले ‘जय श्री राम’ बोलने के लिए मजबूर किया गया था, जिसकी वजह से घटना ने सांप्रदायिक मोड़ ले लिया।

मकतूब मीडिया रिपोर्ट

केरल स्थित पोर्टल मकतूब मीडिया ने दावा किया कि आसिफ को ‘जय श्री राम का नारा लगाने के लिए मजबूर’ किया गया था और धार्मिक नारे को ‘हिंदू राष्ट्रवादी उग्रवादियों के युद्ध’ के रूप में संदर्भित किया। हालाँकि, मकतूब मीडिया ने इस तथ्य को साबित करने के लिए कोई सबूत पेश नहीं किया।

शरजील उस्मानी का ट्वीट

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र शरजील उस्मानी ने भी मामले में झूठ फैलाते हुए ‘जय श्री राम’ का एंगल दिया। उसने जस्टिस फॉर आसिफ का हैशटैग देते हुए ट्वीट किया कि ‘जय श्री राम’ का जाप करने वाला हिंदू किसी आतंकवादी से कम नहीं होता है। इसके साथ ही एक और ट्वीट में कहा कि 30 हिंदू लोगों के समूह ने आसिफ की हत्या कर दी।

शरजील उस्मानी का ट्वीट

वास्तव में, यहाँ तक ​​कि एक गवाह के शुरुआती बयान में कहा गया था कि कैसे उन पर एक ऐसे समूह द्वारा हमला किया गया, जहाँ ज्यादातर पुरुष उन्हें जानते थे।

वीडियो में सुना जा सकता है कि गवाह ने अपराध के सांप्रदायिक होने का कोई संकेत नहीं दिया।

अब, हरियाणा पुलिस ने भी एक बयान दिया है और किसी भी सांप्रदायिक एंगल से इनकार किया है। पुलिस के मुताबिक आसिफ हत्याकांड के मुख्य आरोपित आसिफ उर्फ सद्दू के खिलाफ दो और प्रदीप उर्फ पटवारी के खिलाफ पाँच मामले दर्ज हैं।

शुरुआती जाँच में पता चला है कि आसिफ सोहना से बसपा नेता जावेद अहमद का करीबी सहयोगी है। वह नूंह से कॉन्ग्रेस विधायक चौधरी आफताब अहमद का रिश्तेदार है। प्रदीप स्थानीय भाजपा नेता भल्ला का करीबी सहयोगी है, जो भाजपा के सोहना विधायक कंवर संजय सिंह के करीबी सहयोगी हैं।

जानकारी के मुताबिक गाँव में दो जाति-आधारित समूह हैं, एक जाकिर जाति का आसिफ और दूसरा गुर्जर जाति का प्रदीप के नेतृत्व में। प्रत्येक ग्रुप में 15-20 सदस्य हैं। करीब 20 दिन पहले आसिफ के गुट ने प्रदीप के गुट के सदस्यों को पीटा था और उसी का बदला लेने के लिए प्रदीप के गुट ने आसिफ पर हमला किया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe