कमलेश तिवारी मर्डर: हत्यारों को पिस्टल देने वाला यूसुफ खान कानपुर से गिरफ्तार

18 अक्टूबर को हिंदू महासभा के पूर्व नेता और हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी दो बदमाशों ने लखनऊ में बेरहमी से हत्या कर दी थी। दोनों बदमाश भगवा कपड़े पहने हुए थे और मिठाई के डिब्बे में पिस्टल व चाकू छिपाकर लाए थे।

हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी के हत्यारों को पिस्टल उपलब्ध कराने के आरोप में एक व्यक्ति की गिरफ्तारी हुई है। आरोपित का नाम यूसुफ खान है। यूपी और गुजरात एटीएस ने संयुक्त कार्रवाई कर उसे कानपुर से दबोचा। बताया जा रहा है कि हत्यारों को सूरत में उसने ही पिस्टल मुहैया करवाई थी।

यूसुफ खान मूल रूप से यूपी के फतेहपुर का रहने वाला है। वह पिछले कुछ समय से गुजरात में रह रहा था। यूसुफ को शुक्रवार (नवंबर 1, 2019) शाम 6 बजे कानपुर के घंटाघर से गिरफ्तार किया गया। उत्तर प्रदेश एटीएस ने अपने बयान में बताया कि 18 अक्टूबर को कमलेश तिवारी की दो लोगों ने हत्या कर दी थी। हत्या के मुख्य आरोपित अशफाक और मोइनुद्दीन उर्फ फरीद पठान पहले ही गिरफ्तार किए जा चुके हैं।

बता दें कि 18 अक्टूबर को हिंदू महासभा के पूर्व नेता और हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी दो बदमाशों ने लखनऊ में बेरहमी से हत्या कर दी थी। दोनों बदमाश भगवा कपड़े पहने हुए थे और मिठाई के डिब्बे में पिस्टल व चाकू छिपाकर लाए थे। दोनों नाका स्थित खुर्शेदबाग की तंग गलियों में स्थित कमलेश के घर पहुँचे। पहली मंजिल स्थित पार्टी दफ्तर में पहले उनकी गर्दन पर गोली मारी थी। फिर चाकू से ताबड़तोड़ वार कर गला रेत दिया था।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इससे पहले गुजरात एटीएस ने कमलेश तिवारी की हत्या के मामले में मौलाना मोहसिन शेख, फैजान, और राशिद अहमद पठान को सूरत से गिरफ्तार किया था। संदिग्ध हत्यारों के मददगार वकील नावेद के साथी कामरान को बरेली से गिरफ्तार किया था। एटीएस के मुताबिक कामरान ने हत्यारों को नेपाल जाने में मदद की थी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

शाहीन बाग़, शरजील इमाम
वे जितने ज्यादा जोर से 'इंकलाब ज़िंदाबाद' बोलेंगे, वामपंथी मीडिया उतना ही ज्यादा द्रवित होगा। कोई रवीश कुमार टीवी स्टूडियो में बैठ कर कहेगा- "क्या तिरंगा हाथ में लेकर राष्ट्रगान गाने वाले और संविधान का पाठ करने वाले देश के टुकड़े-टुकड़े गैंग के सदस्य हो सकते हैं? नहीं न।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

144,546फैंसलाइक करें
36,423फॉलोवर्सफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: