Friday, June 21, 2024
Homeदेश-समाजकमलेश तिवारी मर्डर: हत्यारों को पिस्टल देने वाला यूसुफ खान कानपुर से गिरफ्तार

कमलेश तिवारी मर्डर: हत्यारों को पिस्टल देने वाला यूसुफ खान कानपुर से गिरफ्तार

18 अक्टूबर को हिंदू महासभा के पूर्व नेता और हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी दो बदमाशों ने लखनऊ में बेरहमी से हत्या कर दी थी। दोनों बदमाश भगवा कपड़े पहने हुए थे और मिठाई के डिब्बे में पिस्टल व चाकू छिपाकर लाए थे।

हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी के हत्यारों को पिस्टल उपलब्ध कराने के आरोप में एक व्यक्ति की गिरफ्तारी हुई है। आरोपित का नाम यूसुफ खान है। यूपी और गुजरात एटीएस ने संयुक्त कार्रवाई कर उसे कानपुर से दबोचा। बताया जा रहा है कि हत्यारों को सूरत में उसने ही पिस्टल मुहैया करवाई थी।

यूसुफ खान मूल रूप से यूपी के फतेहपुर का रहने वाला है। वह पिछले कुछ समय से गुजरात में रह रहा था। यूसुफ को शुक्रवार (नवंबर 1, 2019) शाम 6 बजे कानपुर के घंटाघर से गिरफ्तार किया गया। उत्तर प्रदेश एटीएस ने अपने बयान में बताया कि 18 अक्टूबर को कमलेश तिवारी की दो लोगों ने हत्या कर दी थी। हत्या के मुख्य आरोपित अशफाक और मोइनुद्दीन उर्फ फरीद पठान पहले ही गिरफ्तार किए जा चुके हैं।

बता दें कि 18 अक्टूबर को हिंदू महासभा के पूर्व नेता और हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी दो बदमाशों ने लखनऊ में बेरहमी से हत्या कर दी थी। दोनों बदमाश भगवा कपड़े पहने हुए थे और मिठाई के डिब्बे में पिस्टल व चाकू छिपाकर लाए थे। दोनों नाका स्थित खुर्शेदबाग की तंग गलियों में स्थित कमलेश के घर पहुँचे। पहली मंजिल स्थित पार्टी दफ्तर में पहले उनकी गर्दन पर गोली मारी थी। फिर चाकू से ताबड़तोड़ वार कर गला रेत दिया था।

इससे पहले गुजरात एटीएस ने कमलेश तिवारी की हत्या के मामले में मौलाना मोहसिन शेख, फैजान, और राशिद अहमद पठान को सूरत से गिरफ्तार किया था। संदिग्ध हत्यारों के मददगार वकील नावेद के साथी कामरान को बरेली से गिरफ्तार किया था। एटीएस के मुताबिक कामरान ने हत्यारों को नेपाल जाने में मदद की थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -