Tuesday, August 9, 2022
Homeदेश-समाजकानपुर: बजरंग दल कार्यकर्ता पर साजिद ने किया धारदार हथियार से हमला, पुलिस ने...

कानपुर: बजरंग दल कार्यकर्ता पर साजिद ने किया धारदार हथियार से हमला, पुलिस ने पकड़ा

पीड़ित निक्की मिश्रा अकबरपुर देहात के नेहरू नगर के रहने वाले हैं। वे बजरंग दल के नगर संयोजक हैं। घटना के दिन निक्की मिश्रा बाइक पर अपने दोस्त के साथ थे।

UP के कानपुर देहात जिले में बजरंग दल के एक कार्यकर्ता पर जानलेवा हमला किया गया। पीड़ित का नाम निक्की मिश्रा है। आरोपित साजिद राईन ऑटो ड्राइवर है। हमले में धारदार हथियार का प्रयोग किया गया। गंभीर रूप से घायल निक्की मिश्रा को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। आरोपित साजिद को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। घटना 3 जुलाई 2022 (रविवार) की है।

अकबरपुर के DSP ने बताया, “थाना अकबरपुर क्षेत्र में 2 युवकों में विवाद के बाद एक के चोट आई है। पीड़ित की तहरीर के आधार पर उचित धाराओं में केस दर्ज कर मुख्य आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया है। अन्य कानूनी कार्रवाई की जा रही है।”

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पीड़ित निक्की मिश्रा अकबरपुर देहात के नेहरू नगर के रहने वाले हैं। वे बजरंग दल के नगर संयोजक हैं। घटना के दिन निक्की मिश्रा बाइक पर अपने दोस्त के साथ थे। वे दोस्त की बहन की शादी के लिए खरीदारी करने गए थे। उनके आगे चल रहे ऑटो के गैस पॉइंट का ढक्कन खुला था। इसकी जानकारी उन्होंने ऑटो ड्राइवर साजिद को दी।

इसी बात को लेकर साजिद और निक्की में बहस हो गई। बहस के दौरान ही साजिद ने ऑटो से धारदार हथियार निकाल कर निक्की पर हमला कर दिया। इस हमले में निक्की घायल हो गए। उन्हें अस्पताल ले जाया गया। मौका देख साजिद ऑटो लेकर भाग निकला। आरोपित साजिद को स्थानीय लोग मुनक्का नाम से भी बुलाते हैं। बजरंग दल कार्यकर्ताओं की शिकायत के बाद पुलिस ने FIR दर्ज कर आरोपित को गिरफ्तार कर लिया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केजरीवाल ने दिए 9 साल में सिर्फ 857 ऑनलाइन जॉब्स, चुनावी राज्यों में लाखों नौकरियों के वादे: RTI से खुलासा

केजरीवाल के रोजगार को लेकर बड़े-बड़े वादों और विज्ञापनों की पोल दिल्ली में नौकरियों पर डाले गए एक RTI ने खोल दी है।

जब सिंध में हिन्दुओं-सिखों का हो रहा था कत्लेआम, 10000 स्वयंसेवकों के साथ पहुँचे थे ‘गुरुजी’: भारत-Pak विभाजन के समय कहाँ थे कॉन्ग्रेस नेता?

विभाजन के दौरान पाकिस्तान में हिन्दुओं-सिखों की मदद के लिए न आई कोई राजनीतिक पार्टियाँ और ना ही आए वह नेता, जो उस समय इतिहास में खुद को दर्ज कराना चाहते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
212,538FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe