Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजकानपुर: 'मोदी चाय' वाले बुजुर्ग की ईंट से कूचकर हत्या-आँख भी फोड़ी, अखंड रामायण...

कानपुर: ‘मोदी चाय’ वाले बुजुर्ग की ईंट से कूचकर हत्या-आँख भी फोड़ी, अखंड रामायण पाठ से लौट सोए थे दुकान पर

बलराम सचान अन्य दिनों की तरह ही दुकान के बाहर चारपाई पर रात को सोए थे। सुबह लोगों को उनका शव मिला।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से प्रेरित होकर कानपुर में ‘मोदी चाय’ के नाम से दुकान चलाने वाले बुजुर्ग की बेरहमी से हत्या कर दी गई। भाजपा के कार्यक्रमों में गाना गाने वाले बलराम सचान अपनी चाय दुकान के बाहर ही सोते थे। मंगलवार (20 जुलाई 2021) को भी अखंड रामायण पाठ से लौटने के बाद वे अपनी दुकान के बाहर सो गए। लेकिन सुबह उनका शव मिला। पुलिस मामले की जाँच कर रही है।

घटना कानपुर के घाटमपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम बंगलागोपालपुर की है। बलराम सचान ने पीएम मोदी से प्रेरित होकर ‘मोदी चाय’ नाम की एक चाय की दुकान खोल रखी थी। सचान इस चाय की दुकान के माध्यम से अपने परिवार का पालन-पोषण करते थे।

रिपोर्ट्स के अनुसार मंगलवार को सचान अखंड रामायण में पाठ के लिए दुकान के पास ही स्थित एक रिसॉर्ट में गए हुए थे। उसके बाद वे अपनी दुकान लौट आए और दुकान के बाहर ही चारपाई पर सो गए। सुबह लोगों को उनकी लाश मिली। रिपोर्टों के अनुसार ईंटों से कुचलकर सचान की हत्या की गई और हत्यारों ने उनकी आँख भी फोड़ दी। सचान की पत्नी ने बताया कि उनकी किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी। सूचना मिलने पर पुलिस घटनास्थल पर पहुँची और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

कानपुर के पुलिस अधीक्षक ने बताया है कि सूचना मिलने के बाद घाटमपुर थाना प्रभारी ने सचान का शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और उन्होंने खुद घटनास्थल पर जाकर सचान के रिश्तेदारों और गाँव वालों से पूछताछ की। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद आवश्यक कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe