Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाजमस्जिद के पास हो हिंदू का मकान तो क्या होता है, मनीष शुक्ला से...

मस्जिद के पास हो हिंदू का मकान तो क्या होता है, मनीष शुक्ला से पूछिएः दावा- मुस्लिम बहुल इलाके से पलायन की दी चेतावनी, फिर जागी पुलिस

"मैं खुद पीड़ित परिवार के सम्पर्क में हूँ और क्षेत्र में पुलिस मुस्तैदी से गश्त भी कर रही है। पीड़ित परिवार को खतरे जैसी कोई बात नहीं है।"

उत्तर प्रदेश के कानपुर में है, रावतपुर। इसी इलाके के रहमत नगर की मस्जिद के सामने मनीष शुक्ला अपने परिवार के साथ रहते हैं। शुक्ला की माने तो इस मुस्लिम बहुल इलाके में उन्हें परेशान किया जा रहा। शुरुआत में पुलिस ने भी कथित तौर पर उनकी फरियाद अनसुनी कर दी। लेकिन जब उन्होंने पलायन की धमकी दी तो पुलिस हरकत में आई।

शुक्ला का आरोप है कि घर के बाहर खड़ी उनकी कार का शीशा 1 अगस्त 2022 को मुस्लिम समुदाय के लोगों ने तोड़ दिया। उसके पहले भी उनके घर पर पथराव किया गया था। उनकी शिकायत पर मामला दर्ज कर पुलिस जाँच कर रही है। लेकिन मनीष का आरोप है कि घटना के बाद जब वे अपनी शिकायत लेकर पहुँचे तो पुलिस ने उसे गंभीरता से नहीं लिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलिस के रवैए को देख मनीष ने शुक्रवार को न्याय नहीं मिलने पर परिवार सहित इलाके से पलायन की चेतावनी दी। बताया जाता है कि इस इलाके में अब वे इकलौते हिंदू परिवार बचे हैं। मनीष के परिवार में भाई, माँ, पिता, पत्नी और 2 बच्चे हैं। उनका घर रहमत नगर की मस्जिद के सामने बना हुआ है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक कल्याणपुर के पुलिस क्षेत्राधिकारी दिनेश शुक्ला ने कहा, “मनीष के घर के आसपास कोई CCTV कैमरा न होने के चलते आरोपितों की पहचान में दिक्कत आ रही है। उनकी शिकायत पर FIR दर्ज कर लोगों से पूछताछ की जा रही है। जाँच में आरोप सही पाए जाने पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।”

बताया जाता है कि इस मामले में मनीष ने 1 अगस्त को ही पुलिस से शिकायत की थी। लेकिन FIR दर्ज नहीं की गई। न ही किसी आरोपित पर कार्रवाई हुई। ऐसे में मनीष को मजबूर होकर पलायन की चेतावनी देनी पड़ी।

ऑपइंडिया ने इस घटना पर SHO रावतपुर से बात की। उन्होंने बताया, “पलायन जैसी कोई बात नहीं है। पीड़ित ने घर के बाहर कार खड़ी की थी जिसका शीशा चटक गया था। FIR दर्ज कर हम आरोपित की तलाश कर रहे हैं। मैं खुद पीड़ित परिवार के सम्पर्क में हूँ और क्षेत्र में पुलिस मुस्तैदी से गश्त भी कर रही है। पीड़ित परिवार को खतरे जैसी कोई बात नहीं है। इलाके में उनका तमाम लोगों के घर आना-जाना भी लगा रहता है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महाभारत, चाणक्य, मराठा, संत तिरुवल्लुवर… सबसे सीखेगी भारतीय सेना, प्राचीन ज्ञान से समृद्ध होगा भारत का रक्षा क्षेत्र: जानिए क्या है ‘प्रोजेक्ट उद्भव’

न सिर्फ वेदों-पुराणों, बल्कि कामंदकीय नीतिसार और तमिल संत तिरुवल्लुवर के तिरुक्कुरल का भी अध्ययन किया जाएगा। भारतीय जवान सीखेंगे रणनीतियाँ।

जातिवाद, सांप्रदायिकता, परिवारवाद… PM मोदी ने देश को INDI गठबंधन की 3 बीमारियों से किया आगाह, कहा- ये कैंसर से भी अधिक विनाशक

पीएम मोदी ने कहा कि मोदी घर-घर पानी पहुँचा रहा है, सपा-कॉन्ग्रेस वाले आपके घर की पानी की टोंटी भी खोल कर ले जाएँगे और इसमें तो इनकी महारत है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -