Tuesday, September 28, 2021
Homeदेश-समाजकोरोना के कारण काँवड़ यात्रा प्रतिबंधित, नियम तोड़ने वाले 14 काँवड़ियों के खिलाफ उत्तराखंड...

कोरोना के कारण काँवड़ यात्रा प्रतिबंधित, नियम तोड़ने वाले 14 काँवड़ियों के खिलाफ उत्तराखंड में मामला दर्ज

अभय प्रताप सिंह, सीओ सिटी हरिद्वार ने बताया कि काँवड़ यात्रा को कोविड-19 के चलते प्रतिबंधित किया गया है। इसके बावजूद रविवार को हर की पौड़ी पर कुछ लोगों द्वारा नियम तोड़ने का प्रयास किया गया।

कोरोना महामारी के चलते इस साल उत्तराखंड सरकार ने काँवड़ यात्रा को प्रतिबंधित कर दिया है। इसी बीच कुछ लोगों द्वारा नियम तोड़ने की खबर सामने आई है। समाचार न्यूज एजेंसी एएनआई (ANI) के मुताबिक, अभय प्रताप सिंह, सीओ सिटी हरिद्वार ने बताया कि काँवड़ यात्रा को कोविड-19 के चलते प्रतिबंधित किया गया है। इसके बावजूद रविवार (25 जुलाई) को हर की पौड़ी पर कुछ लोगों द्वारा नियम तोड़ने का प्रयास किया गया।

उन्होंने बताया कि नियम तोड़ने वाले 14 लोगों को पकड़कर आपदा अधिनियम के अंतर्गत मुकदमा दर्ज किया गया है। इसके साथ ही इन सबको क्वारंटाइन भी किया गया है।

गौरतलब ​है कि बीते दिनों उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार ने प्रदेश के पड़ोसी राज्यों से आने वाले काँवड़ियों से अनुरोध किया है कि वह कांवड़ लेकर उत्तराखंड के किसी भी शहर में प्रवेश न करें। उन्होंने कहा कि हरिद्वार में कांवड़ियों की एंट्री पर प्रतिबंध लगाया गया है। सावन महीने में यूपी-उत्तराखंड बॉर्डर सील कर दिया जाएगा।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,823FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe