Friday, August 12, 2022
Homeदेश-समाज20 साल से जर्जर था अंग्रेजों के जमाने का अस्पताल: RSS स्वयंसेवकों ने 200...

20 साल से जर्जर था अंग्रेजों के जमाने का अस्पताल: RSS स्वयंसेवकों ने 200 बेड वाले COVID सेंटर में बदला

“जब हम पहली बार यहाँ आए थे, तब अस्पताल जीर्ण-शीर्ण अवस्था में था। अस्पताल के चारों ओर फैले हुए चमगादड़ और 2-3 इंच मिट्टी के टीले थे। यह जालों से भरा हुआ था।"

जब भी देश को संकट का सामना करना पड़ा है, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) ने हमेशा मदद के लिए हाथ बढ़ाया है। इंडिया टुडे में प्रकाशित एक रिपोर्ट में कहा गया है कि इस बार संघ ने कर्नाटक में ब्रिटिश युग के एक बड़े अस्पताल को पुनर्जीवित करने में मदद के लिए कदम आगे बढ़ाया है। राज्य को कोरोना वायरस प्रकोप के नए सिरे से सामना करना पड़ रहा है।

भारत गोल्ड माइन्स लिमिटेड अस्पताल (BGML अस्पताल) दो दशकों से अधिक समय से जर्जर अवस्था में पड़ा था। यह अस्पताल 1880 में डॉ. टीजे ओ’डोनेल और उनके भाई जेडी ओ’डोनेल द्वारा स्थापित किया गया था और इसमें 800 बिस्तरों की क्षमता है। 20वीं सदी की शुरुआत में यह एशिया के सबसे बड़े अस्पतालों में से एक था।

कर्नाटक के कोलार जिले में COVID-19 के लगातार बढ़ते केस को देख कर सांसद एस मुनीस्वामी ने महसूस किया कि बढ़ते मामलों को नियंत्रित करने के लिए एक नया अस्पताल स्थापित करने में अधिक समय लगेगा। इसके बजाय उन्होंने ब्रिटिश-युग के अस्पताल को फिर से चालू करने और संचालित करने का फैसला किया, जो 20 से अधिक वर्षों से निष्क्रिय पड़ा हुआ था। उन्होंने अस्पताल को जल्दी से ठीक करने और इसे एक COVID केयर सेंटर में बदलने के लिए स्वयंसेवकों की सेवाएँ ली।

मोल्डरिंग अस्पताल को COVID-19 सेंटर में बदलने की अपनी योजना पर चर्चा करते हुए, मुनिस्वामी ने कहा, “संघ परिवार और अन्य संगठनों के साथ विचार-विमर्श करने के बाद, हमने 200+ बेड का कोविड केयर सेंटर स्थापित करने का निर्णय लिया। इसे तैयार करने के लिए भाजपा और आरएसएस के लगभग 250 स्वयंसेवकों ने कड़ी मेहनत की। अब चारपाई और बिजली का काम हो गया है और अस्पताल 2-3 दिनों के भीतर चालू हो जाना चाहिए।”

मुनिस्वामी ने केंद्रीय कोयला और खान मंत्री प्रह्लाद जोशी को पत्र लिखकर जिला प्रशासन को इस बड़े अस्पताल को कोविड केयर सेंटर के रूप में उपयोग करने की अनुमति माँगी थी। अधिकारियों के अनुसार, एक समय यह एशिया के सबसे बड़े अस्पताल में से एक था। बिजली और एक्स-रे यूनिट पाने वाले पहले पाने वालों में से एक था।

स्वयंसेवकों ने ऐसे बदली सूरत

लगभग 20 वर्षों से निष्क्रिय पड़े अस्पताल को COVID-19 सेंटर में बदलने के लिए आरएसएस और भाजपा के स्वयंसेवकों ने अस्पताल की सफाई का जिम्मा अपने ऊपर ले लिया। केजीएफ में आरएसएस कार्यकर्ता प्रवीण एस के अनुसार, अस्पताल से 400 ट्रैक्टर से अधिक कचरा हटाया गया।

प्रवीण ने यह भी कहा कि आरएसएस के स्वयंसेवकों के सामने सबसे बड़ी चुनौती अस्पताल की सफाई करना था। उन्होंने कहा, “जब हम पहली बार यहाँ आए थे, तब अस्पताल जीर्ण-शीर्ण अवस्था में था। अस्पताल के चारों ओर फैले हुए चमगादड़ और 2-3 इंच मिट्टी के टीले थे। यह जालों से भरा हुआ था। जब हमने इस कार्य को अपने हाथ में लिया तो कई लोगों को संदेह था कि क्या हम इस कार्य को पूरा कर पाएँगे। हालाँकि आरएसएस, भाजपा, विहिप, सेवा भारती, जन जागरण समिति के स्वयंसेवक अस्पताल की सफाई के अपने संकल्प में अडिग थे। हमने यह काम 27 अप्रैल को शुरू किया था और सात मई तक पाँच एकड़ के इस परिसर की पूरी सफाई का काम पूरा कर लिया गया।”

वर्तमान में, एक अस्पताल के रूप में सुविधा को पूरी तरह कार्यात्मक बनाने के लिए काम चल रहा है। अस्पताल में आईसीयू सुविधाओं के साथ चार कमरे होंगे। बिजली और पाइपलाइन का काम जोरों पर चल रहा है। अधिकारियों ने 140 साल पुरानी लोहे की चारपाई का उपयोग करने का भी फैसला किया है।

प्रवीण ने इंडिया टुडे के साथ एक इंटरव्यू में बताया, “चारपाई लगभग 140 साल पुरानी है और इसका वजन 100 किलो से अधिक है। वे पर्याप्त रूप से मजबूत हैं और उसे उठाने के लिए कम से कम 3-4 लोगों की आवश्यकता होती है। हालाँकि फोर्जिंग सभी पुरानी तकनीकें हैं, फिर भी आप एक और सदी या उससे अधिक के लिए चारपाई का उपयोग कर सकते हैं।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मानसखण्ड मंदिर माला मिशन’ के जरिए प्राचीन मंदिरों को आपस में जोड़ेंगे CM धामी, माँ वाराही देवी मंदिर में पूजा-अर्चना कर बगवाल में हुए...

सीएम धामी ने कुमाऊँ के प्राचीन मंदिरों को भव्य बनाने और उन्हें आपस में जोड़ने के लिये मानसखण्ड मंदिर माला मिशन की शुरुआत की।

जैश के संदिग्ध आतंकी मोहम्मद नदीम को यूपी ATS ने किया गिरफ्तार, नूपुर शर्मा की हत्या का था प्लान, पाकिस्तान से जुड़े तार

यूपी के सहारनपुर से एटीएस ने जैश-ए-मोहम्मद और पाकिस्तान के संगठन तहरीक-ए-तालिबान से जुड़े संदिग्ध आतंकी को गिरफ्तार किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
213,239FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe