Tuesday, June 25, 2024
Homeदेश-समाज20 बच्चों पर एक साथ टूटा दुख का पहाड़, मदद को MLA 'दीदी' ने...

20 बच्चों पर एक साथ टूटा दुख का पहाड़, मदद को MLA ‘दीदी’ ने बढ़ाया हाथ: जानिए कवर्धा के एक गाँव में एक साथ क्यों जले 17 शव, 19 की हुई थी मृत्यु

पंडरिया विधायक भावना बोहरा ने सेमरहा गाँव पहुँच मृतकों के परिजनों से मुलाकात की और 20 बच्चों को गोद लेने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि वह बच्चों के परिजनों की कमी तो पूरी नहीं कर सकती हैं लेकिन उनके सुरक्षित भविष्य की कामना जरूर करती हैं।

छत्तीसगढ़ के कवर्धा के सड़क हादसे में मारे गए 19 लोगों के 20 बच्चों को भारतीय जनता पार्टी की पंडरिया से विधायक भावना बोहरा ने गोद लेने का ऐलान किया है। उन्होंने कहा है कि वो बच्चों की शिक्षा से लेकर, रोजगार और विवाह तक उनकी जिम्मेदारी निभाएँगी।

पंडरिया विधायक ने सेमरहा गाँव पहुँच मृतकों के परिजनों से मुलाकात की और 20 बच्चों को गोद लेने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि वह बच्चों के परिजनों की कमी तो पूरी नहीं कर सकती हैं लेकिन उनके सुरक्षित भविष्य की कामना जरूर करती हैं।

भाजपा विधायक भावना बोहरा ने मीडिया से बात करते हुए कहा, “इस क्षेत्र के लोग मुझे प्यार से ‘दीदी’ कहते हैं, मैं उनकी हर संभव मदद करूँगी…मैंने यह भी कहा है कि गाँव के 18 साल से कम उम्र के उन बच्चों की पढ़ाई और शादी का खर्च उठाऊँगी जिन्होंने अपने माता-पिता को खो दिया है, उनकी संख्या 20 है। हम उन्हें नौकरी दिलाने का प्रयास भी करेंगे।”

इस मामले पर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, प्रधानमंत्री मोदी समेत कई दिग्गज नेताओं ने दुख जताया है। वहीं प्रदेश मुख्यमंत्री विष्णु देव साय ने घटना पर शोक जताते हुए कहा है कि हादसे रोकने के लिए आवश्यक उपाय किए जाएँगे ताकि दोबारा ऐसा कुछ न हो।

बता दें कि छत्तीसगढ़ के कवर्धा में पिकअप वैन खाई में गिरने के कारण हुए भीषण हादसे में 19 लोगों की मौत हो गई थी। दुर्घटना के वक्त पिकअप में 36 लोग सवार थे। ये लोग तेंदूपत्ता तोड़कर वापस लौट रहे थे, तभी कुकदूर थाना क्षेत्र के बाहपानी में ये हादसा हुआ। पिकअप वैन 30 फीट नीचे खाई में गिरी।

बताया जा रहा है कि इस घटना में 19 लोगों की मौत हो गई जिसमें 18 महिलाएँ और 1 आदमी शामिल है। इनमें से 17 का अंतिम संस्कार एक साथ आज हुआ। इन 17 में 11 लाशें एक ही परिवार की थी। वहीं अन्य 2 महिलाओं का अंतिम संस्कार उनके ससुराल में होगा।

प्रशासन ने मृतकों के परिवारों को 5-5 लाख रुपए और घायलों को 50 हजार रुपए मुआवजा देने की घोषणा की है। वहीं इस मामले में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने पिकअप वैन के चालक दिनेश यादव और मालिक रामकृ्ष्ण साहू को गिरफ्तार कर लिया है। इन पर बिना ओवरलोड वाहन चलाने का आरोप लगाया गया है।

अब इनके विरुद्ध 304 के तहत कार्रवाई होगी। मृतकों के परिवार के एक सदस्य ने बताया कि है कि लोग तेंदूपत्ता तोड़ने के लिए रोज जाते थे, कभी बाइक तो कभी फोर व्हीलर से। लेकिन जो गाड़ी चलाता था उसे बिलकुल अनुभव नहीं था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिखर बन जाने पर नहीं आएँगी पानी की बूँदे, मंदिर में कोई डिजाइन समस्या नहीं: राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्रा ने...

श्रीराम मंदिर निर्माण समिति के मुखिया नृपेन्द्र मिश्रा ने बताया है कि पानी रिसने की समस्या शिखर बनने के बाद खत्म हो जाएगी।

दर-दर भटकता रहा एक बाप पर बेटे की लाश तक न मिली, यातना दे-दे कर इंजीनियरिंग छात्र की हत्या: आपातकाल की वो कहानी, जिसमें...

आज कॉन्ग्रेस पार्टी संविधान दिखा रही है। जब राजन के पिता CM, गृह मंत्री, गृह सचिव, पुलिस अधिकारी और सांसदों से गुहार लगा रहे थे तब ये कॉन्ग्रेस पार्टी सोई हुई थी। कहानी उस छात्र की, जिसकी आज तक लाश भी नहीं मिली।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -