Sunday, April 21, 2024
Homeदेश-समाजकेरल में वीर सावरकर पर नाटक का प्रसारण नहीं: कोझिकोड रेडियो स्टेशन ने आकाशवाणी...

केरल में वीर सावरकर पर नाटक का प्रसारण नहीं: कोझिकोड रेडियो स्टेशन ने आकाशवाणी के निर्देशों की उड़ाई धज्जियाँ

अखिल भारतीय रेडियो ने आकाशवाणी की सभी राज्य इकाइयों को चल रहे राष्ट्रीय नाट्य उत्सव में वीर सावरकर पर एक नाटक प्रसारित करने के निर्देश जारी किए थे। मुख्य स्क्रिप्ट आकाशवाणी द्वारा दी गई थी, जबकि स्टेशनों को प्रसारण के लिए अपनी स्थानीय भाषा में इसका अनुवाद करना था।

कोझिकोड आकाशवाणी रेडियो स्टेशन ने वीर सावरकर पर एक नाटक के प्रसारण से इनकार कर दिया है जो इस शुक्रवार को प्रसारित होने वाला था। जन्मभूमि की एक रिपोर्ट के अनुसार, कोझिकोड रेडियो स्टेशन मास्टर ने तिरुवनंतपुरम रेडियो स्टेशन को अपने इस निर्णय के बारे में सूचित कर दिया है।

हालाँकि, कथित तौर पर, स्टेशन प्रमुख ने प्रसारण रद्द करने का कारण ‘कर्मचारियों के बीच कोरोनावायरस संक्रमण में वृद्धि’ को बताया है।

अखिल भारतीय रेडियो ने आकाशवाणी की सभी राज्य इकाइयों को चल रहे राष्ट्रीय नाट्य उत्सव में वीर सावरकर पर एक नाटक प्रसारित करने के निर्देश जारी किए थे। मुख्य स्क्रिप्ट आकाशवाणी द्वारा दी गई थी, जबकि स्टेशनों को प्रसारण के लिए अपनी स्थानीय भाषा में इसका अनुवाद करना था।

बता दें कि केरल में आठ रेडियो स्टेशन हैं, और प्रत्येक को बारी-बारी से नाटक तैयार करना था।

केरल में वीर सावरकर और एमएस गोलवलकर जैसी हस्तियों के लिए घृणा कोई नई बात नहीं है। इस महीने की शुरुआत में, केरल छात्र संघ, कॉन्ग्रेस की छात्र शाखा, ने एक मार्च निकाला था और कन्नूर विश्वविद्यालय के पाठ्यक्रम की प्रतियाँ जलाई थीं, जिसमें सावरकर के “हिंदुत्व: एक हिंदू कौन है” और अन्य से उद्धरण थे।

छात्रसंघ ने विश्वविद्यालय पर संघ परिवार या आरएसएस के एजेंडे को लागू करने और थोपने का भी आरोप लगाया।

गौरतलब है कि सावरकर की किताब, गोलवलकर की “बंच ऑफ थॉट्स” (Golwalkar’s “Bunch of Thoughts”) और “वी ऑर अवर नेशनहुड डिफाइंड” (“We or Our Nationhood Defined” ) और दीनदयाल उपाध्याय के “एकात्म मानववाद” (“Integral Humanism”) के अंशों को कन्नूर विश्वविद्यालय में एमए गवर्नेंस एंड पॉलिटिक्स के पाठ्यक्रम में शामिल किए जाने के बाद यह नया विवाद पैदा हुआ।

हालाँकि, विश्वविद्यालय के प्रोफेसर गोपीनाथ रवींद्रन ने इन आरोपों को खारिज कर दिया था और कहा था कि छात्रों को सभी विचारधाराओं के बारे में सीखना चाहिए। हमने गाँधी जी, नेहरू, अम्बेडकर और टैगोर के कार्यों को शामिल किया है। पाठ्यक्रम में सावरकर और गोलवलकर के कार्य भी शामिल हैं। छात्रों को सभी विचारधाराओं के मूल पाठ को सीखने और समझने दें। उन्होंने कहा, सावरकर और एम एस गोवालकर के बारे में सीखने में कुछ भी गलत नहीं है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जब राष्ट्र में जगता है स्वाभिमान, तब उसे रोकना असंभव’: महावीर जयंती पर गूँजा ‘जैन समाज मोदी का परिवार’, मुनियों ने दिया ‘विजयी भव’...

"हम कभी दूसरे देशों को जीतने के लिए आक्रमण करने नहीं आए, हमने स्वयं में सुधार करके अपनी ​कमियों पर विजय पाई है। इसलिए मुश्किल से मुश्किल दौर आए और हर दौर में कोई न कोई ऋषि हमारे मार्गदर्शन के लिए प्रकट हुआ है।"

कलकत्ता हाई कोर्ट न होता तो ममता बनर्जी के बंगाल में रामनवमी की शोभा यात्रा भी न निकलती: इसी राज्य में ईद पर TMC...

हाई कोर्ट ने कहा कि ट्रैफिक के नाम पर शोभा यात्रा पर रोक लगाना सही नहीं, इसलिए शाम को 6 बजे से इस शोभा यात्रा को निकालने की अनुमति दी जाती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe