Tuesday, October 4, 2022
Homeदेश-समाजकेरल में वीर सावरकर पर नाटक का प्रसारण नहीं: कोझिकोड रेडियो स्टेशन ने आकाशवाणी...

केरल में वीर सावरकर पर नाटक का प्रसारण नहीं: कोझिकोड रेडियो स्टेशन ने आकाशवाणी के निर्देशों की उड़ाई धज्जियाँ

अखिल भारतीय रेडियो ने आकाशवाणी की सभी राज्य इकाइयों को चल रहे राष्ट्रीय नाट्य उत्सव में वीर सावरकर पर एक नाटक प्रसारित करने के निर्देश जारी किए थे। मुख्य स्क्रिप्ट आकाशवाणी द्वारा दी गई थी, जबकि स्टेशनों को प्रसारण के लिए अपनी स्थानीय भाषा में इसका अनुवाद करना था।

कोझिकोड आकाशवाणी रेडियो स्टेशन ने वीर सावरकर पर एक नाटक के प्रसारण से इनकार कर दिया है जो इस शुक्रवार को प्रसारित होने वाला था। जन्मभूमि की एक रिपोर्ट के अनुसार, कोझिकोड रेडियो स्टेशन मास्टर ने तिरुवनंतपुरम रेडियो स्टेशन को अपने इस निर्णय के बारे में सूचित कर दिया है।

हालाँकि, कथित तौर पर, स्टेशन प्रमुख ने प्रसारण रद्द करने का कारण ‘कर्मचारियों के बीच कोरोनावायरस संक्रमण में वृद्धि’ को बताया है।

अखिल भारतीय रेडियो ने आकाशवाणी की सभी राज्य इकाइयों को चल रहे राष्ट्रीय नाट्य उत्सव में वीर सावरकर पर एक नाटक प्रसारित करने के निर्देश जारी किए थे। मुख्य स्क्रिप्ट आकाशवाणी द्वारा दी गई थी, जबकि स्टेशनों को प्रसारण के लिए अपनी स्थानीय भाषा में इसका अनुवाद करना था।

बता दें कि केरल में आठ रेडियो स्टेशन हैं, और प्रत्येक को बारी-बारी से नाटक तैयार करना था।

केरल में वीर सावरकर और एमएस गोलवलकर जैसी हस्तियों के लिए घृणा कोई नई बात नहीं है। इस महीने की शुरुआत में, केरल छात्र संघ, कॉन्ग्रेस की छात्र शाखा, ने एक मार्च निकाला था और कन्नूर विश्वविद्यालय के पाठ्यक्रम की प्रतियाँ जलाई थीं, जिसमें सावरकर के “हिंदुत्व: एक हिंदू कौन है” और अन्य से उद्धरण थे।

छात्रसंघ ने विश्वविद्यालय पर संघ परिवार या आरएसएस के एजेंडे को लागू करने और थोपने का भी आरोप लगाया।

गौरतलब है कि सावरकर की किताब, गोलवलकर की “बंच ऑफ थॉट्स” (Golwalkar’s “Bunch of Thoughts”) और “वी ऑर अवर नेशनहुड डिफाइंड” (“We or Our Nationhood Defined” ) और दीनदयाल उपाध्याय के “एकात्म मानववाद” (“Integral Humanism”) के अंशों को कन्नूर विश्वविद्यालय में एमए गवर्नेंस एंड पॉलिटिक्स के पाठ्यक्रम में शामिल किए जाने के बाद यह नया विवाद पैदा हुआ।

हालाँकि, विश्वविद्यालय के प्रोफेसर गोपीनाथ रवींद्रन ने इन आरोपों को खारिज कर दिया था और कहा था कि छात्रों को सभी विचारधाराओं के बारे में सीखना चाहिए। हमने गाँधी जी, नेहरू, अम्बेडकर और टैगोर के कार्यों को शामिल किया है। पाठ्यक्रम में सावरकर और गोलवलकर के कार्य भी शामिल हैं। छात्रों को सभी विचारधाराओं के मूल पाठ को सीखने और समझने दें। उन्होंने कहा, सावरकर और एम एस गोवालकर के बारे में सीखने में कुछ भी गलत नहीं है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

एक मिनट में दागेगा 750 गोलियाँ, ऊँचाई वाले स्थानों पर दुश्मन की खैर नहीं: जानें 5800 किलो के स्वदेशी ‘प्रचंड’ के बारे में, जो...

'प्रचंड' चॉपर दुश्मनों के लड़ाकू विमानों को ध्वस्त करने, आतंकवाद विरोधी अभियानों को अंजाम देने, कॉम्बैट सर्च और बचाव कार्यों में सक्षम हैं।

कॉन्ग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष ने भारत आए चीतों को बताया लंपी वायरस का कारण, नामीबिया को बताया ‘नाइजीरिया’: BJP नेता ने कहा – इनको...

महाराष्ट्र कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा है कि देश में फैले हुए लंपी वायरस के लिए 'नाइजीरिया' से आए चीते जिम्मेदार हैं। हुई जगहँसाई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
226,129FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe