Thursday, September 16, 2021
Homeदेश-समाजउमर खालिद पर गोली चलने का अकेला चश्मदीद भी यही खालिद सैफ़ी था, जो...

उमर खालिद पर गोली चलने का अकेला चश्मदीद भी यही खालिद सैफ़ी था, जो आज दिल्ली दंगो की साजिश में हुआ गिरफ्तार

"ये हैं खालिद सैफी - दिल्ली दंगो में हथियार लाने और ताहिर हुसैन को हथियार और पैसे दिलवाने के लिए गिरफ्तार। जब उमर खालिद पर गोली चलने की झूठी खबर आई थी। तब मीडिया में गोली चलने का अकेला विटनेस ये खालिद सैफी ही था। मैंने ये बात 13 अगस्त 2018 को ही बताई थी।"

दिल्ली दंगों की साज़िश के मामले में एसआईटी ने खालिद सैफी (Khalid Saifi) को गिरफ्तार किया है। खालिद सैफी (Khalid Saifi) को चाँद बाग में हुई हिंसा की साजिश में शामिल होने के आरोप में अरेस्ट किया गया है।

खालिद सैफी की गिरफ्तारी के बाद भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने कहा कि ये वही खालिद सैफी है जो उमर खालिद पर गोली चलने का अकेला गवाह था।

खालिद सैफी की गिरफ्तारी के बाद भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने ANI की एक पुरानी खबर का स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए लिखा है –

“ये हैं खालिद सैफी – दिल्ली दंगो में हथियार लाने और ताहिर हुसैन को हथियार और पैसे दिलवाने के लिए गिरफ्तार। जब उमर खालिद पर गोली चलने की झूठी खबर आई थी। तब मीडिया में गोली चलने का अकेला विटनेस ये खालिद सैफी ही था। मैंने ये बात 13 अगस्त 2018 को ही बताई थी।”

उमर खालिद को गोली लगने की घटना का अकेला चश्मदीद था खालिद सैफ़ी

दरअसल, JNU छात्र नेता उमर खालिद पर कथित रूप से गोली लगने का यह मामला 13 अगस्त 2018 को सामने आया था। तब कॉन्स्टिट्यूशन क्लब में ‘खौफ से आजादी’ नाम के कार्यक्रम का आयोजन ‘यूनाइटेड अंगेस्ट हेट’ और ‘नॉट इन माई नेम’ नाम की संस्थाओं के बैनर तले किया गया था।

इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए उमर खालिद भी पहुँचे थे। इस मौके पर मौजूद एक प्रत्यक्षदर्शी ने कहा था कि कार्यक्रम शुरू होने के पहले कॉन्स्टिट्यूशन क्लब के बाहर उमर अपने कुछ साथियों के साथ चाय पी रहे थे, इतने में हाथ में पिस्तौल लिए सफेद शर्ट पहने एक शख्स आया और उसने उमर को मारने के लिए जैसे ही पीछे दबोचा तो उनके साथियों ने उसे पकड़ने का प्रयास किया। 

उस प्रत्यक्षदर्शी ने कहा था कि हमलावर ने वहाँ से भागते हुए उमर खालिद पर गोली चलाई थी। यह प्रत्यक्षदर्शी और कोई नहीं बल्कि दिल्ली दंगों के पहले इसी JNU छात्र उमर खालिद (Umar Khalid) और ताहिर हुसैन के बीच शाहीनबाग (Shaheen Bagh) में मीटिंग करवाने वाला खालिद सैफी ही था। 08 जनवरी को शाहीनबाग में हुई मीटिंग में उमर खालिद, ताहिर हुसैन और खालिद सैफी शामिल थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

प्राचीन महादेवम्मा मंदिर विध्वंस मामले में मैसूर SP को विहिप नेता ने लिखा पत्र, DC और तहसीलदार के खिलाफ कार्रवाई की माँग

विहिप के नेता गिरीश भारद्वाज ने मैसूर के उपायुक्त और नंजनगुडु के तहसीलदार पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए SP के पास शिकायत दर्ज कराई है।

कोहाट दंगे: खिलाफ़त आंदोलन के लिए हुई ‘डील’ ने कैसे करवाया था हिंदुओं का सफाया? 3000 का हुआ था पलायन

10 सितंबर 1924 को करीबन 4000 की मुस्लिम भीड़ ने 3000 हिंदुओं को इतना मजबूर कर दिया कि उन्हें भाग कर मंदिर में शरण लेनी पड़ी। जो पीछे छूटे उन्हें मार डाला गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
122,733FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe