Wednesday, November 30, 2022
Homeदेश-समाजकोलकाता में 700 लोग गिरफ्तार, दिवाली पर पटाखा फोड़ने का किया 'अपराध'

कोलकाता में 700 लोग गिरफ्तार, दिवाली पर पटाखा फोड़ने का किया ‘अपराध’

सुप्रीम कोर्ट ने ग्रीन क्रैकर्स को छोड़कर सभी पटाखों पर प्रतिबंध लगा दिया है। दिवाली की रात के लिए, अदालत ने ग्रीन क्रैकर्स फोड़ने के लिए दो घंटे रात 8 बजे से रात 10 बजे तक का समय निर्धारित किया था।

पश्चिम बंगाल के कोलकाता में पुलिस ने हिंदुओं के त्योहार दिवाली के मौके पर पटाखा फोड़ने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई की है। कोलकाता पुलिस ने दिवाली में रात भर चलाए गए अभियान में कुल 720 लोगों को गिरफ्तार किया। साल्ट लेक और उसके आसपास कम से कम 75 लोगों को गिरफ्तार किया गया। कोलकाता पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि पिछले साल शहर में 605 लोगों को गिरफ्तार किया गया था।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने ग्रीन क्रैकर्स को छोड़कर सभी पटाखों पर प्रतिबंध लगा दिया है। दिवाली की रात के लिए, अदालत ने ग्रीन क्रैकर्स फोड़ने के लिए दो घंटे रात 8 बजे से रात 10 बजे तक का समय निर्धारित किया था। हालाँकि, गुरुवार (4 नवंबर 2021) रात शहर और साल्ट लेक और न्यू टाउन में इस आदेश का बड़े पैमाने पर उल्लंघन किया गया। गुरुवार की रात, जादवपुर, कस्बा, गरफा, बांसड्रोनी, बेहाला, चितपुर और कोसीपोर जैसे क्षेत्रों से अधिकांश उल्लंघन की सूचना मिली।

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (पीसीबी) के अधिकारियों ने कहा कि उन्हें दिवाली की रात 48 शिकायतें मिलीं, जिनमें ज्यादातर बागुईआटी, लेक टाउन, तल्लाह, सोनारपुर, मानिकतला, भवानीपुर, कालीघाट और फूलबगान से थीं। शिकायतों को कानून प्रवर्तन एजेंसियों को भेज दिया गया था।

पीसीबी अधिकारियों ने कहा कि गरफा से तड़के तीन से साढ़े तीन बजे के बीच उल्लंघन की शिकायतें मिलीं। रात 11.30 बजे के बाद नरेंद्रपुर और बागुईआटी जैसे सीमांत क्षेत्रों से कई शिकायतें आईं। ग्रीन प्लेटफॉर्म सबुज मंच के सदस्यों ने कहा कि उन्हें गुरुवार रात 75 शिकायतें मिलीं।

सबुज मंच के सचिव नबा दत्ता ने कहा कि दिवाली पर नियमों का बड़े पैमाने पर उल्लंघन हुआ। दत्ता ने कहा, “हमें दिवाली की रात लगभग 75 शिकायतें मिलीं, जिनमें से 30 कोलकाता के लोगों की थीं। लेकिन यह उल्लंघन की सही तस्वीर को नहीं दर्शाता है क्योंकि लोगों ने केवल शोरगुल वाले पटाखों की शिकायत की थी। अधिकांश लोग यह नहीं जानते हैं कि अनिवार्य ग्रीन पटाखा प्रमाणन न होने पर फुलझड़ी की भी अनुमति नहीं है। हमारे अनुभव से पता चलता है कि शहर में शायद ही कोई ग्रीन पटाखा फोड़ा गया हो।”

बिधाननगर कमिश्नरेट ने प्रतिबंधित पटाखे फोड़ने के आरोप में कम से कम 77 लोगों को गिरफ्तार किया और बांगुर, लेक टाउन, बागुईआटी और राजारहाट सहित विभिन्न स्थानों से 335 किलोग्राम अवैध पटाखे जब्त किए। कमिश्नरेट के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, उन्हें न्यू टाउन, बांगुर एवेन्यू, राजारहाट और लेक टाउन से 30 से अधिक शिकायतें मिली थीं। अधिकारी ने कहा, “हमने कई लोगों को मुख्य सड़कों और गलियों में पटाखे फोड़ते हुए पाया। कुछ लोगों ने देर रात तक प्रतिबंधित पटाखे फोड़े।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोता हुआ आम का पेड़, आरती के समय मंदिर में देवता को प्रणाम करने वाला ताड़ का वृक्ष… वेदों से प्रेरित था जगदीश चंद्र...

छुईमुई का पौधा हमारे छूते ही प्रतिक्रिया देता है। जगदीश चंद्र बोस ने दिखाया कि अन्य पेड़-पौधों में भी ऐसा होता है, लेकिन नंगी आँखों से नहीं दिखता।

‘मौलाना साद को सौंपी जाए निजामुद्दीन मरकज की चाबियाँ’: दिल्ली HC के आदेश पर पुलिस को आपत्ति नहीं, तबलीगी जमात ने फैलाया था कोरोना

दिल्ली हाईकोर्ट ने पुलिस को तबलीगी जमात के निजामुद्दीन मरकज की चाबी मौलाना साद को सौंपने की हिदायत दी। पुलिस ने दावा किया है कि वह फरार है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
236,143FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe