Friday, December 9, 2022
Homeदेश-समाजमुंगेर में कई जगह मतदान का बहिष्कार: चड़ौन में ग्रामीणों ने जला डाली वोटिंग...

मुंगेर में कई जगह मतदान का बहिष्कार: चड़ौन में ग्रामीणों ने जला डाली वोटिंग की पर्ची, घर-घर जाकर गिड़गिड़ा रहे राजनीतिक दलों के लोग

चड़ौन सहित मुंगेर के कई इलाकों में मतदान का प्रतिशत काफी धीमा है। मुंगेर के टाउनहॉल वोटिंग बूथ पर तो वोटिंग प्रतिशत मात्र 2.7% ही था। दोपहर 12 बजे तक मुंगेर में मात्र 15% वोटिंग हुई थी।

बिहार के मुंगेर में दुर्गा पूजा विसर्जन के दौरान पुलिस की बर्बरता की ख़बरों के बीच बिहार में प्रथम चरण का मतदान भी हो रहा है। बुधवार (अक्टूबर 28, 2020) को बिहार में जहाँ-जहाँ मतदान हो रहा है, उन इलाकों में मुंगेर भी शामिल है। इसी दौरान हमें खबर आ रही है कि चड़ौन सहित मुंगेर के कई इलाकों में मतदान का प्रतिशत काफी धीमा है। मुंगेर के टाउनहॉल वोटिंग बूथ पर तो वोटिंग प्रतिशत मात्र 2.7% ही था। दोपहर 12 बजे तक मुंगेर में मात्र 15% वोटिंग हुई थी।

इसी तरह से कई अन्य इलाकों में भी काफी कम वोटिंग प्रतिशत देखने को मिला, जिससे प्रत्याशियों की नींद हराम हो गई है और वो घर-घर जाकर लोगों को वोट डालने के लिए बोल रहे हैं। उदाहरण के लिए मुंगेर के नौवागढ़ी क्षेत्र में स्थित चड़ौन गाँव को ही देख लीजिए, जहाँ एक तरह से ग्रामीणों ने मतदान का बहिष्कार कर रखा है। हर दल के लोग घर-घर जाकर मतदान करने कह रहे हैं, लेकिन 2 दिन पहले हुई घटना के कारण लोग आक्रोशित हैं।

हमने गाँव के कुछ स्थानीय युवाओं से बातचीत की, जिन्होंने बताया कि उनका गाँव उस जगह से 8 किलोमीटर के दायरे में ही है, जहाँ ये घटना हुई। गाँव के लोग दुर्गा पूजा में वहीं जाते हैं और उनका बाजार भी वहीं है। लोगों का गुस्सा न सिर्फ पुलिस-प्रशासन बल्कि सत्ताधारी पार्टियों, खासकर भाजपा से भी है। इनमें से अधिकतर भाजपा के वोटर रहे हैं और वो अब पार्टी द्वारा खुल कर स्टैंड न लेने से नाराज़ हैं।

हमारी बातचीत गाँव के ही नेहा चौधरी से हुई, जिन्होंने बताया कि इस घटना के बाद से ही गाँव में आक्रोश है। कई ग्रामीणों ने वोट डालने के लिए पर्ची भी कटा ली थी। मंगलवार को चुनाव से 1 दिन पहले ही उन्होंने अपने-अपने घरों से उन पर्चियों को निकाला और उसमें आग लगा दी। बता दें कि ये पर्चियाँ उन्हें प्रत्याशियों और राजनीतिक दलों द्वारा भी वोटिंग लिस्ट में उनका नाम देख कर उन्हें उपलब्ध कराई जाती है।

साथ ही युवकों ने पूरे गाँव में घूम-घूम कर अपील किया कि वो वोट देने न जाएँ। नेहा ने बताया कि दोपहर तक गाँव के 10-15 लोगों ने ही वोट डाला था। इनमें से अधिकार बुजुर्ग ही हैं। सबसे ज्यादा बुरी स्थिति बूथ संख्या 232 की है, जहाँ राजनीतिक दलों के प्रत्याशियों के प्रतिनिधि घूम-घूम कर वोट डालने के लिए बोल रहे हैं। वो गिड़गिड़ा रहे हैं कि केवल आधार कार्ड भी हो तो लोग लेकर जाएँ और वोट करें, लेकिन ग्रामीण टस से मस नहीं हो रहे।

नेहा ने बताया कि इस गाँव में अधिकतर भाजपा को ही वोट जाता रहा है। उन्होंने बताया कि अब बूथ से जब वोटिंग ही नहीं हो रही है तो प्रत्याशियों के लोग गाड़ी लेकर घूम रहे हैं और लोगों से वोट डालने को कह रहे हैं। हालाँकि, ग्रामीणों का कहना है कि अगर उन्हें ज्यादा परेशान किया गया तो वो इन राजनीतिक दलों के प्रत्याशियों को गाँव से भगाएँगे भी। इस गुस्से की एक ही वजह है – दुर्गा विसर्जन में पुलिस पर लगे बर्बरता के आरोप।

नेहा चौधरी बताती हैं कि उनके घर के लोग भी उस दिन मुंगेर में ही थे और दुर्गा पूजा विसर्जन में हिस्सा लेने गए थे। गाँव के कई लोग इस घटना के प्रत्यक्षदर्शी हैं, जिन्होंने इस वारदात को देखा-सुना है। ऐसे में उनके जेहन में भी वो डरावने पल बैठे हुए हैं। उनके घर पर भी राजनीतिक दलों के लोग पहुँचे थे और वोट करने को कहा, लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया। कमोबेश पूरे गाँव में यही स्थिति है।

आखिर गाँव के लोग क्यों वोट नहीं करना चाहते? इसके जवाब में राहुल कुमार और रितेश चौधरी सहित अन्य ग्रामीण कहते हैं कि हिन्दुओं को हमेशा से दबाया जा रहा है और प्रशासन का रवैया सही नहीं होने के कारण उससे लोग आक्रोशित हैं। दो लोगों के मरने की खबर है और न जाने कितने घायल हुए हैं। ये लोग यही सवाल पूछ रहे हैं, “आखिर प्रशासन ने इतनी बड़ी वारदात को क्यों और कैसे अंजाम दे दिया?

वहीं नेहा चौधरी और दीपिका कुमारी जैसे युवाओं का भी गुस्सा इसी बात को लेकर है कि जिस पार्टी को वो लोग वोट देते आए हैं, उसके राज में आखिर इस तरह की घटना कैसे हो गई? अगर हो भी गई तो फिर इसके बाद अब तक कोई कार्रवाई क्यों नहीं की गई? आज जब मुंगेर के पोलिंग बूथों पर सन्नाटा पसरा हुआ है, हर दल के प्रत्याशियों की साँसें अटकी हुई हैं कि आखिर जनता अब क्या फैसला सुनाने वाली है।

मुंगेर में सोमवार (अक्टूबर 26, 2020) की रात माँ दुर्गा की प्रतिमा विसर्जन यात्रा पर मुंगेर पुलिस के लाठीचार्ज का वीडियो के वायरल होने के बाद जिला प्रशासन की खासी आलोचना हो रही है। एक के बाद एक आई हृदयविदारक तस्वीरों से लोग आक्रोशित हैं। एसपी और जदयू सांसद आरसीपी सिंह की बेटी लिपि सिंह ने दावा किया था कि प्रतिमा विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों ने पुलिस पर पथराव किया और गोलीबारी की, जिसके बाद अपने बचाव में पुलिस ने कार्रवाई की।

हालाँकि, बेंगलुरु की वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी डी रूपा ने नियम समझाते हुए कहा कि पुलिस को गोली चलाने से पहले चेतावनी देनी चाहिए, या फिर आँसू गैस के गोलों का इस्तेमाल करना चाहिए। उन्होंने इस बात पर दुःख जताया कि मुंगेर में इनमें से किसी भी नियम का पालन नहीं किया गया। भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस के न्यूनतम बल का उपयोग किया जाना चाहिए। साथ ही याद दिलाया कि भीड़ द्वारा अवरोध पैदा करने पर फोर्स की उचित संख्याबल का भी निर्धारण किया जाता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंह
अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14190 औरतें, 3 शहरों में कॉल सेंटर, 300 दलाल और WhatsApp: देश भर में फैला था सेक्स रैकेट, देह के धंधे के साथ ड्रग्स...

तेलंगाना में एक बड़े स्तर के सेक्स रैकेट का पर्दाफाश हुआ है। कॉल सेंटर और व्हाट्सएप के जरिए इसका संचालन हो रहा था। देश के कई राज्यों में देह और ड्रग्स का यह धंधा फैला हुआ था।

धुआँधार प्रचार, जीत के दावे, लेकिन गुजरात में मात्र 5 सीटों पर सिमट कर रह गई AAP: केजरीवाल का ‘हिन्दू कार्ड’ भी फेल, ग्राउंड...

गुजरात विधानसभा चुनावों में AAP आई तो थी चुनाव जीतने के सपने लेकर लेकिन जा रही है कॉन्ग्रेस के वोट काट कर। जानें क्या है पार्टी का भविष्य।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
237,407FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe