Wednesday, May 12, 2021
Home देश-समाज 10 दिन से हत्यारे फरार, प्रशासन ने पैसा खाया है: मधुबनी पीड़िता के पुत्र...

10 दिन से हत्यारे फरार, प्रशासन ने पैसा खाया है: मधुबनी पीड़िता के पुत्र ने लगाई मदद की गुहार

“जब भी हम वहाँ (पुलिस स्टेशन) जाते हैं तो बड़ा बाबू कहते हैं- दूर हटो, दूर रहकर बात करो। जब हम केस के बारे में बात करते हैं तो कहते हैं कि हाँ, हम केस बनाने की सोच रहे हैं।”

“हम गरीब हैं तो क्या हमारे जान की कीमत नहीं है, हमें इंसाफ नहीं मिलना चाहिए” ये कहना है मधुबनी की 70 वर्षीय मृतक दलित महिला के बेटे सुरेंद्र मंडल का। बिहार के मधुबनी में 5 अप्रैल की रात सुलेमान नदाफ, मलील नदाफ और शरीफ नदाफ ने 70 वर्षीय दलित महिला काला देवी (उर्फ कैली देवी) की हत्या कर दी। हत्या की रात से ही तीनों आरोपित फरार हैं।

घटना को आज 10 दिन हो गए हैं। मगर अभी तक प्रशासन उन तक नहीं पहुँच पाई है। हत्यारे अभी भी कानून की गिरफ्त से बाहर आजाद घूम रहे हैं। मृतक महिला के परिजन प्रशासन से मदद की गुहार लगा रहे हैं, लेकिन उन्हें उनकी तरफ से कोई सहयोग नहीं मिल रहा है। 42 वर्षीय सुरेंद्र मंडल ने आरोप लगाया कि प्रशासन ने आरोपित से पैसा लिया है, इसलिए गिरफ्तार नहीं कर रहा है। 

जब हमने जानना चाहा कि उन्हें प्रशासन की तरफ से किस तरह की मदद मिल पा रही और जब वो पुलिस स्टेशन जाते हैं तो उनसे क्या कहा जाता है? इस बात पर सुरेंद्र मंडल ने लगभग बिफरते हुए कहा, “जब भी हम वहाँ (पुलिस स्टेशन) जाते हैं तो बड़ा बाबू कहते हैं- दूर हटो, दूर रहकर बात करो। जब हम केस के बारे में बात करते हैं तो कहते हैं कि हाँ, हम केस बनाने की सोच रहे हैं।”

आगे उन्होंने कहा, “10 दिन बीत जाने के बाद भी अगर वो उन आरोपितों को नहीं पकड़ पाए हैं, तो इसका मतलब है कि रहिका थाना प्रशासन ने उससे पैसा खाया है, वरना इतनी बड़ी घटना के बाद उसके नहीं पकड़े जाने का सवाल ही नहीं है। मतलब साफ है कि उन्होंने पैसा लिया है, इसलिए केस में कोई दिलचस्पी नहीं दिखा रहे हैं। हम गरीब हैं तो क्या हमारे जान की कीमत नहीं है? हमें इंसाफ नहीं मिलना चाहिए?”

इसके साथ ही सुरेंद्र ने ये भी आरोप लगाया कि ये सब कुछ राजद विधायक फैयाज अहमद और सरपंच फकरे आलम के कहने पर हो रहा है। उन्होंने कहा, “राजद विधायक फैयाज अहमद का फिलहाल नाम नहीं आया है, लेकिन हम जानते हैं कि ये सब कुछ उसके कहने पर ही हो रहा है, क्योंकि उसका दायाँ हाथ सरपंच फकरे आलम है और पुलिस प्रशासन फकरे आलम से मिली हुई है। हम तो बस प्रधानमंत्री के कहने पर दीया जला रहे थे। क्या प्रधानमंत्री की बात का पालन करना इतना बड़ा गुनाह है कि हमारी माँ की हत्या कर दी जाएगी? और प्रशासन भी हाथ पर हाथ धरे बैठा है।” 

इतना ही नहीं दूसरे समुदाय द्वारा अफवाह भी फैला दी जाती है कि हमने पैसा लेकर केस को रफा-दफा कर दिया है। हम किस-किसको स्पष्टीकरण दें? उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि प्रशासन ने उनके दो-तीन गवाहों का बयान भी नहीं लिया।

सुरेंद्र ने कहा, “हम थाने का घेराव करेंगे। ये काम हम बहुत पहले ही करते, लेकिन हमने प्रशासन पर भरोसा जताया। मगर हमें वहाँ से निराशा ही हाथ लगी। हमने लॉकडाउन की वजह से भी ये नहीं किया। हालाँकि, लॉकडाउन अभी भी है, लेकिन हम क्या करें? हम मजबूर हैं, प्रशासन अपराधियों के साथ मिली है। वो हमारा साथ नहीं दे रही है। आखिर हम इंसाफ के लिए जाएँ तो जाएँ कहाँ? प्रशासन की इसी सुस्ती और लापरवाही की वजह से अपराधियों को सह मिलती है।”

उल्लेखनीय है कि 5 अप्रैल की रात दीप जलाने के बाद सुरेंद्र की माँ काला देवी घर के बाहर ही बेंच पर बैठी हुईं थीं। इस दौरान सुलेमान नदाफ का बेटा मलीन नदाफ ने काला देवी के सिर पर दो-तीन बार मारा। इसके बाद बाद इतनी जोर से उनका गला दबाया कि वह बेंच पर से नीचे गिर गईं। जिसके बाद उन्हें आँगन में लाया गया, जहाँ काला देवी ने दो बार हिचकी ली और फिर वहीं पर दम तोड़ दिया। इससे पहले शरीफ नदाफ ने गाली-गलौज की थी। भद्दी और गंदी गालियाँ देने के साथ ही उसने कहा था कि इस मुहल्ले में कोई भी बच्चा हिंदू का नहीं है।

सोचने वाली बात तो यह भी है कि किसी हिंदू की हत्या की जाती है, तो असहिष्णुता का राग अलापने वाले ये झंडाबरदारों द्वारा चुप्पी साध ली जाती है। स्क्रीन काली कर डालने वाले, हर चीज में ‘मजहब विशेष पर अत्याचार’ ढूँढ़ने वाले मीडिया के एक खास वर्ग के लिए यह खबर नहीं होती। सेकुलरिज्म का चश्मा लगाए चैनलों पर बहस करने वाले पत्रकार ऐसी घटनाओं पर खामोश हो जाते हैं। कथित बुद्धिजीवी दलीलें देते हैं कि मामले को साम्प्रदायिक नजरिए से न देखा जाए। मगर जैसे ही किसी दूसरे मजहब के व्यक्ति की मौत होती है, मामले को तूल देकर ऐसा रंग दिया जाता है, जिससे लगे कि देश में ‘कथित अल्पसंख्यकों पर अत्याचार’ हो रहे हैं। यही है इस समाज की कड़वी सच्चाई।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

चढ़ता प्रोपेगेंडा, ढलता राजनीतिक आचरण: दिल्ली के असल सवालों को मुँह चिढ़ाती केजरीवाल की पैंतरेबाजी

ऐसे दर्जनों पैंतरे हैं जिन पर केजरीवाल से प्रश्न नहीं किए गए हैं और यही बात उनसे बार-बार ऐसे पैंतरे करवाती है।

25 साल पहले ULFA ने कर दी थी पति की हत्या, अब असम की पहली महिला वित्त मंत्री

असम में पहली बार एक महिला वित्त मंत्री चुनी गई है। नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने अपनी सरकार में वित्त विभाग 5 बार गोलाघाट से विधायक रह चुकी अजंता निओग को सौंपा।

UP: न्यूज एंकर समेत 4 पत्रकार ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी में गिरफ्तार, ₹55 हजार में कर रहे थे सौदा

उत्तर प्रदेश के कानपुर में चार पत्रकार ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजरी करते पकड़े गए हैं। इनमें से एक लोकल न्यूज चैनल का एमडी/एंकर है।

‘हमारे साथ खराब काम हुआ’: टिकरी बॉर्डर गैंगरेप में योगेंद्र यादव से पूछताछ, कविता और योगिता भी तलब

पीड़ित पिता के मुताबिक बेटी की मौत के बाद उन पर कुछ भी पुलिस को नहीं बताने का दबाव बनाया गया था।

पति से वीडियो कॉल पर बात कर रही थी केरल की सौम्या, फलस्तीनी आतंकी संगठन हमास के रॉकेट ने उड़ाया

सौम्या संतोष हमास के रॉकेट हमले में मारी गई। जब हमला हुआ उस वक्त वह केरल में रह रहे अपने पति संतोष से वीडियो कॉल पर बात कर रही थी।

97941 गाँव, 141610 टीम: कोरोना से लड़ाई में योगी सरकार का डोर-टू-डोर कैम्पेन असरदार, WHO ने भी माना लोहा

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण पर काबू पाने के लिए योगी सरकार की तरफ से उठाए गए कदमों का पूरा ब्यौरा।

प्रचलित ख़बरें

इजरायल पर इस्लामी गुट हमास ने दागे 480 रॉकेट, केरल की सौम्या सहित 36 की मौत: 7 साल बाद ऐसा संघर्ष

फलस्तीनी इस्लामी गुट हमास ने इजरायल के कई शहरों पर ताबड़तोड़ रॉकेट दागे। गाजा पट्टी पर जवाबी हमले किए गए।

मुस्लिम वैज्ञानिक ‘मेजर जनरल पृथ्वीराज’ और PM वाजपेयी ने रचा था इतिहास, सोनिया ने दी थी संयम की सलाह

...उसके बाद कई देशों ने प्रतिबन्ध लगाए। लेकिन वाजपेयी झुके नहीं और यही कारण है कि देश आज सुपर-पावर बनने की ओर अग्रसर है।

‘#FreePalestine’ कैम्पेन पर ट्रोल हुई स्वरा भास्कर, मोसाद के पैरोडी अकाउंट के साथ लोगों ने लिए मजे

स्वरा के ट्वीट का हवाला देते हुए @TheMossadIL ने ट्वीट किया कि अगर इस ट्वीट को स्वरा भास्कर के ट्वीट से अधिक लाइक मिलते हैं, तो वे भारतीय अभिनेत्री को एक स्पेशल ‘पॉकेट रॉकेट’ भेजेंगे।

‘इस्लाम को रियायतों से आज खतरे में फ्रांस’: सैनिकों ने राष्ट्रपति को गृहयुद्ध के खतरे से किया आगाह

फ्रांसीसी सैनिकों के एक समूह ने राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को खुला पत्र लिखा है। इस्लाम की वजह से फ्रांस में पैदा हुए खतरों को लेकर चेताया है।

इजरायल का आयरन डोम आसमान में ही नष्ट कर देता है आतंकी संगठन हमास का रॉकेट: देखें Video

इजरायल ने फलस्तीनी आतंकी संगठन हमास द्वारा अपने शहरों को निशाना बनाकर दागे गए रॉकेट को आयरन डोम द्वारा किया नष्ट

बांग्लादेश: हिंदू एक्टर की माँ के माथे पर सिंदूर देख भड़के कट्टरपंथी, सोशल मीडिया में उगला जहर

बांग्लादेश में एक हिंदू अभिनेता की धार्मिक पहचान उजागर होने के बाद इस्लामिक लोगों ने अभिनेता के खिलाफ सोशल मीडिया में उगला जहर
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,388FansLike
92,652FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe