Sunday, February 28, 2021
Home देश-समाज 10 दिन से हत्यारे फरार, प्रशासन ने पैसा खाया है: मधुबनी पीड़िता के पुत्र...

10 दिन से हत्यारे फरार, प्रशासन ने पैसा खाया है: मधुबनी पीड़िता के पुत्र ने लगाई मदद की गुहार

“जब भी हम वहाँ (पुलिस स्टेशन) जाते हैं तो बड़ा बाबू कहते हैं- दूर हटो, दूर रहकर बात करो। जब हम केस के बारे में बात करते हैं तो कहते हैं कि हाँ, हम केस बनाने की सोच रहे हैं।”

“हम गरीब हैं तो क्या हमारे जान की कीमत नहीं है, हमें इंसाफ नहीं मिलना चाहिए” ये कहना है मधुबनी की 70 वर्षीय मृतक दलित महिला के बेटे सुरेंद्र मंडल का। बिहार के मधुबनी में 5 अप्रैल की रात सुलेमान नदाफ, मलील नदाफ और शरीफ नदाफ ने 70 वर्षीय दलित महिला काला देवी (उर्फ कैली देवी) की हत्या कर दी। हत्या की रात से ही तीनों आरोपित फरार हैं।

घटना को आज 10 दिन हो गए हैं। मगर अभी तक प्रशासन उन तक नहीं पहुँच पाई है। हत्यारे अभी भी कानून की गिरफ्त से बाहर आजाद घूम रहे हैं। मृतक महिला के परिजन प्रशासन से मदद की गुहार लगा रहे हैं, लेकिन उन्हें उनकी तरफ से कोई सहयोग नहीं मिल रहा है। 42 वर्षीय सुरेंद्र मंडल ने आरोप लगाया कि प्रशासन ने आरोपित से पैसा लिया है, इसलिए गिरफ्तार नहीं कर रहा है। 

जब हमने जानना चाहा कि उन्हें प्रशासन की तरफ से किस तरह की मदद मिल पा रही और जब वो पुलिस स्टेशन जाते हैं तो उनसे क्या कहा जाता है? इस बात पर सुरेंद्र मंडल ने लगभग बिफरते हुए कहा, “जब भी हम वहाँ (पुलिस स्टेशन) जाते हैं तो बड़ा बाबू कहते हैं- दूर हटो, दूर रहकर बात करो। जब हम केस के बारे में बात करते हैं तो कहते हैं कि हाँ, हम केस बनाने की सोच रहे हैं।”

आगे उन्होंने कहा, “10 दिन बीत जाने के बाद भी अगर वो उन आरोपितों को नहीं पकड़ पाए हैं, तो इसका मतलब है कि रहिका थाना प्रशासन ने उससे पैसा खाया है, वरना इतनी बड़ी घटना के बाद उसके नहीं पकड़े जाने का सवाल ही नहीं है। मतलब साफ है कि उन्होंने पैसा लिया है, इसलिए केस में कोई दिलचस्पी नहीं दिखा रहे हैं। हम गरीब हैं तो क्या हमारे जान की कीमत नहीं है? हमें इंसाफ नहीं मिलना चाहिए?”

इसके साथ ही सुरेंद्र ने ये भी आरोप लगाया कि ये सब कुछ राजद विधायक फैयाज अहमद और सरपंच फकरे आलम के कहने पर हो रहा है। उन्होंने कहा, “राजद विधायक फैयाज अहमद का फिलहाल नाम नहीं आया है, लेकिन हम जानते हैं कि ये सब कुछ उसके कहने पर ही हो रहा है, क्योंकि उसका दायाँ हाथ सरपंच फकरे आलम है और पुलिस प्रशासन फकरे आलम से मिली हुई है। हम तो बस प्रधानमंत्री के कहने पर दीया जला रहे थे। क्या प्रधानमंत्री की बात का पालन करना इतना बड़ा गुनाह है कि हमारी माँ की हत्या कर दी जाएगी? और प्रशासन भी हाथ पर हाथ धरे बैठा है।” 

इतना ही नहीं दूसरे समुदाय द्वारा अफवाह भी फैला दी जाती है कि हमने पैसा लेकर केस को रफा-दफा कर दिया है। हम किस-किसको स्पष्टीकरण दें? उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि प्रशासन ने उनके दो-तीन गवाहों का बयान भी नहीं लिया।

सुरेंद्र ने कहा, “हम थाने का घेराव करेंगे। ये काम हम बहुत पहले ही करते, लेकिन हमने प्रशासन पर भरोसा जताया। मगर हमें वहाँ से निराशा ही हाथ लगी। हमने लॉकडाउन की वजह से भी ये नहीं किया। हालाँकि, लॉकडाउन अभी भी है, लेकिन हम क्या करें? हम मजबूर हैं, प्रशासन अपराधियों के साथ मिली है। वो हमारा साथ नहीं दे रही है। आखिर हम इंसाफ के लिए जाएँ तो जाएँ कहाँ? प्रशासन की इसी सुस्ती और लापरवाही की वजह से अपराधियों को सह मिलती है।”

उल्लेखनीय है कि 5 अप्रैल की रात दीप जलाने के बाद सुरेंद्र की माँ काला देवी घर के बाहर ही बेंच पर बैठी हुईं थीं। इस दौरान सुलेमान नदाफ का बेटा मलीन नदाफ ने काला देवी के सिर पर दो-तीन बार मारा। इसके बाद बाद इतनी जोर से उनका गला दबाया कि वह बेंच पर से नीचे गिर गईं। जिसके बाद उन्हें आँगन में लाया गया, जहाँ काला देवी ने दो बार हिचकी ली और फिर वहीं पर दम तोड़ दिया। इससे पहले शरीफ नदाफ ने गाली-गलौज की थी। भद्दी और गंदी गालियाँ देने के साथ ही उसने कहा था कि इस मुहल्ले में कोई भी बच्चा हिंदू का नहीं है।

सोचने वाली बात तो यह भी है कि किसी हिंदू की हत्या की जाती है, तो असहिष्णुता का राग अलापने वाले ये झंडाबरदारों द्वारा चुप्पी साध ली जाती है। स्क्रीन काली कर डालने वाले, हर चीज में ‘मजहब विशेष पर अत्याचार’ ढूँढ़ने वाले मीडिया के एक खास वर्ग के लिए यह खबर नहीं होती। सेकुलरिज्म का चश्मा लगाए चैनलों पर बहस करने वाले पत्रकार ऐसी घटनाओं पर खामोश हो जाते हैं। कथित बुद्धिजीवी दलीलें देते हैं कि मामले को साम्प्रदायिक नजरिए से न देखा जाए। मगर जैसे ही किसी दूसरे मजहब के व्यक्ति की मौत होती है, मामले को तूल देकर ऐसा रंग दिया जाता है, जिससे लगे कि देश में ‘कथित अल्पसंख्यकों पर अत्याचार’ हो रहे हैं। यही है इस समाज की कड़वी सच्चाई।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

असम-पुडुचेरी में BJP की सरकार, बंगाल में 5% वोट से बिगड़ रही बात: ABP-C Voter का ओपिनियन पोल

एबीपी न्यूज और सी-वोटर ओपिनियन पोल के सर्वे की मानें तो पश्चिम बंगाल में तीसरी बार ममता बनर्जी की सरकार बनती दिख रही है।

पत्थर चलाए, आग लगाई… नेताओं ने भी उगला जहर… राम मंदिर के लिए लक्ष्य से 1000+ करोड़ रुपए ज्यादा मिला समर्पण

44 दिन तक चलने वाले राम मंदिर निधि समर्पण अभियान से कुल 1100 करोड़ रुपए आने की उम्मीद की गई थी, आ गए 2100 करोड़ रुपए से भी ज्यादा।

‘PM मोदी समेत BJP नेता प्रचार कर रहे हैं और पप्पू मछली पकड़ रहा है, फिर कहेंगे EVM खराब है’

भाजपा के सभी वरिष्ठ नेता चुनाव की तैयारियों में व्यस्त है, लेकिन राहुल गाँधी अभी भी मछली पकड़ने में लगे हुए हैं और चुनावों के नतीजों के बाद कॉन्ग्रेस कहेगी की EVM खराब है।

ममता के मंत्री फिरहाद हाकिम का मस्जिद में ऐलान: जीते तो मौलाना-इमामों का बढ़ेगा भत्ता, BJP को वोट न देने की अपील

“वोट हासिल करने के लिए जाति या सांप्रदायिक भावनाओं के लिए कोई अपील नहीं होगी। मस्जिदों, चर्चों, मंदिरों या अन्य पूजा स्थलों को चुनाव प्रचार के लिए मंच के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जाएगा।”

CM योगी के नेतृत्व में यूपी GSDP के मामले में बना भारत का दूसरा सबसे बड़ा राज्य: कोरोना काल में तरक्की का कीर्तिमान

योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाला उत्तर प्रदेश, 19.48 लाख करोड़ रुपए के साथ सकल राज्य घरेलू उत्पाद (GSDP) के मामले में भारत का दूसरा सबसे बड़ा राज्य बन गया है।

‘अब भी लगता है डर, नहीं हुई नुकसान की भरपाई’: दिल्ली दंगों में जिस पार्किंग में जली थी दर्जनों गाड़ियाँ, 1 साल बाद हम...

दिल्ली हिन्दू विरोधी दंगों में पूरी तरह तबाह शिव विहार पार्किंग के मालिक गजेंद्र परिहार ने बताया कि FIR में उन्होंने डर से कई चीजें नहीं बताई हैं और किसी को निशाना नहीं बनाया है, क्योंकि उन्हें इसी क्षेत्र में रहना है।

प्रचलित ख़बरें

कोर्ट के कुरान बाँटने के आदेश को ठुकराने वाली ऋचा भारती के पिता की गोली मार कर हत्या, शव को कुएँ में फेंका

शिकायत के अनुसार, वो अपने खेत के पास ही थे कि तभी आठ बदमाशों ने कन्धों पर रायफल रखकर उन्हें घेर लिया और फायरिंग करने लगे।

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

शैतान की आजादी के लिए पड़ोसी के दिल को आलू के साथ पकाया, खिलाने के बाद अंकल-ऑन्टी को भी बेरहमी से मारा

मृत पड़ोसी के दिल को लेकर एंडरसन अपने अंकल के घर गया जहाँ उसने इस दिल को पकाया। फिर अपने अंकल और उनकी पत्नी को इसे सर्व किया।

जलाकर मार डाले गए 27 महिला, 22 पुरुष, 10 बच्चे भी रामभक्त ही थे, अयोध्या से ही लौट रहे थे

27 फरवरी 2002 की सुबह अयोध्या से लौट रहे 59 रामभक्तों को साबरमती एक्सप्रेस में करीब 2000 लोगों की भीड़ ने जलाकर मार डाला था।

कॉन्ग्रेस ने मेरा इस्तेमाल नहीं किया, मुझे नीचे गिराने में लगे हैं पार्टी नेता: हार के बाद बोले कार्यकारी अध्यक्ष हार्दिक पटेल

हार्दिक पटेल ने कहा कि कॉन्ग्रेस के नेता उन्हें नीचा दिखाना और नीचे गिराना चाहते हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि निकाय चुनावों में कॉन्ग्रेस ने उनका ठीक से इस्तेमाल नहीं किया।

नाबालिग को बुर्का पहनाकर अगवा करने वाले 6 बच्चों के बाप मेहताब की बीवी-भाभी गिरफ्तार, भाई को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू

पुलिस ने अपहरणकर्ता मेहताब की पत्नी और उसकी दो भाभियों को गिरफ्तार किया है, जबकि आरोपित के एक भाई को हिरासत में लिया गया है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,188FansLike
81,831FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe