Saturday, May 18, 2024
Homeदेश-समाजनमाज पढ़कर घूस लेने आया नगरपालिका का इंजीनियर सगीर अहमद, रंगे हाथों पकड़ा गया:...

नमाज पढ़कर घूस लेने आया नगरपालिका का इंजीनियर सगीर अहमद, रंगे हाथों पकड़ा गया: शिकायकर्ता ने बताया- अकाउंट विभाग से उठवा ली थी उसकी फाइल

"अपना पैसा पाने के लिए मैंने बहुत चप्पल घिसी और हाथ जोड़े। मेरी फाइल अकाउंट विभाग में भुगतान के लिए चली गई थी, लेकिन ये (सगीर अहमद) उसे वहाँ से भी उठा लाए। इन्हे पहले भी मैंने अच्छा-खासा पैसा दिया था, फिर भी ये डेढ़ लाख की डिमांड और करते रहे।"

मध्य प्रदेश के जिला बुरहानपुर में नगरपालिका का एक इंजीनियर 50 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा गया है। आरोपित इंजीनियर का नाम सगीर अहमद है। ऑफिस का चतुर्थवर्गीय कर्मचारी भी उसके साथ गिरफ्तार किया गया है। यह गिरफ्तारी लोकायुक्त की टीम ने शुक्रवार (29 अप्रैल 2022) की है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शिकायतकर्ता जब रिश्वत की रकम लेकर आरोपित इंजीनियर के पास गया तब सगीर अहमद ने उसे इंतज़ार करने को कहा। सगीर ने बताया कि वो नमाज पढ़ने जा रहा है जहाँ से 1 घंटे बाद वो लौट कर आएगा। जैसे ही नमाज से लौट कर उसने रिश्वत ली और उसी समय पहले से तैयार लोकायुक्त की टीम ने उसको गिरफ्तार कर लिया। शिकायतकर्ता का नाम सार्थक सोमानी है। उन्होंने बुरहानपुर शहर में स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 के लिए जागरुकता वॉल पेंटिंग की थी।

सार्थक ने यह काम 28 फरवरी 2022 को ही पूरा कर लिया था। इसका कुल बिल लगभग 21 लाख रुपए था जिसको पास करने के लिए सगीर रिश्वत माँग रहा था। रिश्वत न मिलने के चलते बिल का भुगतान 2 महीने लटका कर भी रखा गया। आख़िरकार सोमानी से सगीर की डेढ़ लाख रुपए में डील हुई। सार्थक सोमानी ने बताया, “अपना पैसा पाने के लिए मैंने बहुत चप्पल घिसी और हाथ जोड़े। मेरी फाइल अकाउंट विभाग में भुगतान के लिए चली गई थी, लेकिन ये (सगीर अहमद) उसे वहाँ से भी उठा लाए। इन्हे पहले भी मैंने अच्छा-खासा पैसा दिया था, फिर भी ये डेढ़ लाख की डिमांड और करते रहे।”

इस बीच सार्थक सोमानी ने रिश्वत माँगे जाने की शिकायत इंदौर लोकायुक्त से कर दी। इसके बाद इंजीनियर की गिरफ्तारी के लिए टीम बनाई गई थी। रिश्वत लेने के लिए सगीर ने सोमानी को नगर निगम के ऑफिस में ही बुलाया था। प्लानिंग के तहत सगीर को 50 हजार रुपए कैश और बचे पैसे 1 लाख रुपए का चेक भरकर दिए । रिश्वत का पैसा चपरासी अजय मोरे ने लिया और इंजीनियर सगीर उसके साथ था। लोकायुक्त की टीम ने इंजीनियर सगीर और चपरासी दोनों पर एंटी करप्शन अधिनियम और 120-B (साजिश रचना) के तहत केस दर्ज कर लिया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अनुच्छेद 370 को हमने कब्रिस्तान में गाड़ दिया, इसे वापस नहीं लाया जा सकता’: PM मोदी बोले- अलगाववाद को खाद-पानी देने वाली कॉन्ग्रेस ने...

पीएम मोदी ने कहा, "आजादी के बाद गाँधी जी की सलाह पर अगर कॉन्ग्रेस को भंग कर दिया गया होता, तो आज भारत कम से कम पाँच दशक आगे होता।

स्वाति मालीवाल पर AAP का यूटर्न: पहले पार्टी ने कहा कि केजरीवाल के पीए विभव ने की बदतमीजी, अब महिला सांसद के आरोप को...

कल तक स्वाति मालीवाल के साथ खड़ा रहने का दावा करने वाली आम आदमी पार्टी ने अब यू टर्न ले लिया है और विभव कुमार के बचाव में खड़ी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -