Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजमहाराष्ट्र के रायगढ़ में भूस्खलन, मलबे में दबा गाँव: मौके पर CM एकनाथ शिंदे,...

महाराष्ट्र के रायगढ़ में भूस्खलन, मलबे में दबा गाँव: मौके पर CM एकनाथ शिंदे, अब तक 75 लोग ​बचाए गए-5 शव मिल चुके

भूस्खलन 19 जुलाई की रात लगभग 12 बजे हुआ। तेज बारिश के बीच एक चट्टान सरक कर नीचे आने से इरशालवाडी गाँव मलबे के नीचे दब गया। गाँव में लगभग 30 परिवार रहते हैं।

महाराष्ट्र के रायगढ़ में भूस्खलन की खबर है। चट्टान खिसकने से हुई इस घटना में अब तक 5 लोगों की मौत हो चुकी है। मलबे से 75 लोगों को बाहर निकाला गया है। कई लोग अभी भी फँसे हुए हैं। स्थानीय प्रशासन के साथ NDRF की टीमें भी बचाव कार्य में लगी हुई हैं। भारी बारिश की वजह से राहत और बचाव कार्यों में बाधा आ रही है। मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने भी मौके पर पहुँचकर राहत और बचाव कार्यों का जायजा लिया।

भूस्खलन बुधवार (19 जुलाई 2023) की रात लगभग 12 बजे हुआ। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक घटना राजगढ़ जिले के खालापुर इलाके की है। बुधवार को यहाँ तेज बारिश हो रही थी। पहाड़ी क्षेत्र के इस इलाके में एक चट्टान सरक कर नीचे आने से इरशालवाडी गाँव मलबे के नीचे दब गया। गाँव में लगभग 30 परिवार रहते हैं। घटना की जानकारी जैसे ही स्थानीय प्रशासन को हुई मौके पर NDRF और SDRF की टीम को भी बुलाया गया।

अब तक मिली जानकारी के अनुसार मलबे से कुल 75 लोगों को बाहर निकाला गया है। इनमें 21 घायल हैं। सभी घायलों को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। मलबे में कुछ और लोगों के दबे होने की आशंका है। मुख्यमंत्री के अलावा राज्य सरकार के 3 सीनियर मंत्री गिरीश महाजन, दादाजी भूसे और उदय सामंत भी भूस्खलन प्रभावित स्थान पर पहुँचे। नवी मुंबई और पनवेल म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन के सीनियर अधिकारीयों को भी मौके पर प्रशासन की मदद के लिए भेजा गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -