Tuesday, June 25, 2024
Homeदेश-समाजमुंबई में कुत्तों से रेप... नागपुर के रंजीत 190+ कुत्तों को खिलाते हैं चिकन...

मुंबई में कुत्तों से रेप… नागपुर के रंजीत 190+ कुत्तों को खिलाते हैं चिकन बिरयानी, 11 सालों से कर रहे सेवा

मुंबई में तौफीक एक कुतिया का रेप करते पकड़ा गया। दूसरा अहमद तो 30 कुत्तों का रेप कर चुका है। लेकिन यहाँ से 850 km दूर नागपुर के रंजीत नाथ 11 सालों से आवारा कुत्तों को खाना परोस रहे हैं, उन्हें अपना 'बच्चा' मानते हैं।

ऐसे समय में जब मुंबई से कुछ ऐसे मामले सामने आ रहे हैं, जहाँ जानवरों का बेरहमी से यौन उत्पीड़न जाता है। सिरफिरे न तो गायों को छोड़ रहे हैं और न ही कुत्ते और भेड़-बकरियों को। इन्हीं खबरों के बीच महाराष्ट्र के नागपुर के एक व्यक्ति लगभग 190 आवारा कुत्तों को रोज चिकन बिरयानी खिलाते हैं।

कोरोना महामारी के इस दौर में जहाँ कई लोगों को एक वक्त का भोजन मुश्किल से मिल रहा है और लोग घर से बाहर निकलने में कतरा रहे हैं, वहीं एक शख्स ऐसे हैं जो हर रोज घर से बाहर इसलिए निकलते हैं ताकि आवारा कुत्ते भूखे ना रह जाएँ। इस शख्स का नाम है रंजीत नाथ, जो नागपुर के रहने वाले हैं। 

रंजीत नाथ नागपुर में पिछले 11 साल से इन कुत्तों की सेवा कर रहे हैं। रंजीत नाथ पिछले 11 सालों से चुपचाप आवारा कुत्तों को खाना परोस रहे हैं और वह उन्हें अपना ‘बच्चा’ मानते हैं। उनकी कहानी अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। 58 साल के रंजीत नाथ पेशे से ज्योतिषी हैं। उन्होंने कहा कि वह कई वर्षों से यह काम कर रहे हैं। वह आवारा जानवरों को बच्चे बोलते हैं। उन्हें यह पसंद नहीं है कि कोई उन्हें कुत्ता कहे।

रंजीत की कहानी को अभिनव जेसवानी नाम के एक ब्लॉगर ने एक ब्लॉग पेज पर शेयर किया, जहाँ उन्होंने शहर में आवारा कुत्तों की सेवा करने वाले 58 वर्षीय व्यक्ति का एक वीडियो डाला। वीडियो के साथ, उस आदमी की कहानी भी लिखी गई थी। रंजीत ने कथित तौर पर 11 साल पहले आवारा कुत्तों की सेवा शुरू की थी और शुरू में उन्हें बिस्किट देते थे। पिछले ढाई साल से उन्होंने चिकन और मटन मिक्स बिरयानी देना शुरू किया। वह दान से मिलने वाले पैसे से बिरयानी तैयार करते हैं।

वीडियो इंटरनेट पर वायरल होते ही आवारा जनवरों के लिए रंजीत नाथ के दिल में दया ने लोगों के दिलों को छू लिया। कई लोग सीधे तौर पर उन्हें योगदान देना चाहते हैं और आवारा पशुओं को खिलाने में उनकी मदद करना चाहते हैं।

एक यूजर ने लिखा, “भगवान उन्हें हर आशीर्वाद और खुशियाँ दें।” एक अन्य ने लिखा, “कितना दयालु आदमी! हमें इस मिस्टर काइंडनेस जैसे इंसानों से उदाहरण लेने की जरूरत है। एक अन्य ने टिप्पणी की, “ग्रेट वर्क दादा।”

रंजीत नाथ महामारी की शुरुआत के बाद से रोजाना लगभग 40 किलोग्राम बिरयानी पका रहे हैं। वह करीब 190 आवारा कुत्तों को खाना खिलाते हैं। पिछले दिनों एएनआई से बात करते हुए, रंजीत नाथ ने कहा, “मैं बुधवार, रविवार और शुक्रवार को व्यस्त रहता हूँ, क्योंकि मैं इन कुत्तों के लिए 30-40 किलोग्राम बिरयानी तैयार करता हूँ। वे अब मेरे बच्चों की तरह हैं। मैं अपने जिंदा रहने तक यह काम करूँगा। यह मुझे खुशी प्रदान करता है।”

रंजीत नाथ के दिन की शुरुआत बिरयानी की तैयारी से होती है। वह इसे दोपहर से पकाना शुरू कर देते हैं और रोजाना शाम 5 बजे अपनी बाइक पर एक बड़ा सा बर्तन लेकर आवारा कुत्तों को खिलाने के लिए शहर का चक्कर लगाते हैं। नाथ बताते हैं, “मेरे पास 10-12 निश्चित स्थान (लोकेशन) हैं और मेरे ‘बच्चे’ उन जगहों के बारे जानते हैं। जैसे ही वे मुझे देखते हैं, वे मेरी ओर दौड़ने लगते हैं। मैं भेदभाव नहीं करता। मैं बिल्लियों को भी खिलाता हूँ।”

नागपुर के रंजीत नाथ के उलट गौर करते हैं देश की आर्थिक राजधानी मुंबई की ओर। बीते चंद महीनों की बात करें तो मुंबई से पशुओं के साथ सेक्स के 4 मामले सामने आ चुके हैं। मुंबई के सांताक्रुज के कलीना में 20-25 वर्ष का तौफीक अहमद एक कुतिया का रेप करते सीसीटीवी में पकड़ा गया। मामला संज्ञान में आते ही पुलिस ने उसके विरुद्ध केस दर्ज कर लिया।

तौफीक की तरह ही कुछ दिन पहले मुंबई पुलिस ने 68 वर्षीय एक व्यक्ति को कुतिया के साथ बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार किया था। आरोपित की पहचान अहमद शाह के तौर पर हुई थी। उसने करीब 30 कुत्तों का रेप किया था।

वहीं साल 2020 के अक्टूबर माह में मुबंई के पवई में गैलेरिया शॉपिंग कॉम्प्लेक्स के अंदर नूरी नाम की एक कुतिया का रेप हुआ था, जिसके बाद उसकी हालत बिगड़ गई। बाद में उसे एनिमल केयर सेंटर ले जाया गया, जहाँ डॉक्टर्स ने बताया कि उसके प्राइवेट पार्ट्स से 11 इंच की लकड़ी की छड़ी मिली थी, जिसे ईलाज के दौरान निकाल दिया गया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिखर बन जाने पर नहीं आएँगी पानी की बूँदे, मंदिर में कोई डिजाइन समस्या नहीं: राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्रा ने...

श्रीराम मंदिर निर्माण समिति के मुखिया नृपेन्द्र मिश्रा ने बताया है कि पानी रिसने की समस्या शिखर बनने के बाद खत्म हो जाएगी।

दर-दर भटकता रहा एक बाप पर बेटे की लाश तक न मिली, यातना दे-दे कर इंजीनियरिंग छात्र की हत्या: आपातकाल की वो कहानी, जिसमें...

आज कॉन्ग्रेस पार्टी संविधान दिखा रही है। जब राजन के पिता CM, गृह मंत्री, गृह सचिव, पुलिस अधिकारी और सांसदों से गुहार लगा रहे थे तब ये कॉन्ग्रेस पार्टी सोई हुई थी। कहानी उस छात्र की, जिसकी आज तक लाश भी नहीं मिली।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -