Wednesday, September 28, 2022
Homeदेश-समाजएक बिरादरी के मुस्लिम नहीं थे सानिया और वसीम, इसलिए भाई-बाप ने मिलकर गर्दन...

एक बिरादरी के मुस्लिम नहीं थे सानिया और वसीम, इसलिए भाई-बाप ने मिलकर गर्दन काट दी: मेरठ में मिली लड़की की सिर कटी लाश की गुत्थी सुलझी

"सानिया सो रही थी। उसी समय अजीम (सानिया का भाई) ने उसे कसकर पकड़ लिया। मैंने जानवर काटने वाले चाकू से एक ही वार में उसका सिर काट दिया।"

मेरठ में जिस लड़की की सिर कटी लाश मिली थी, उसकी पहचान सानिया के तौर पर हुई है। उसकी हत्या उसके बाप और भाई ने मिलकर की थी। वजह गैर बिरादरी के मुस्लिम वसीम से उसका प्रेम करना था।

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार पुलिस ने सानिया के अब्बा शाहिद कुरैशी के साथ उसकी अम्मी और भाई को हिरासत में लिया है। रिपोर्ट के अनुसार 18 साल की सानिया का वसीम से अफेयर चल रहा था। वह उसके साथ ही निकाह करना चाहती थी। लेकिन उसके परिजन इस रिश्ते के लिए तैयार नहीं थे।

सानिया जब वसीम के साथ ही निकाह करने के लिए अड़ गई तो अब्बू और भाई ने मिलकर उसकी हत्या कर दी। इसके बाद उसका धड़ लक्खीपुरा नाले और सिर अंजुम पैलेस के पास नाले में फेंक दिया। पत्रकार सचिन गुप्ता ने ट्वीट कर बताया है कि पुलिस सिर की तलाश अभी भी कर रही है।

लड़की की सिर कटी लाश 12 अगस्त 2022 को मिला था। बदन पर काले रंग का पैंट और नीले रंग की छींट वाला टॉप था। सोशल मीडिया पर घटना का वीडियो भी वायरल हुआ था। रिपोर्ट के अनुसार शाहिद ने अपने बयान में कहा है कि कुछ साल पहले वह मेरठ की शहजाद कॉलोनी में परिवार के साथ रहता था। वसीम का घर उसके पड़ोस में ही था। इसी दौरान जान-पहचान हुई थी। लेकिन वसीम सैफी बिरादरी से है, जबकि शाहिद कुरैशी बिरादरी से आते हैं। उन्हें जब इस रिश्ते की भनक लगी तो परिवार ने सानिया को पहले काफी समझाया। फिर भी वह वसीम से छिपकर मिलती रही। एक बार छत से कूदकर आत्महत्या की कोशिश भी की।

शाहिद ने हत्या की बात कबूलते हुए कहा, “सानिया सो रही थी। उसी समय अजीम (सानिया का भाई) ने उसे कसकर पकड़ लिया। मैंने जानवर काटने वाले चाकू से एक ही वार में उसका सिर काट दिया।” लाश को फेंकने के बाद बाप-बेटे घर में आकर सो गए थे। जब परिवार के लोगों ने सानिया की खोज की तो शाहिद ने उसे बुआ के घर भेजने की बात कही थी।

लिसाड़ी गेट इलाके के लक्खीपुरा में गली नंबर 28 के पास सुबह 4 बजे के आसपास जब कुछ लोग मॉर्निंग वॉक पर निकले तो उन्होंने सिर कटी लाश देखी थी। लाश चादर की गठरी में बाँधी गई थी। गठरी कब्रिस्तान की बाउंड्री के पास रखी हुई थी। गठरी से खून निकलता देख लोगों ने पुलिस को खबर दी थी। ऑपइंडिया से बात करते हुए मेरठ के DSP अरविन्द चौरसिया ने कहा था कि शायद लाश को कब्रिस्तान में फेंकने का प्रयास किया गया होगा, लेकिन बाउंड्री से टकरा कर वह बाहर ही रह गई।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बंगाल का एक दुर्गा पूजा पंडाल ऐसा भी: याद उनकी जो चुनाव बाद मार डाले गए, सुनाई देगी माँ की रुदन

दुर्गा पूजा में अलग-अलग थीम के पंडाल के तैयार किए जाते हैं। पश्चिम बंगाल में इस बार एक पूजा पंडाल उन लोगों की याद में तैयार किया गया है जो विधानसभा चुनाव के बाद राजनीतिक हिंसा में मार डाले गए थे।

मूर्तिपूजकों को जहाँ देखो, वहीं लड़ो-काटो… ऐसे बनाओ IED बम: PFI पर 5 साल का बैन क्यों लगा, पढ़िए इसके कुकर्मों की पूरी लिस्ट

भारत सरकार ने पॉपुलर फ्रंट ऑफ़ इंडिया (PFI) और उससे जुड़ी 8 संस्थाओं पर बैन लगा दिया है। PFI की देश विरोधी गतिविधियों के कारण...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,749FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe