‘मेरी ऑटो में बैठो’… लेकिन महिला ने मना कर दिया तो मो. शकील ने दिखाते हुए हस्तमैथुन शुरू कर दिया

"32-वर्षीय मोहम्मद शकील अब्दुल कादिर मेमन आदतन अपराधी है। इसके पहले भी वो कई महिलाओं के साथ ऐसा ही अभद्र व्यवहार कर चुका है।"

मुंबई के रहने वाले 32-वर्षीय मोहम्मद शकील अब्दुल कादिर मेमन को मुंबई क्राइम ब्रांच ने मालवानी में एक महिला के सामने, उसे दिखाकर हस्तमैथुन करने के जुर्म में गिरफ़्तार कर लिया है। पेशे से ऑटो-चालक मेमन को गिरफ़्तार कल (11 सितंबर, 2019) को किया गया, और अपराध की तारीख पुलिस ने 1 सितंबर बताई है। आरोपित मलाड (पश्चिमी), मालवानी का ही निवासी बताया जा रहा है

ऑटो में न बैठने की दी ‘सज़ा’

20-वर्षीया महिला के अनुसार 1 तारीख को वह लिंक रोड स्थित चिंचोली बुंदेर बस स्टॉप पर बस का इंतज़ार कर रही थी, जब आरोपित ने अपना ऑटो उसके पास रोका और उसे ऑटो में बैठने के लिए कहा। महिला के मुताबिक उसके मना करने पर आरोपित मेमन ने अपनी पैंट की ज़िप खोलकर अपना गुप्तांग निकाला और महिला को दिखाने लगा। पुलिस के मुताबिक महिला ने उन्हें बताया कि तब महिला ने अपनी माँ को फ़ोन किया और घटना के बारे में बताया, और इसके बावजूद वहाँ से चले जाने की बजाय मेमन ने वहीं हस्तमैथुन शुरू कर दिया। महिला के शोर मचाने पर वह अपना ऑटो छोड़ कर भाग खड़ा हुआ। इसके बाद महिला और उसकी माँ ने बांगुर नगर पुलिस थाने जाकर रिपोर्ट दर्ज कराई।

सीसीटीवी फुटेज बेनतीजा

पुलिस ने बताया है कि हिरासत में लेकर मेमन को बांगुर नगर पुलिस थाने के हवाले कर दिया गया है, जहाँ उस पर कानूनी कार्रवाई होगी। यूनिट 11 के पुलिस इंस्पेक्टर चिमनजी आधव ने बताया कि जब महिला ने FIR की, तब उन्होंने तफ्तीश शुरू की और पता चला कि मेमन किसी और का ऑटो शिफ्ट पर चलाता था। इलाके के सीसीटीवी फुटेज की जाँच में कुछ नहीं मिला, लेकिन मलाड, गोरेगाँव और दहिसार चेक नाका इलाकों के ऑटो वालों से पूछताछ के आधार पर मेमन की शिनाख्त हुई, उसका पता मिला और उसे पुलिस ने धर दबोचा।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

एशियन एज पोर्टल ने पुलिस के हवाले से दावा किया है कि मेमन आदतन अपराधी है। इसके पहले भी कई महिलाओं के साथ ऐसा ही अभद्र व्यवहार वह कर चुका है।

‘दाढ़ी वाला ऑटो ड्राइवर मुझे देखकर हस्तमैथुन कर रहा था’: MBA कर रही 19 साल की लड़की की आपबीती

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सबरीमाला मंदिर
सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के अवाला जस्टिस खानविलकर और जस्टिस इंदू मल्होत्रा ने इस मामले को बड़ी बेंच के पास भेजने के पक्ष में अपना मत सुनाया। जबकि पीठ में मौजूद जस्टिस चंद्रचूड़ और जस्टिस नरीमन ने सबरीमाला समीक्षा याचिका पर असंतोष व्यक्त किया।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,578फैंसलाइक करें
22,402फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: