Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाजहँसी अचानक चीख में बदली, देखा तो सब डूब रहे थे : मोरबी हादसे...

हँसी अचानक चीख में बदली, देखा तो सब डूब रहे थे : मोरबी हादसे में बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने बचाई 170+ लोगों की जान, तुरंत नदी में कूदे

हादसे के वक्त वहाँ बजरंग दल के कार्यकर्ता चिराग परमार मौजूद थे। उन्होंने कहा "पुल टूटने से पानी में गिरने के बाद कई लोग जिंदगी और मौत के बीच जूझ रहे थे। यह देखने के बाद हम लोग तुरंत ही बचाव कार्य में लग गए। इस दौरान, महिलाओं और छोटे बच्चों के डूबने का दृश्य दिल दहला देने वाला था।"

गुजरात के मोरबी में रविवार (30 अक्टूबर 2022) को मच्छू नदी पर बने केबल पुल के टूटने से भीषण हादसा हो गया। इस हादसे में 141 लोगों की मौत हो गई, जबकि कई अन्य घायल हैं। अचानक हुए इस हादसे से जहाँ एक ओर चीख-पुकार मची हुई थी। वहीं, दूसरी ओर मौके पर मौजूद बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने नदी में छलांग लगाते हुए कई लोगों की जान बचाई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, जब यह हादसा हुआ तब वहाँ बजरंग दल के कुछ कार्यकर्ता मौजूद थे। इन कार्यकर्ताओं ने पुल टूटने के बाद मची चीख-पुकार के बीच 170 लोगों को नदी में डूबने से बचाया है।

दिव्य भास्कर की एक रिपोर्ट के अनुसार, इस हादसे के वक्त वहाँ मौजूद बजरंग दल के कार्यकर्ता चिराग परमार ने कहा है कि पुल टूटते ही चारों तरफ अफरा-तफरी मच गई थी। उन्होंने कहा है “पुल टूटने से पानी में गिरने के बाद कई लोग जिंदगी और मौत के बीच जूझ रहे थे। यह देखने के बाद हम लोग तुरंत ही बचाव कार्य में लग गए। इस दौरान, महिलाओं और छोटे बच्चों के डूबने का दृश्य दिल दहला देने वाला था।”

इस भीषण हादसे को लेकर बात करते हुए उन्होंने यह भी कहा है कि हर रविवार की तरह सब कुछ ठीक चल रहा था। हर कोई बेहतरीन टाइम बिताने के लिए यहाँ आया था। लेकिन, हँसी की आवाजों के बीच अचानक ही दहशत से भरी हुई चीखें सुनाई देने लगीं। इससे पहले कि कोई कुछ समझ पाता, 500 लोग नदी में गिर गए। फिलहाल 141 लोगों के शव निकाले जा चुके हैं जबकि 2 अब भी लापता हैं। पिछले 12 घंटे से नौसेना, वायुसेना और भारतीय सेना के जवान बचाव कार्य में जुटे हुए हैं।

इस हादसे के बाद से मोरबी जिले में मातम छाया हुआ है। दिवाली के लिए लगाई गई सभी लाइटें बुझा दी गई हैं। बचाव और राहत कार्यों में मदद के लिए स्वयंसेवक घटनास्थल पर पहुँच गए हैं। मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल, गृह मंत्री हर्ष संघवी समेत कई नेताओं ने अपने कार्यक्रम रद्द करते हुए घटना स्थल का जायजा लिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार (1 नवंबर 2022) को मोरबा जाएँगे।

घटना के तुरंत बाद गुजरात सरकार ने मृतकों के परिवार को 4 लाख और घायलों के परिवार को 50 हजार रुपए का मुआवजा देने का ऐलान किया है। वहीं, प्रधानमंत्री मोदी ने प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से हादसे में जान गँवाने वालों के परिवार को 2 लाख रुपए और घायलों को 50 हजार रुपए मुआवजा देने का ऐलान किया है।

दरअसल, मच्छू नदी पर बना केबल पुल 140 साल पुराना है। इस पुल के टूटने से पहले के कुछ वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। पुल के टूटने को लेकर विशेषज्ञों ने इस बात की आशंका जताई है कि इसमें इस्तेमाल किए गए केबल पुराने हो चुके थे। साथ ही, पुल में क्षमता से अधिक वजन हो गया था। इसलिए, केबल अधिक वजन नहीं सह सके और टूट गए। जिससे यह हादसा हो गया। हादसे पर संज्ञान लेते हुए पुलिस ने पुल के मेंटनेंस करने वाली कंपनी के मैनेजर समेत लोगों को हिरासत में लिया है। इन सभी से पूछताछ की जा रही है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोज सुरंग से भारत में घुसते हैं 10 रोहिंग्या मुस्लिम, भाषा-हुलिया बदलने की ट्रेनिंग दे 14 राज्यों में बसाए जा रहे: रिपोर्ट में बताया-...

जलील मियाँ का साथी (गिरोह का मुखिया) पहले ही NIA की शिकंजे में आ चुका था। वहीं इनके अन्य साथी जज मियाँ और शंतो अब तक फरार हैं। NIA इस गिरोह के 29 लोगों को गिरफ्तार कर चुका है।

सिग्नल पर नहीं रुकी मालगाड़ी, एक-दूसरे पर चढ़ गई ट्रेनें: कंचनजंगा एक्सप्रेस की बोगियों के उड़े परखच्चे, मृतकों में लोको पायलट और गार्ड भी

पश्चिम बंगाल के न्यूजलपाईगुड़ी में भीषण रेल हादसा हुआ है। यहाँ रंगपानी स्टेशन पर कंचनजंगा एक्सप्रेस ट्रेन में एक मालगाड़ी पीछे से टकरा गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -