Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजमस्जिद से 'लव जिहाद' का खुला राज: असद ने आशू बन लड़की का किया...

मस्जिद से ‘लव जिहाद’ का खुला राज: असद ने आशू बन लड़की का किया यौन शोषण, धराया

आशू ने एक काम होने का बहाना बनाते हुए कुछ देर में आने की बात कही। युवती को शक होने पर वह उसके पीछे-पीछे चली गई, जहाँ आशू एक मस्जिद में नमाज पढ़ता मिल गया। पीड़िता ने सवाल-जवाब किए तो आरोपित ने अपना नाम असली नाम असद खान बताया।

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में लव जिहाद का एक मामला सामने आया है। जहाँ अशोका गार्डन इलाके में 30 वर्षीय मैकेनिक ने असद ने आशू बन कर 20 वर्षीय इंजीनियरिंग की छात्रा को प्रेम जाल में फँसाया था। युवती से दोस्ती के वक्त असद ने खुद को मैकेनिकल इंजीनियर बताया था। जिसके बाद शादी का झाँसा देकर वह 2 साल तक उसका शारीरिक शोषण करता रहा। फिर वह युवती पर इस्लाम कबूल करने का दबाव बनाने लगा। मामला तब खुला जब छात्रा ने उसे नमाज पढ़ते वक्त पकड़ लिया था।

एएसपी राजेश सिंह भदौरिया ने मीडिया को बताया कि मध्यप्रदेश धार्मिक स्वतंत्रता अध्यादेश 2020 (लव जिहाद) की धारा 3, 5 और अन्य धाराओं में भोपाल में पहला मामला दर्ज किया गया है। साथ ही, आरोपित असद को गिरफ्तार कर लिया गया है।

क्या है पूरा मामला

पुलिस के अनुसार, 23 वर्षीय पीड़िता बालाघाट की रहने वाली है। वह इंजीनियरिंग सेकंड इयर की छात्रा है। 2 साल पहले आशू से उसकी दोस्ती हुई थी जो कि खुद को मैकेनिकल इंजीनियर बताता था। उसके बाद आशू ने खुद को हिंदू बता कर पीड़िता के साथ नजदीकी बढ़ाई। जिसके बाद आशू 12 दिसंबर 2019 को पीड़िता को अशोका गार्डन स्थित अपने किराए के मकान में ले गया। वहाँ उसने छात्रा से कई बार शारीरिक संबंध बनाए। 

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पीड़िता ने पुलिस को बताया कि 19 मार्च 2020 को आशू का जन्मदिन था। ऐसे में वह युवती को घुमाने के लिए रायसेन ले गया और वह एक होटल में ठहरा। वहाँ आशू ने एक काम होने का बहाना बनाते हुए कुछ देर में आने की बात कही। युवती को शक होने पर वह उसके पीछे-पीछे चली गई, जहाँ आशू एक मस्जिद में नमाज पढ़ता मिल गया। पीड़िता ने सवाल-जवाब किए तो आरोपित ने अपना नाम असली नाम असद खान बताया।

युवती ने झूठ बोलने की वजह पूछी तो आरोपित असद उस पर निकाह करने के लिए दबाव बनाने लगा। और यह भी कहा कि मैं एक साधारण मैकेनिक हूँ। इसके बाद पीड़ित युवती उससे दूरी बनाने लगी। लेकिन असद इस्लाम कबूल कर पीड़िता पर निकाह का दबाव बनाता रहा। साथ ही निकाह नहीं करने पर जान से मारने की धमकी भी देने लगा। पीड़िता ने यह भी बताया कि असद बात न मानने पर उसकी तस्वीर सोशल मीडिया पर डाल कर अश्लील कमेंट भी करता था।

पीड़िता के मुताबिक, असद का मजहब पता चलने पर उसने आरोपित से दूरी बना ली, लेकिन असद ने उसका पीछा करना नहीं छोड़ा। अक्टूबर 2020 में असद ने उसे रास्ते में रोक लिया और फिर से निकाह का दबाव बनाने लगा। साथ ही, पीड़िता से मारपीट भी की। वहीं, 11 जनवरी 2021 को उसने युवती पर इस्लाम कबूल करने का फिर से दबाव बनाया। साथ ही, 19 जनवरी 2021 को असद ने युवती की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर पोस्ट कर आपत्तिजनक टिप्पणी की। ऐसे में पीड़िता ने मामले की शिकायत भाजपा जिला कार्यसमिति के सदस्य संजय मिश्रा से की और थाने में केस दर्ज करा दिया। 

भोपाल से भागते वक़्त धराया

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, बताया जा रहा है कि अपने खिलाफ केस दर्ज होने की जानकारी मिलने के बाद असद ने भोपाल से भागने की कोशिश की। पुलिस को इसकी भनक लग गई तो उन्होंने असद खान उर्फ आशू की तलाश शुरू कर दी और उसे रेलवे स्टेशन से दबोच लिया। इसके बाद वहीं से आरोपित को हिरासत में ले लिया गया।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe