Thursday, June 13, 2024
Homeदेश-समाज'प्रण है हिंदुओं को खंड-खंड नहीं होने दूँगा' : MP में बागेश्वर धाम वाले...

‘प्रण है हिंदुओं को खंड-खंड नहीं होने दूँगा’ : MP में बागेश्वर धाम वाले पंडित धीरेंद्र शास्त्री से कथा सुन 95 लोगों ने की घर वापसी, बोले- लालच में फँसकर बने थे ईसाई

पंडित धीरेंद्र कृष्णा शास्त्री ने 95 लोगों को धर्म की शपथ दिलाई। इस दौरान घर वापसी करने वाले लोगों ने बताया कि उन्हें किन परिस्थितियों में ईसाई बना दिया गया था और उन्हें क्या कहा गया था। महिला ने बताया कि उसे मंगलसूत्र पहनने से मना कर दिया गया था

मध्यप्रदेश के सागर जिले में बागेश्वर धाम के पंडित धीरेंद्र शास्त्री द्वारा करवाई जा रही कथा में 50 से ज्यादा परिवारों के 95 लोगों ने सनातन धर्म अपनाया। ये लोग जिले के अलग-अलग गाँवों के रहने वाले हैं। उन्होंने घर वापसी के वक्त कहा कि वो लोग लालच में आकर ईसाई बन गए थे लेकिन अब फिर ऐसाइ नहीं होगा।

बता दें कि सागर जिले के बहेरिया इलाके में बांके बिहारी नगर में पंडित धीरेंद्र शास्त्री 24 अप्रैल से कथा कर रहे थे। रविवार को इस कथा का अंतिम दिन था। इसी दिन 95 लोगों ने घर वापसी करते हुए कहा- “हम लालच में आकर मार्ग से भटक गए थे। लेकिन अब नहीं भटकेंगे। हम सनातन में ही रहेंगे।”

पंडित धीरेंद्र कृष्णा शास्त्री ने इन्हें धर्म की शपथ दिलाई। इन्हें पीली पट्टिका पहनाकर इनका हिंदू धर्म में स्वागत किया गया। इस दौरान घर वापसी करने वाले लोगों ने बताया कि उन्हें किन परिस्थितियों में ईसाई बना दिया गया था और उन्हें क्या कहा गया था।

नौनेलाल नाम के शख्स ने कहा कि कि पैसे देने और बच्चों की पढ़ाई का लालच देकर उन लोगों को ईसाई बनाया गया था। लेकिन जब उन्होंने पंडित धीरेंद्र शास्त्री की कथा सुनी तो उनकी आत्मा जाग गई। वे बोले- अब जबतक जिंदगी रहेगी, सनातनी धर्म में ही रहेंगे। कहीं नहीं जाएँगे चाहे कोई कितना ही दम लगाए।

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार, दयाल नाम के शख्स ने बताया कि उसे पानी में डुबकी लगवाकर ईसाई बनाया गया था और ऐसा करने के बाद उसे बकरी, मच्छरदानी और कंबल भी मिले थे। दयाल ने कहा, “मजदूरी करते थे इसलिए लालच में आ गए। उन्होंने कहा था कि ईसाई धर्म मानोगे तो ऐसे ही सब कुछ मिलेगा।” वहीं घर वापसी करने वाली एक महिला ने भी बताया कि कैसे उसे ईसाई बनाकर उसे मंगलसूत्र पहनने से मना किया गया था।

95 लोगों की सनातन में वापसी कराने के बाद बागेश्वर धाम वाले पंडित धीरेंद्र शास्त्री ने कहा, “हम जातिवाद में नहीं पड़ते। आज से आप लोग हमारा परिवार है।” उन्होंने हिंदुओं से अपील की कि सभी घर वापसी वाले लोगों को अपना परिवार मानें। उन्होंने कहा कि अगर आज भी हिंदू नहीं जागे तो इसी तरह उन्हें खंड-खंड किया जाता रहेगा। पंडित धीरेंद्र शास्त्री बोले- “मेरा प्रण है कि मैं हिंदुओं को खंड-खंड नहीं होने दूँगा। ये अभियान चलता रहेगा।”

बता दें कि पंडित धीरेंद्र शास्त्री ने इससे पहले भी कई धर्मांतरित लोगों को घर वापसी करवाई है। इस माह फरवरी में 200 से ज्यादा लोग उनका आशीर्वाद लेकर सनातन में आए। उससे पहले क्रिसमस के ही दिन करीबन 300 लोगों ने हिंदू धर्म स्वीकारा था। इस अभियान के कारण उन्हें कई बार निशाना भी बनाया गया। लेकिन उन्होंने ये साफ कहा कि वो हिंदुओं को बिखरने से बचाते रहेंगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लड़की हिंदू, सहेली मुस्लिम… कॉलेज में कहा, ‘इस्लाम सबसे अच्छा, छोड़ दो सनातन, अमीर कश्मीरी से कराऊँगी निकाह’: देहरादून के लॉ कॉलेज में The...

थर्ड ईयर की हिंदू लड़की पर 'इस्लाम' का बखान कर धर्म परिवर्तन के लिए प्रेरित किया गया और न मानने पर उसकी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी गई।

जोशीमठ को मिली पौराणिक ‘ज्योतिर्मठ’ पहचान, कोश्याकुटोली बना श्री कैंची धाम : केंद्र की मंजूरी के बाद उत्तराखंड सरकार ने बदले 2 जगहों के...

ज्तोतिर्मठ आदि गुरु शंकराचार्य की तपोस्‍थली रही है। माना जाता है कि वो यहाँ आठवीं शताब्दी में आए थे और अमर कल्‍पवृक्ष के नीचे तपस्‍या के बाद उन्‍हें दिव्‍य ज्ञान ज्‍योति की प्राप्ति हुई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -