Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजपाँव में लगी गोली, 6 बार सर्जरी, 6 महीने रहीं बेड पर: 10 साल...

पाँव में लगी गोली, 6 बार सर्जरी, 6 महीने रहीं बेड पर: 10 साल की उम्र में जिस लड़की ने कोर्ट में की थी कसाब की पहचान, उससे मिले UN महासचिव

"मैंने UN महासचिव से कहा कि मैं छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस पर घायल हो गई थी और अदालत में अजमल कसाब की पहचान की थी। मैंने उनसे यह भी कहा कि मैं पढ़ना चाहती हूँ और एक अधिकारी बनना चाहती हूँ।"

मुंबई में हुए 26/11 आतंकवादी हमले (Mumbai Terror Attack) की सर्वाइवर और प्रत्यक्षदर्शी देविका रोतावन (Devika Rotawan) ने संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस (Antonio Guterres) से मुलाकात की। गुटेरेस तीन दिवसीय आधिकारिक यात्रा (18-20 अक्टूबर) पर भारत पहुँचे हैं। उन्होंने अपनी यात्रा की शुरुआत मुंबई से की है। देविका ने हमले के दौरान जिंदा पकड़े गए आतंकी आमिर अजमल कसाब की पहचान की थी।

देविका ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा, “मैंने उनसे (गुटेरेस) से कहा कि मैं छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस पर घायल हो गई थी और अदालत में अजमल कसाब की पहचान की थी। मैंने उनसे यह भी कहा कि मैं पढ़ना चाहती हूँ और एक अधिकारी बनना चाहती हूँ। आतंकवाद को खत्म करना चाहती हूँ।”

रोतावन 26/11 मुंबई आतंकवादी हमलों में शामिल लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादी अजमल कसाब के खिलाफ गवाही देने वाली सबसे कम उम्र की गवाह थी। मुंबई हमलों के दौरान रोतावन महज दस साल थी और वे पुणे जाने के लिए अपने पिता और भाई के साथ छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस (CSMT) पहुँची थीं।

26/11 की भयावह रात आतंकवादियों द्वारा चलाई गई गोली उसके पैर पर लगी थी। गोली लगने के बाद वह बेहोश हो गई और उसे सेंट जॉर्ज अस्पताल ले जाया गया। हमले के बाद देविका के दो महीने के भीतर 6 सर्जिकल ऑपरेशन हुए और उसे 6 महीने बेड पर रहना पड़ा। जिसके बाद उसने आतंकवादी अजमल कसाब के खिलाफ गवाही दी थी। वह मुंबई आतंकवादी हमले के मामले में सबसे कम उम्र की गवाह बनी थी।

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस अपनी तीन दिवसीय यात्रा के पहले दिन मुंबई के होटल ताज पैलेस में 26/11 आतंकी हमले में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान गुटेरेस ने कहा कि आतंकवाद एक पूर्ण बुराई है। उन्होंने कहा कि कोई कारण, बहाना, शिकायतें आतंकवाद को सही नहीं ठहरा सकती। गुटेरेस बुधवार आधी रात (18 अक्टूबर, 2022) के बाद लंदन से एक व्यावसायिक उड़ान के जरिए मुंबई पहुँचे।

देविका रोतावन अगस्त 2020 में तब चर्चा में आई थीं, जब उन्होंने बॉम्बे हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। वजह ये थी कि ईडब्ल्यूएस स्कीम के तहत उन्हें मकान जिसे देने का वादा महाराष्ट्र सरकार ने किया था, जो उन्हें नहीं मिला। उन्होंने बताया था कि उनका पूरा परिवार भारी वित्तीय संकट से जूझ रहा है, लिहाजा उन्होंने घर के साथ-साथ कुछ ऐसा प्रबंध करने की गुहार लगाई थी, जिससे वह अपनी आगे की पढ़ाई जारी रख सके।

हाँलाकि, देविका ने यह भी बताया था कि उन्हें पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की ओर से 10 लाख की सहायता राशि मिली थी, जो उनके टीबी के इलाज में खर्च हो गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20000 महिलाओं को रेप-मौत से बचाने के लिए जब कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RSS से माँगी थी मदद: एक पत्र में दर्ज इतिहास, जिसे छिपा...

पत्र में कहा गया था कि आरएसएस 'फील्ड वर्क' के लिए लोगों को अत्यधिक प्रशिक्षित करेगा और संघ प्रमुख श्री गोलवरकर से परामर्श लिया जा सकता है।

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -