Thursday, June 20, 2024
Homeदेश-समाजमहाराष्ट्र में लौटी कोरोना की दहशत: बांद्रा के कैफे पर FIR दर्ज, BMC ने...

महाराष्ट्र में लौटी कोरोना की दहशत: बांद्रा के कैफे पर FIR दर्ज, BMC ने ठोका ₹50,000 का जुर्माना

महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। ऐसे में संभावना जताई जा रही है कि सार्वजनिक परिवहन, शैक्षणिक संस्थानों और धार्मिक स्थानों को खोलने के कुछ दिनों बाद फिर से लॉकडाउन लगाया जा सकता है।

बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने COVID -19 दिशानिर्देशों के तहत सामाजिक सुरक्षा मानदंडों का उल्लंघन करने पर बांद्रा में एक कैफे के खिलाफ शिकायत दर्ज की है। बीएमसी ने कोविड-19 मानदंडों के पालन ना करने पर कैफे पर 50,000 रुपए का जुर्माना लगाया है।

शनिवार (फरवरी 20, 2021) को देर रात हुई छापेमारी के दौरान 200 लोगों के कैफे में पाए जाने के बाद बांद्रा वेस्ट में ‘कैफे 145’ के खिलाफ बीएमसी द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के आधार पर प्राथमिकी दर्ज की गई है। छापे के दौरान पाया गया कि लोग कैफे में बिना मास्क पहने हुए मौजूद थे और सोशल डिस्टेंसिंग के मानकों का भी पालन नहीं किया जा रहा था। 

महाराष्ट्र में एक बार फिर बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए BMC ने मुंबई के रेस्तराँ, कैफे और पब पर अपनी कार्रवाई शुरू कर दी है। जो भी मुंबई और महाराष्ट्र के अन्य हिस्सों में बढ़ते कोरोना मामलों के मद्देनजर कोविड के मानकों का पालन नहीं कर रहे हैं, उनके खिलाफ सख्ती से एक्शन लिया जा रहा है।

शनिवार रात ही बांद्रा वेस्ट में कई रेस्तराँ, क्लब और कैफे पर छापा मारा गया और मानकों के उल्लंघन के लिए इन पर भारी जुर्माना लगाया गया। बीएमसी ने शनिवार रात ही बांद्रा वेस्ट में तीन अन्य होटलों और क्लबों में भी छापे मारे।

बीएमसी ने आयरिश हाउस पाली हिल पर 30,000 रुपए, खार में यू टर्न स्पोर्ट्स बार पर 20,000 रुपए और क्वार्टर पिलर बार एवं रेस्तराँ पर 30,000 रुपए का जुर्माना लगाया गया। इन सभी स्थानों पर, 100 से अधिक लोग एक स्थान पर एकत्रित हुए थे और बीएमसी के आदेशों के खिलाफ जाने वाले कोविद प्रोटोकॉल का उल्लंघन करते पाए गए थे।

महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। ऐसे में संभावना जताई जा रही है कि सार्वजनिक परिवहन, शैक्षणिक संस्थानों और धार्मिक स्थानों को खोलने के कुछ दिनों बाद फिर से लॉकडाउन लगाया जा सकता है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने रविवार (फरवरी 21, 2021) को राज्य की जनता को संबोधित किया। उन्होंने सोमवार से राज्य में भीड़-भाड़ वाले सारे राजनीतिक और धार्मिक कार्यक्रम पर पाबंदी लगाने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि अगर यहीं स्थिति रही तो फिर से राज्य में लॉकडाउन लगाना पड़ सकता है।

उन्होंने लोगों को 8 दिन का अल्टीमेटम देते हुए कहा कि जो लोग लॉकडाउन नहीं चाहते, वे मास्क जरूर पहनें। जो लोग राज्य में लॉकडाउन चाहते हैं, वे बिना मास्क के घरों से बाहर निकलें। उन्होंने कहा कि राज्य में कोरोना के मामले फिर से बढ़ रहे हैं। अगले 8 से 15 दिनों में हमें पता चल जाएगा कि यह कोरोना की नई लहर है या नहीं? उन्होंने निजी फर्मों से वर्क फ्रॉम होम पॉलिसी अपनाने के लिए कहा है, ताकि भीड़-भाड़ से बचा सके।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘फूफा ने कहा कोटा से आ जाओ सेटिंग हो चुकी है’: NEET पेपर लीक में अनुराग यादव का कबूलनामा, कहा- परीक्षा से एक रात...

अनुराग यादव का इकबालिया बयान भी सामने आ गया है। अनुराग यादव ने अपने बयान में कहा है, उसे एक रात पहले ही प्रश्नपत्र मिल गया था।

बिहार में सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में नहीं मिलेगा 65% आरक्षण, पटना हाई कोर्ट ने लगाई रोक: कहा- इन मामलों पर संवैधानिक बेंच...

बिहार सरकार ने एससी-एसटी और ईबीसी वर्ग के लिए आरक्षण 50% से बढ़ाकर 65% किया था। पटना हाईकोर्ट ने इसे समाप्त कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -