Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाज6 साल से दहेज में बुलेट मॉंग रहा था विक्की खान, नहीं मिली तो...

6 साल से दहेज में बुलेट मॉंग रहा था विक्की खान, नहीं मिली तो बीवी खुशबू की चाकू से नाक काटी

खुशबू पिछले 18 महीने से मायके में ही रहती थी। 10 दिन पहले चचिया ससुर उसे अपने जिम्मेदारी पर ससुराल लेकर गए। जहाँ पहुँचते ही पति दोबारा उससे मारपीट करने लगा।

उत्तर प्रदेश के हाथरस में दहेज में बुलेट बाइक की माँग पूरी न होने के कारण एक मुस्लिम युवक ने अपनी बीवी की नाक काट दी। इस बात की जानकारी जब महिला के परिजनों को हुई तो वह फौरन लड़की के ससुराल पहुँचे और उसे थाने ले जाकर पूरे मामले की शिकायत दर्ज कराई। इसके बाद पुलिस ने घायल महिला को अस्पताल भेजा।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, कोतवाली सदर क्षेत्र के किला गेट निवासी इकबाल खान ने 6 साल पहले अपनी बेटी का निकाह किंदौली के विक्की खान से किया था। खुशबू के पिता की शिकायत के मुताबिक ससुराल पक्ष निकाह के वक्त से ही बुलेट बाइक की माँग कर रहा था। लेकिन वह देने में अक्षम थे। इसके कारण उनकी बेटी को ससुराल में परेशान किया जाता था।

निकाह के 6 साल बीतने के बावजूद भी बुलेट न मिलने के कारण शौहर-बीवी के रिश्ते में दरार आ गई। पारिवारिक विवाद इतना बढ़ चुका था कि खुशबू पिछले 18 महीने से मायके में ही रहती थी। 10 दिन पहले चचिया ससुर उसे अपने जिम्मेदारी पर ससुराल लेकर गए। जहाँ पहुँचते ही पति दोबारा उससे मारपीट करने लगा।

अमर उजाला में प्रकाशित खबर

यह भी पढ़ें…

शनिवार (अक्टूबर 12, 2019) को खूशबु दोबारा अपने मायके किसी कार्यक्रम में आई, लेकिन रविवार को जब ससुराल लौटी तो भी उसका पति अपनी हरकतों से बाज नहीं आया। कहा जा रहा है सोमवार (अक्टूबर 14, 2019) की सुबह तड़के उसने खुशबू से मारपीट की और चाकू से उसकी नाक काट दी। इसके बाद उसने खुशबू को उसके कंधे पर मारकर घायल किया।

खुशबू के पिता को इस बात की जब जानकारी हुई तो वह फौरन अपने परिवार के साथ किंदौली में खुशबू के ससुराल पहुँचे। लड़की की हालत देखकर उसे तुरंत निजी अस्पताल ले जाया गया और फिर शिकायत के लिए थाने पहुँचे। पीड़ित पक्ष की ओर से आरोपित पति समेत पाँच के ख़िलाफ़ मामला दर्ज हुआ है। लेकिन अभी किसी गिरफ्तारी की कोई सूचना नहीं हैं। पुलिस मामले की जाँच में जुटी है और मामले से संबंधित जरूरी कार्रवाई की जा रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe