बाबरी पक्षकार ने लगाया ‘पाकिस्तान ज़िंदाबाद’ का नारा तो नेशनल शूटर ने घर में घुस के कूटा

वर्तिका का कहना है कि बातचीत के दौरान इक़बाल अंसारी ने न सिर्फ़ पाकिस्तान के समर्थन में नारे लगाए बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह को लेकर अपशब्द भी कहे।

राम मंदिर मामले में मुस्लिम पक्षकार इक़बाल अंसारी ने नेशनल शूटर वर्तिका सिंह पर मारपीट का आरोप लगाया है। इक़बाल अंसारी ने कहा कि वर्तिका सिंह तीन तलाक़ सहित अन्य गंभीर मुद्दों पर चर्चा करने के लिए उनके घर आई थी। इसी दौरान दोनों के बीच गर्मागर्म बहस होने लगी और गुस्से में वर्तिका ने अंसारी पर हमला कर दिया। हालाँकि, वर्तिका ने कहा है कि बातचीत के दौरान अंसारी ने ‘पाकिस्तान ज़िंदाबाद’ के नारे लगाए।

पुलिस ने वर्तिका और उनके एक साथी को हिरासत में ले लिया है। पुलिस का कहना है कि वर्तिका से पूछताछ की जा रही है। इस दौरान वर्तिका सिंह ने एक वॉइस मैसेज के माध्यम से बताया कि पुलिस ने उन्हें किसी गेस्ट हाउस में रखा हुआ है। पुलिस ने कहा कि उन्हें लखनऊ ले जाकर छोड़ दिया जाएगा लेकिन अभी भी वे हिरासत में ही हैं।

इक़बाल अंसारी ने आरोप लगाया कि वर्तिका उन पर सुप्रीम कोर्ट से मामला वापस लेने का आरोप लगा रही थी। इक़बाल अंसारी के अनुसार, वर्तिका ने धमकी दी कि वह अंतरराष्ट्रीय शूटर हैं और बाबरी केस वापस न लेने पर उन्हें गोली मार देंगी। राजीव धवन ने इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में भी उठाया।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

वर्तिका का कहना है कि बातचीत के दौरान इक़बाल अंसारी ने न सिर्फ़ पाकिस्तान के समर्थन में नारे लगाए बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह को लेकर अपशब्द भी कहे। बता दें कि राम मंदिर की नियमित सुनवाई चल रही है और इक़बाल अंसारी बाबरी मस्जिद की तरफ से मुख्य पक्षकार हैं। वकील राजीव धवन मुस्लिम पक्ष की पैरवी कर रहे हैं।

हाल ही में चेन्नई के एक 88 वर्षीय प्रोफेसर ने राजीव धवन को पत्र लिख कर उन पर आस्था के साथ विश्वासघात करने का आरोप लगाया था। प्रोफ़ेसर ने धवन से पूछा था कि वह ईश्वर के विरुद्ध कैसे जा सकते हैं? इस मामले में प्रोफ़ेसर के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट ने अवमानना नोटिस भी जारी किया है। वर्तिका सिंह ने बताया कि वह अयोध्या रामलला के दर्शन के लिए गई थीं। वह मूल रूप से प्रतापगढ़ की निवासी हैं।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी हत्याकांड
आपसी दुश्मनी में लोग कई बार क्रूरता की हदें पार कर देते हैं। लेकिन ये दुश्मनी आपसी नहीं थी। ये दुश्मनी तो एक हिंसक विचारधारा और मजहबी उन्माद से सनी हुई उस सोच से उत्पन्न हुई, जहाँ कोई फतवा जारी कर देता है, और लाख लोग किसी की हत्या करने के लिए, बेखौफ तैयार हो जाते हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

107,042फैंसलाइक करें
19,440फॉलोवर्सफॉलो करें
110,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: