Friday, October 7, 2022
Homeदेश-समाजमुखबिरी के शक में नक्सली आतंकियों ने की ग्रामीण की गोली मारकर हत्या

मुखबिरी के शक में नक्सली आतंकियों ने की ग्रामीण की गोली मारकर हत्या

नक्सलियों ने ग्रामीण संतु गोटा को घर से जबरन निकालकर अगवा कर लिया और जंगल में ले गए। जब परिजनों ने इसका विरोध किया तो नक्सलियों ने कहा कि वह बातचीत करके छोड़ देंगे। लेकिन तीन दिन बाद ग्रामीण का शव रेंगावाही गाँव के सड़क के किनारे मिला। मृतक के शव पर डंडे के निशान भी पाए गए हैं।

छत्तीसगढ़ में एक बार फिर बौखलाए नक्सलियों ने एक ग्रामीण को निशाना बनाया है। बीती रात नक्सलियों ने मुखबिरी के शक में कांकेर जिले में ग्रामीण की गोली मारकर की हत्या कर दी। पुलिस के अनुसार, पखाँजूर के समीप छोटे बेठिया थाना क्षेत्र रेंगावाही गाँव के निवासी संतु गोटा को नक्सलियों ने मुखबिरी करने के सन्देह में गोली मार दी। 

स्थानीय रिपोर्ट्स के अनुसार, 15 से 20 हथियारबंद नक्सलियों ने ग्रामीण संतु गोटा को घर से जबरन निकालकर अगवा कर लिया और जंगल में ले गए। जब परिजनों ने इसका विरोध किया तो नक्सलियों ने कहा कि वह बातचीत करके छोड़ देंगे। लेकिन तभी से वह गायब हो गए। बुधवार (मई 08, 2019) को तीन दिन बाद ग्रामीण का शव रेंगावाही गाँव के सड़क के किनारे मिला। मृतक के शव पर डंडे के निशान भी पाए गए हैं।

उसके सीने के बीचो-बीच में नक्सलियों ने गोली मारी है। मृतक के बारे में जानकारी मिलते ही घर में मातम छा गया। जिसके बाद परिजनों ने इसकी जानकारी नजदीकी पुलिस थाने में दी। मृतक के शव को पखांजुर हॉस्पिटल में पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है। इस घटना के बाद इलाके में सुरक्षाबलों ने सर्चिंग बढ़ा दी है। गौरतलब है कि इलाके में लगातार नक्सलियों का आतंक जारी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मंदिर में नमाज गंगा-जमुनी तहजीब, कर्नाटक के बीदर में पारंपरिक दशहरा पूजा मस्जिद-मुस्लिमों पर हमला: इस्लामी प्रलाप कब तक भोगते रहेंगे हिंदू

कर्नाटक के बीदर में दशहरा पूजा की जो परिपाटी निजाम काल से चल रही है, उस पर इस्लामी प्रलाप चल रहा है। इसके दबाव में पुलिस ने 9 हिंदुओं पर एफआईआर की है।

राजस्थान में छाया बिजली संकट: 23 थर्मल स्टेशनों में से 11 बंद, प्रदेश में बचा है सिर्फ 4 दिन का कोयला

राजस्थान में बिजली संकट का खतरा बढ़ता जा रहा है। कोयले की आपूर्ति न होने के कारण प्रदेश में 23 थर्मल स्टेशनों में से 11 ने बिजली उत्पादन करना बंद कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
226,757FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe