Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजनक्सलियों ने जारी किया बंधक जवान का फोटो, भाई ने कहा - 'भरोसा नहीं,...

नक्सलियों ने जारी किया बंधक जवान का फोटो, भाई ने कहा – ‘भरोसा नहीं, ऑडियो या वीडियो जारी करें’

कोबरा जवान राकेश्वर के भाई रणजीत सिंह ने कहा - "इस फोटो पर संदेह है। यह फोटो राकेश्वर के मोबाइल की कोई पुरानी फोटो भी हो सकती है। राकेश्वर का ऑडियो अथवा वीडियो जारी करें।"

बीजापुर में नक्सलियों के साथ हुई मुठभेड़ में 23 जवान बलिदान हो गए थे तथा 31 जवान घायल हुए थे। एक जवान, राकेश्वर सिंह मनहास के लापता होने की खबर भी आई थी। अब नक्सलियों ने बंधक बनाए गए जवान राकेश्वर की फोटो जारी की है और कहा है कि सरकार बातचीत के लिए मध्यस्थ की नियुक्ति करे, जिसके बाद राकेश्वर को छोड़ दिया जाएगा। हालाँकि राकेश्वर के भाई ने कहा है कि उन्हें इस फोटो पर भरोसा नहीं है। नक्सली राकेश्वर का वीडियो अथवा ऑडियो जारी करें।  

सीआरपीएफ के सूत्रों ने भी यह पुष्टि की है कि तस्वीर में दिखाई देने वाले शख्स कोबरा जवान राकेश्वर सिंह मनहास ही हैं और सीआरपीएफ उनकी रिहाई के प्रयास कर रही है।

इसी बीच बीजापुर के एक पत्रकार गणेश मिश्रा ने यह दावा किया है कि उसके पास नक्सलियों के दो फोन कॉल आए, जिसमें उन्होंने बताया कि एक जवान उनके पास बंधक है। वह गोली लगने के कारण घायल है और उसका इलाज चल रहा है और उसे दो दिनों में रिहा कर दिया जाएगा। गणेश के मुताबिक नक्सलियों ने यह भी कहा कि जल्द ही जवान का फोटो और वीडियो जारी किया जाएगा।

हालाँकि कोबरा जवान राकेश्वर के भाई रणजीत सिंह का कहना है कि उन्हें इस फोटो पर संदेह है। यह फोटो राकेश्वर के मोबाइल की कोई पुरानी फोटो भी हो सकती है। रणजीत ने राकेश्वर का ऑडियो अथवा वीडियो जारी करने की माँग भी की है।

3 अप्रैल 2021 को सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ के बाद अब नक्सलियों के द्वारा प्रेस नोट जारी करके हमले की पुष्टि की गई है और एक जवान के उनके कब्जे में होने की बात कही है। नक्सलियों द्वारा शर्त रखी गई है कि सरकार बातचीत के लिए मध्यस्थ की नियुक्ति करे, जिसके बाद जवान को रिहा कर दिया जाएगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,361FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe