Thursday, May 23, 2024
Homeदेश-समाजओडिशा में जनजाति आयोग की टीम पर 2 बार हमला, 300 की भीड़ ने...

ओडिशा में जनजाति आयोग की टीम पर 2 बार हमला, 300 की भीड़ ने घेरा: NCST ने तलब की रिपोर्ट, कहा – सुरक्षा को लेकर प्रशासन गंभीर नहीं

"मुझे तेलकोइ प्रखंड के बलभद्रपुर पंचायत में लोगों की शिकायत सुनने के लिए जाना था। कांजीपानी के पास लगभग 300 लोगों ने हमें घेर लिया और शिकायत दर्ज कराने की बात कही। लेकिन, उनकी कुछ और ही साजिश थी।"

ओडिशा में ‘National Commission for Scheduled Tribes (NCST)’ के सदस्य पर भीड़ ने हमला कर दिया। इस सम्बन्ध में संस्था ने अब राज्य के मुख्य सचिव, DGP और ADG (क्राइम ब्रांच) से रिपोर्ट तलब किया है। ‘राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग’ के सदस्य जनजातीय समुदाय की समस्याओं की सुनवाई के लिए वहाँ गए थे। बता दें कि राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू इसी समुदाय से ताल्लुक रखती हैं और ओडिशा की ही हैं।

NCST के सदस्य अनंता नायक पर ये हमला क्योंझर इलाके में हुआ। अनंता नायक पर हाल ही में दो बार हमला हुआ, जिससे अधिकारियों को मिली सुरक्षा पर सवाल खड़े होते हैं। उन्होंने इस हमले को साजिश के तहत हुई घटना करार देते हुए बताया कि स्थानीय SP को इस सम्बन्ध में पहले ही सूचित कर दिया गया था। कुछ लोगों ने उन्हें कांजीपानी पुलिस थाने के पास एक शिकायत के निपटारे को कह कर अपने साथ ले लिया और आगे ले जाकर हमला कर दिया।

NCST के सदस्य ने बताया, “मुझे तेलकोइ प्रखंड के बलभद्रपुर पंचायत में लोगों की शिकायत सुनने के लिए जाना था। कांजीपानी के पास लगभग 300 लोगों ने हमें घेर लिया और शिकायत दर्ज कराने की बात कही। लेकिन, उनकी कुछ और ही साजिश थी। उन्होंने हम पर हमला कर दिया। हमारी टीम के कुछ सदस्य घायल भी हो गए। जिला प्रशासन ने हमें उचित सुरक्षा नहीं मुहैया कराई थी। इसी कारण ये घटना हुई।” इसके बाद NCST की टीम किसी अन्य रास्ते से बलभद्रपुर पहुँची और लोगों की शिकायतें सुनी।

इससे दो दिन पहले NCST की टीम पर हरीचंदनपुर प्रखंड के भंगमुण्डा में हमला हुआ था। इस घटना के बारे में बताते हुए जनजातीय नेता किरण बाला नायक ने बताया कि NCST को जनजातीय समुदाय को न्याय देने से रोकने के लिए ऐसे हमलों को अंजाम दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जनजातीय समुदाय का विकास कुछ लोगों को खटक रहा है, इसीलिए वो ऐसी हरकतें कर रहे हैं। उन्होंने जिला प्रशासन पर ऐसे तत्वों को बचाने का आरोप लगाया। NCST की सेक्रेटरी अलका तिवारी ने अब अधिकारियों को नोटिस भेज कर जवाब तलब किया है।

NCST ने ओडिशा के अधिकारियों से जवाब तलब किया

इस पत्र में उन्होंने बुधवार (29 जुलाई, 2022) की पहली घटना का जिक्र करते हुए लिखा कि करीब 50 लोगों ने NCST की टीम को घेर कर नारेबाजी और गालियाँ दी। इसके बाद स्थानीय प्रशासन को इस सम्बन्ध में सूचित कर सुरक्षा बढ़ाने की माँग की गई। दूसरा हमला 1 अगस्त को हुआ। NCST का कहना है कि ये सब पूर्व-नियोजित साजिश के तहत हुआ लगता है और टीम की सुरक्षा को प्रशासन गंभीर नहीं है। 3 दिन के अंदर जाँच पूरी कर रिपोर्ट माँगते हुए आयोग ने इसे इंटेलिजेंस फेलियर भी करार दिया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

SRH और KKR के मैच को दहलाने की थी साजिश… आतंकियों ने 38 बार की थी भारत की यात्रा, श्रीलंका में खाई फिदायीन हमले...

चेन्नई से ये चारों आतंकी इंडिगो एयरलाइंस की फ्लाइट से आए थे। इन चारों के टिकट एक ही PNR पर थे। यात्रियों की लिस्ट चेक की गई तो...

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -