Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाजआतंकियों के लिए IED मँगाने की फिराक में थी सादिया शेख, कभी जाकिर नाइक...

आतंकियों के लिए IED मँगाने की फिराक में थी सादिया शेख, कभी जाकिर नाइक से करना चाहती थी निकाह

सादिया टेलीग्राम ऐप पर अहल-ए-वफ़ा नाम की आईडी बना कर गिरफ्तार हिना बेग और जहानजेब के अलावा दिल्ली के तिहाड़ जेल में कैद आतंकी अब्दुल्ला बाशित से लगातार सम्पर्क में थी।

भारत में अपने प्रसार के लिए वैश्विक आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (ISIS) अब नए तौर-तरीके आजमा रहा है। आतंकी संगठन अब इसके लिए महिलाओं का सहारा ले रहा है। राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) के खुलासे के अनुसार, ISIS ने अपनी विचारधारा फैलाने के लिए महिलाओं को कमान देना शुरू कर दिया है। NIA के अनुसार, मेट्रो सिटीज की इन महिलाओं ने सोशल मीडिया को हथियार बना कर आतंकी विचारधारा फैलाने का बीड़ा उठाया है।

इन महिलाओं को ISIS ने विस्फोटक जमा करने का काम भी दे रखा है। एजेंसी को इस मामले में एक बड़ी सफलता भी हाथ लगी है। NIA ने पुणे से सादिया शेख नामक महिला को गिरफ़्तार किया है, जो इस्लामी कट्टरपंथी विचारधारा को फैलाने में लगी हुई थी। सादिया अनवर शेख कभी आतंकी जाकिर मूसा से निकाह करने के लिए जम्मू कश्मीर तक पहुँच गई थी। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर डी-रैडकलाइज वाली प्रक्रिया पूरी कर के छोड़ दिया था।

कहा जाता है कि जाकिर मूसा ने सादिया के अरमानों पर पानी फेरते हुए उसके साथ निकाह करने से इनकार कर दिया था। इसके बाद वो निकाह का प्रस्ताव लेकर जम्मू-कश्मीर में ISIS के सबसे बड़े सरगना वकार के पास गई, लेकिन वकार ने भी उसके प्रस्ताव ठुकरा दिया। इसके बाद उसने इसी आतंकी संगठन का खुरासान मॉड्यूल ज्वाइन कर लिया था। सादिया टेलीग्राम ऐप का प्रयोग कर के दूसरे आतंकियों से IED मँगाने की फिराक में थी।

इससे पहले स्पेशल सेल ने इस्लामिक स्टेट खुरासान मॉड्यूल की आतंकी हिना बशीर और जहानजेब सामी को गिरफ्तार किया था। उनसे हुई पूछताछ में सादिया के बारे में कई चीजें पता लगी थीं। ‘आजतक’ की ख़बर के अनुसार, सादिया टेलीग्राम ऐप पर अहल-ए-वफ़ा नाम की आईडी बना कर गिरफ्तार हिना बेग और जहानजेब के अलावा दिल्ली के तिहाड़ जेल में कैद आतंकी अब्दुल्ला बाशित से लगातार सम्पर्क में थी।

अब्दुल वासित तिहाड़ जेल से ही ‘वॉइस ऑफ इंडिया’ नामक कट्टरवादी मैगजीन निकाल रहा था, जिसमें ये महिलाएँ उसकी मदद कर रही थीं। इस पत्रिका का उपयोग सीएए को लेकर लोगों को भड़काने के लिए भी किया गया था। इसके लिए आपत्तिजनक कंटेंट्स प्रकाशित किए गए थे। दिल्ली और जम्मू-कश्मीर में ये आतंकी धारदार हथियारों से हमला करने की फिराक में थे। फ़िलहाल इनसे पूछताछ जारी है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हिंदी राष्ट्रभाषा है, थोड़ी-बहुत सबको आनी चाहिए’: ये कहने पर Zomato ने कर्मचारी को कंपनी से निकाला, तमिल ग्राहक ने की थी शिकायत

फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato ने अपने एक कस्टमर केयर कर्मचारी को फायर कर दिया, क्योंकि उसने कहा था कि थोड़ी-बहुत हिंदी सबको आनी चाहिए।

बाप कम्युनिस्ट हो, सत्ता में वामपंथी हों तो प्यार न करें, प्यार हो जाए तो माँ न बने: अपने ही बच्चे के लिए भटक...

अजीत और अनुपमा को एक-दूसरे से प्यार हुआ और एक बच्चे का जन्म हुआ। कम्युनिस्ट पिता को ये रिश्ता और बच्चा दोनों नागवार थे। बच्चा इस जोड़े से छीन लिया गया...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe