Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाजप्रवीण नेट्टारू की हत्या में शामिल रियाज को NIA ने मुंबई एयरपोर्ट से पकड़ा,...

प्रवीण नेट्टारू की हत्या में शामिल रियाज को NIA ने मुंबई एयरपोर्ट से पकड़ा, विदेश भाग रहा था: BJYM नेता को इस्लामी कट्टरपंथियों ने कुल्हाड़ी से काट डाला था

रियाज की गिरफ्तारी के साथ ही इस मामले में गिरफ्तार आरोपितों की संख्या 19 हो गई है, इस मामले में NIA ने चार्जशीट में 21 लोगों को आरोपित बनाया है। रियाज अपने हैंडलर अब्दुल रहमान के कहने पर भारत लौटा था। अब्दुल रहमान इस मामले में अब भी फरार है।

कर्नाटक में भाजपा के युवा नेता प्रवीण नेट्टारू की हत्या के मामले में राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने रियाज नाम के एक आरोपित को गिरफ्तार किया है। वह हत्या के बाद विदेश भाग गया था। उसके वापस आने के बाद NIA ने गिरफ्तार कर लिया। वह पकड़े जाने के समय देश से बाहर भागने का प्रयास कर रहा था।

NIA ने मंगलवार (4 जून, 2024) को युसूफ हरल्ली उर्फ़ रियाज को मुंबई एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया। वह इस दौरान देश से बाहर जाने की कोशिश कर रहा था। रियाज PFI का कार्यकर्ता था और प्रवीण नेट्टारू के हत्या की योजना बनाने वाले को शरण दी थी और हथियार जुटाने में भी उसकी मदद की थी।

रियाज की गिरफ्तारी के साथ ही इस मामले में गिरफ्तार आरोपितों की संख्या 19 हो गई है, इस मामले में NIA ने चार्जशीट में 21 लोगों को आरोपित बनाया है। रियाज अपने हैंडलर अब्दुल रहमान के कहने पर भारत लौटा था। अब्दुल रहमान इस मामले में अब भी फरार है।

इससे एक माह पहले ही NIA ने इस मामले में मुस्तफा पायचार और मंसूर पाशा को पकड़ा था। पायचार इस मामले में मुख्य साजिशकर्ता था। उसने इस पूरे मामले के लिए हमलावरों की टीम इकट्ठा की थी, हमले के बाद वह भी देश से बाहर अपने साथियों के साथ भाग गया था। पकड़े गए यह सभी लोग प्रतिबंधित आतंकी संगठन PFI के सदस्य थे।

गौरतलब है कि 26 जुलाई 2022 को बेल्लारे में हमलावरों ने भाजपा नेता प्रवीण नेट्टारू को कुल्हाड़ी से उस वक़्त काट दिया था, जब वे दुकान बंद कर अपने घर जा रहे थे। बाद में इस मामले की जाँच स्टेट पुलिस से NIA को सौंप दी गई थी। प्रवीण नेट्टारू की हत्या उदयपुर में कन्हैयालाल की हत्या का विरोध करने की वजह से हुई थी। PFI अब तक इस मामले में 19 आरोपितों को पकड़ चुकी है। इस मामले की जाँच के बाद खुलासा हुआ था कि प्रवीण नेट्टारू की हत्या को लेकर PFI ने लम्बी योजना बनाई थी, उसके निशाने पर और भी लोग थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ऋषिकेश AIIMS में भर्ती अपनी माँ से मिलने पहुँचे CM योगी आदित्यनाथ, रुद्रप्रयाग हादसे के पीड़ितों को भी नहीं भूले

उत्तराखंड के ऋषिकेश से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यमकेश्वर प्रखंड का पंचूर गाँव में ही योगी आदित्यनाथ का जन्म हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -