Friday, May 20, 2022
Homeदेश-समाजनिर्भया गैंगरेप के दोषी की दया याचिका ख़ारिज: पीड़िता के पिता ने कहा- केजरीवाल...

निर्भया गैंगरेप के दोषी की दया याचिका ख़ारिज: पीड़िता के पिता ने कहा- केजरीवाल ने सत्ता के लिए किया इस्तेमाल

आखिर दिल्ली सरकार ने जेल अथॉरिटी से पहले क्यों नहीं कहा था कि आप फाँसी के लिए नोटिस जारी करो। तब तक उन्होंने जेल प्रशासन से कुछ नहीं कहा। निर्भया के पिता ने कहा कि यदि इलेक्शन से पहले कोई फैसला नहीं आता है तो इसके जिम्मेदार अरविंद केजरीवाल होंगे।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने निर्भया गैंगरेप के दोषी मुकेश सिंह की दया याचिका खारिज कर दी है। मुकेश ने जनवरी 14, 2020 को सुप्रीम कोर्ट से क्यूरेटिव पिटिशन खारिज होने के बाद राष्ट्रपति से दया की गुहार लगाई थी।

मुकेश सिंह उन 6 आरोपितों में शामिल था, जिन्होंने 2012 में निर्भया गैंगरेप को अंजाम दिया था। छह में से चार
आरोपितों को दिल्ली कोर्ट ने फाँसी की सजा दी थी, जबकि 1 आरोपित राम सिंह ने तिहाड़ जेल में फाँसी लगा ली थी। वहीं, दूसरे नाबालिग आरोपित को सुधारगृह भेज दिया गया था, जो कि अब रिहा हो गया है।

दिल्ली की पटियालाा हाउस कोर्ट ने मुकेश समेत चार दोषियों को फाँसी देने के लिए 22 जनवरी का डेथ वॉरंट जारी किया था। हालाँकि, बृहस्पतिवार (जनवरी 16, 2020) को कोर्ट ने कहा कि मुकेश की दया याचिका राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पास लंबित होने के कारण 22 जनवरी को फाँसी नहीं दी जा सकती है।

निर्भया के पिता ने केजरीवाल पर लगाया राजनीति करने का आरोप

रिपोर्ट्स के अनुसार, निर्भया के पिता का कहना है कि दिल्ली सरकार तब तक सोई रही, जब तक हम लोग आगे नहीं बढ़े। उन्होंने कहा कि आखिर दिल्ली सरकार ने जेल अथॉरिटी से पहले क्यों नहीं कहा था कि आप फाँसी के लिए नोटिस जारी करो। तब तक उन्होंने जेल प्रशासन से कुछ नहीं कहा। निर्भया के पिता ने कहा कि यदि इलेक्शन से पहले कोई फैसला नहीं आता है तो इसके जिम्मेदार अरविंद केजरीवाल होंगे। साथ ही उन्होंने अरविंद केजरीवाल पर आरोप लगाते हुए कहा कि केजरीवाल ने सत्ता में आने के लिए इस मुद्दे का इस्तेमाल किया।

निर्भया की माँ ने कहा- दोषियों को फाँसी देने में हो रही है राजनीति

दूसरी ओर, निर्भया गैंग रेप मामले में आरोपितों की फाँसी में हो रही देरी पर पीड़िता की माँ आशा देवी ने बीजेपी और आम आदमी पार्टी पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि जो लोग 2012 में हाथ में तिरंगा लेकर इंसाफ के लिए सड़क पर उतरे थे आज वही लोग राजनीति के लिए निर्भया के दोषियों की फाँसी टाल रहे हैं। कोई कह रहा है कि दिल्ली सरकार फाँसी में देरी कर रही है तो दिल्ली सरकार कह रही है कि दिल्ली पुलिस हमें दे दो।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कॉन्ग्रेस पर प्रशांत किशोर का डायरेक्ट वार: चिंतन शिविर पर उठाए सवाल, कहा- गुजरात-हिमाचल में भी होगी हार

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने कॉन्ग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि इस चिंतन शिविर से पार्टी में कुछ बदलाव नहीं आने वाला है।

औरंगजेब मंदिर विध्वंस का चैंपियन, जमीन आज भी देवता के नाम: सुप्रीम कोर्ट को बताया क्यों ज्ञानवापी हिंदुओं का, कैसे लागू नहीं होता वर्शिप...

सुप्रीम कोर्ट में जवाबी याचिका में हिंदू पक्ष ने ज्ञानवापी मामले में कहा कि औरंगजेब ने मंदिर ध्वस्त कर भूमि को किसी को सौंपा नहीं था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
187,460FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe