Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाज'20-30 लोगों (हिंदुओं) को टपकाना है': अफजल ने नूहं दंगों के समय फैलाया था...

’20-30 लोगों (हिंदुओं) को टपकाना है’: अफजल ने नूहं दंगों के समय फैलाया था ये भड़काऊ मैसेज, पुलिस ने दबोच लिया

नूहं दंगे के दिन अफजल ने ही एक भड़काऊ मैसेज 2 वॉट्सऐप ग्रुपों में डाला था। इसमें संदेश था कि खेड़ला चौक पर 2-4 ही निपटे (2-4 हिंदू ही मारे गए) हैं, जब यात्रा भादस पहुँचेगी तो 20-30 लोगों (20-30 हिंदुओं) को टपकाना है।

हरियाणा एसटीएफ और पुलिस की टीम 31 जुलाई को नूहं में हुई हिंसा के मामले में लगातार आरोपितों की धड़-पकड़ कर रही है। इसी कड़ी में इंटरनेट पर भड़काऊ वीडियो तथा ऑडियो मैसेज (20-30 लोगों को टपकाना है) डालने वाले अफजल को फिरोजपुर से गिरफ्तार कर लिया। आरोपित अफजल पर नूहं हिंसा में शामिल होने, आगजनी तथा तोड़फोड़ की घटना के वीडियो ‘मेवात का बदला’ नाम से इंटरनेट पर प्रसारित करने का आरोप है।

अफजल नूहं से सटे फिरोजपुर गाँव का रहने वाला है। उसके विरुद्ध साइबर सेल द्वारा 2 एफआइआर दर्ज की गई थी। सोशल मीडिया पर डाली जाने वाली भड़काऊ पोस्ट पर साइबर सेल की टीम द्वारा कुल 11 एफआईआर दर्ज की गई है। 

’20-30 लोगों को टपकाना है’

मीडिया रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि घटना वाले ही दिन अफजल ने ही एक भड़काऊ मैसेज 2 वॉट्सऐप ग्रुपों में डाला था। इसमें संदेश था कि खेड़ला चौक पर 2-4 ही निपटे (2-4 हिंदू ही मारे गए) हैं, जब यात्रा भादस पहुँचेगी तो 20-30 लोगों (20-30 हिंदुओं) को टपकाना है।

रिपोर्ट में यह भी बताया जा रहा है कि नूहं दंगा की वीडियो तथा तस्वीर लेने वाले मीडियाकर्मियों के मोबाइल भी अफजल तथा उसके गैंग के दंगाइयों ने लूट लिए थे। वह खुद वीडियो बना कर अलग-अलग व्हाट्सप्प ग्रुप में फैला रहा था।

अब तक 218 गिरफ्तारी

नूहं दंगा मामले में हरियाणा एसटीएफ और पुलिस की टीमें हिंसा आरोपितों को लगातार पकड़ने में लगी हुई हैं। पुलिस अधीक्षक नरेंद्र बिजारणिया ने सभी थाना प्रभारियों का निर्देश दिए हैं कि संदिग्ध के बारे में पूरे सबूत होने के बाद उन्हें गिरफ्तार किया जाए।

शुक्रवार (11 अगस्त, 2023) को भी 19 लोगों को गिरफ्तार किया गया। इसके बाद गिरफ्तार किए गए आरोपितों की संख्या 218 हो गई है। इसके अलावा 110 संदिग्ध अभी पुलिस की हिरासत में हैं। 

दंगाइयों के बचाव में कॉन्ग्रेस 

हरियाणा पुलिस की कार्रवाई पर कॉन्ग्रेसी विधायक आफताब अहमद और मोहम्मद इलियास आरोपितों के साथ खड़े नजर आ रहे हैं। दोनों मुस्लिम विधायक हरियाणा पुलिस द्वारा आरोपितों पर की जा रही कार्रवाई को निर्दोष लोगों पर कार्रवाई बताते हुए बचाव में आ गए हैं।

कॉन्ग्रेसी नेता बचाव तो कर रहे हैं लेकिन पुलिस अधीक्षक नरेंद्र बिजारणिया ने गाँवों और शहर के प्रभावशाली लोगों से दो टूक कह दिया था, “सभी को पता है किसका छोरा हिंसा में शामिल था, खुद पेश कर दो वरना हमें उठाना आता है।”

फिर से निकलेगी बृजमण्डल शोभायात्रा 

हरियाणा के नूहं में हिंदुओं की शोभायात्रा पर हुए हमले के बाद फिर से बृजमंडल शोभा यात्रा निकालने का दावा किया जा रहा है। सोशल मीडिया पर पोस्टर रिलीज कर 28 अगस्त को फिर से बृजमंडल शोभा यात्रा निकालने का दावा किया गया है।

इस पोस्टर पर बजरंग दल, पलवल लिखा हुआ है। इसमें लिखा गया है कि बजरंग दल हरियाणा, पलवल के तत्वावधान में बृजमंडल (मेवात) जलाभिषेक यात्रा 28 अगस्त को सुबह 10 बजे नल्हड़ मंदिर नूहं से होकर सिंगार मंदिर पुन्हाना में संपन्न होगी। इस दौरान भगवान श्रीकृष्ण द्वारा नल्हड़ में स्थापित शिव मंदिर में जलाभिषेक होगा। 

साभार: दैनिक भास्कर

पुलिस ने इस यात्रा की इजाजत दी है या नहीं, इस पर फिलहाल कोई खबर नहीं है। फिलहाल, नूहं में कर्फ्यू और धारा 144 लगी हुई है। वहीं पुलिस भी इस तरह की अफवाह फैलाने वाली पोस्टों को लेकर अलर्ट है।

31 जुलाई को हुई थी हिंसा

गौरतलब है कि 31 जुलाई को बृजमंडल जलाभिषेक शोभायात्रा के दौरान ही उस पर मुस्लिम दंगाइयों द्वारा हमला बोल दिया गया था। जिसमें 6 व्यक्तियों की मौत हो चुकी है। लगभग 100 से ज्यादा घायल हुए हैं। दंगाइयों ने सैकड़ों गाड़ियाँ भी फूँक दी थीं। इसके बाद इलाके में अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाते हुए करीब 750 से अधिक अवैध निर्माण ध्वस्त किए गए। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -