Advertisements
Sunday, May 31, 2020
होम देश-समाज ममता के बंगाल में मेरी किसी भी दिन की जा सकती है हत्या: पद्म...

ममता के बंगाल में मेरी किसी भी दिन की जा सकती है हत्या: पद्म पुरस्कार विजेता काजी मासूम अख्तर

"मुझे बहुत आश्चर्य होता है जब मैं उन्हीं लोगों को देखता हूँ, जिन्होंने मेरे छात्रों को राष्ट्रगान गाने के लिए कहने पर लाठी-डंडों से मारा, अब वही लोग राष्ट्रीय झंडे के साथ प्रदर्शन स्थलों पर बैठे हैं और वही राष्ट्रगान गा रहे हैं। यह एक मज़ाक है।"

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

हाल ही में बंगाल के पाँच पद्म पुरस्कार विजेताओं में से एक मुस्लिम शिक्षक ने अपने जीवन को लेकर डर ज़ाहिर किया है। उन्होंने कहा कि बंगाल में मेरी किसी भी समय हत्या की जा सकती है, क्योंकि राजनीतिक तुष्टीकरण की नीति के कारण आरोपित खुले आम घूम रहे हैं।

हाल ही में मोदी सरकार ने बंगाल के पाँच लोगों को पद्म पुरस्कार से सम्मानित किया है, जिसमें से बंगाल के काजी मासूम अख्तर को साहित्य व शिक्षा के लिए भारत के चौथे बड़े पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। अख्तर ने कहा कि पद्म श्री मिलना एक नैतिक जीत है, लेकिन मैं आज भी अदालत में हमले का मुकदमा लड़ रहा हूँ और ममता बनर्जी की तृणमूल कॉन्ग्रेस सरकार की तुष्टिकरण की नीतियों के कारण मेरा उत्पीड़न करने वाले आरोपित स्वतंत्र रूप से घूम रहे हैं और यही कारण है कि मुझे न्याय नहीं मिल रहा है। इसीलिए मुझे अभी भी अपने जीवन को लेकर डर है और किसी भी दिन मेरी हत्या की जा सकती है, लेकिन मैं सच बोलना जारी रखूँगा

अख्तर ने बंगाल और देश के कई हिस्सों में नागरिकता (संशोधन) अधिनियम के खिलाफ चल रहे विरोध प्रदर्शनों पर बोलते हुए कहा कि इसके बारे में भारतीय मुसलमानों को चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है, क्योंकि इस कानून को संसद के दोनों सदनों द्वारा पारित किया गया है। राज्यसभा में भाजपा के पास बहुमत नहीं था, तो गैर-भाजपा दलों ने उनका समर्थन किया, लेकिन वही पार्टियाँ अब अपने निहित राजनीतिक हितों के लिए सीएए के खिलाफ हो रहे विरोध को हवा दे रहे हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि मुझे बहुत आश्चर्य होता है जब मैं उन्हीं लोगों को देखता हूँ, जिन्होंने मेरे छात्रों को राष्ट्रगान गाने के लिए कहने पर लाठी-डंडों से मारा, अब वही लोग राष्ट्रीय झंडे के साथ प्रदर्शन स्थलों पर बैठे हैं और वही राष्ट्रगान गा रहे हैं। यह एक मज़ाक है। अख्तर ने आरोप लगाते हुए कहा कि राजनीतिक दल मेरे समुदाय को पीछे धकेल रहे हैं और उनका उपयोग केवल राजनीतिक प्यादे के रूप में कर रहे हैं। उनका पूरी तरह से ब्रेनवॉश कर उन्हें सार्वजनिक संपत्ति को आग लगाने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है और फिर राष्ट्रगान गाने के लिए कहा जाता है।

द प्रिंट की खबर के मुताबिक 49 वर्षीय शिक्षक मासूम अख्तर द्वारा मदरसे के बच्चों को राष्ट्रगान गाने के लिए कहने को लेकर 26 मार्च 2015 को कुछ कट्टरपंथियों द्वारा लाठी और डंडों से हमला किया गया था, जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया, लेकिन अस्पताल में भी उनके साथ फिर से मारपीट की गई और गँभीर रूप से घायल कर दिया गया। अख्तर का कहना है कि उन्होंने घटना के तुरंत बाद 26 मार्च 2015 को राजाबगान पुलिस स्टेशन में एक प्राथमिकी दर्ज कराई थी, जिस पर पुलिस द्वारा आज तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई।

काजी मासूम अख्तर द्वारा थाने में कराई गई FIRकी कॉपी (साभार- द प्रिंट)

अख्तर ने बताया कि पिछले पाँच वर्षों में मैंने अलीपुर अदालत में तीन याचिकाएँ दायर की हैं। अदालत ने जाँच अधिकारियों से मेरे मामले में कार्रवाई करने के लिए भी कहा, लेकिन पुलिस ने एक रिपोर्ट दर्ज की और कहा कि आरोपित व्यक्ति फरार थे। हालाँकि 10 जनवरी को अदालत ने दोषियों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया था।

वैसे शिक्षक मासूम अख्तर कई बार कट्टरपंथियों के निशाने पर आए। 2018 में काजी मासूम अख्तर ने मुस्लिम महिलाओं के लिए ट्रिपल तलाक़ के खिलाफ एक लाख लोगों के हस्ताक्षर लेकर सुप्रीम कोर्ट और राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपा था, ताकि ट्रिपल तलाक़ कानून से हो रहे महिलाओं के ऊपर अत्याचार को रोका जाए, लेकिन दिल्ली से लौटने के बाद मुस्लिम कट्टरपँथी ने उनके और उनके पिता को यह कहते हुए जान से मारने की धमकी दे डाली कि आप शरिया के खिलाफ काम कर रहे हैं। इसके बाद आज तक मासूम अख्तर अपने घर नहीं जा सके।

इसके बाद अख्तर को मदरसे में प्रधानाध्यापक के पद से हाथ धोना पड़ा था। मुस्लिम मौलवियों के एक वर्ग ने उनके खिलाफ याचिका दायर की जिसमें कहा गया था कि वह छात्रों को गुमराह करने का प्रयास कर रहे थे और राष्ट्रगान गाकर और ‘इस्लाम विरोधी’ अखबार और किताबें, गीत लिखकर धर्म का अपमान कर रहे थे। आपको बता दें कि अपने समुदाय से बहिष्कृत अख्तर अभी जादवपुर में एक सरकारी स्कूल के हेडमास्टर हैं। विडम्बना यह है कि वही ममता बनर्जी सरकार जिस पर वो हमलावरों की रक्षा करने का आरोप लगाते हैं उसने ही उन्हें 2017 में ‘सर्वश्रेष्ठ शिक्षक’ का पुरस्कार दिया था।

काजी मासूम अख्तर को ‘सर्वश्रेष्ठ शिक्षक’ पुरस्कार से सम्मानित करतीं सीएम ममता बनर्जी


Advertisements

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

‘ईद पर गोहत्या, विरोध करने पर 4 लोगों को मारा’ – चतरा में हिन्दुओं का आरोप, झारखंड पुलिस ने बताया अफवाह

झारखंड के चतरा में हिन्दुओं ने मुसलमानों पर हमला करने का आरोप लगाया। कारण - ईद पर गोहत्या का विरोध करने को लेकर...

कल-पुर्जा बनाने के नाम पर लिया दो मंजिला मकान, चला रहे थे हथियारों की फैक्ट्री: इसरार, आरिफ सहित 5 गिरफ्तार

बंगाल एसटीएफ ने एक हथियार फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया है। पॉंच लोगों को गिरफ्तार किया है। करीब 350 अर्द्धनिर्मित हथियार बरामद किए हैं।

मुंबई में बेटे ने बुजुर्ग माँ को पीटकर घर से निकाला, रेलवे अधिकारियों ने छोटे बेटे के पास दिल्ली भेजने की व्यवस्था की

लॉकडाउन के बीच मुंबई से एक बेहद असंवेदनशील घटना सामने आई है। एक बेटे ने अपनी 68 वर्षीय माँ को मारपीट कर घर से बाहर निकाल दिया।

MLA विजय चौरे ने PM मोदी को दी गाली, भाई के साथ किसानों को धमकाया: BJP ने कहा- कॉन्ग्रेस का संस्कार दिखाया

विजय चौरे पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के क्षेत्र छिंदवाड़ा के सौसर से विधायक हैं। उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं के लिए भी अभद्र भाषा का प्रयोग किया।

दुनिया के सारे नेता योग, आयुर्वेद की बातें कर रहे हैं, भारत में कोरोना मृत्यु दर नियंत्रण में: ‘मन की बात’ में PM मोदी

PM मोदी ने 'मन की बात' के दौरान स्वच्छ पर्यावरण के लिए पेड़ लगाने की सलाह दी। फिर उन्होंने जल-चक्र समझाते हुए पानी बचाने की भी सलाह दी।

G7 में भारत को शामिल करने की बात, डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा – ‘पुराना हो गया समूह, नहीं करता सही नुमाइंदगी’

डोनाल्ड ट्रम्प ने कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए जून में होने वाले G7 समिट को सितंबर तक टालने का निर्णय लिया है। साथ ही इस समिट में...

प्रचलित ख़बरें

असलम ने किया रेप, अखबार ने उसे ‘तांत्रिक’ लिखा, भगवा कपड़ों वाला चित्र लगाया

बिलासपुर में जादू-टोना के नाम पर असलम ने एक महिला से रेप किया। लेकिन, मीडिया ने उसे इस तरह परोसा जैसे आरोपित हिंदू हो।

चीन के खिलाफ जंग में उतरे ‘3 इडियट्स’ के असली हीरो सोनम वांगचुक, कहा- स्वदेशी अपनाकर दें करारा जवाब

"सारी दुनिया साथ आए और इतने बड़े स्तर पर चीनी व्यापार का बायकॉट हो, कि चीन को जिसका सबसे बड़ा डर था वही हो, यानी कि उसकी अर्थव्यवस्था डगमगाए और उसकी जनता रोष में आए, विरोध और तख्तापलट और...."

जिस महिला अधिकारी से सपा MLA अबू आजमी ने की बदसलूकी, उसका उद्धव सरकार ने कर दिया ट्रांसफर

पुलिस अधिकारी शालिनी शर्मा का ट्रांसफर कर दिया गया है। नागपाड़ा पुलिस स्टेशन की इंस्पेक्टर शालिनी शर्मा के साथ अबू आजमी के बदसलूकी का वीडियो सामने आया था।

गोवा का हाथ काटरो खम्भ: मौत का वह स्तम्भ जहाँ जेवियर के अनुयायी हिन्दुओं को काट दिया करते थे

भारत के अधिकांश शहरों में “संत” ज़ेवियर के नाम पर स्कूल-कॉलेज हैं। लेकिन गोवा में एक स्तंभ ऐसा भी है जिसे उसके अनुयायियों ने हिंदुओं के रक्त से सींचा था।

‘TikTok हटाने से चीन लद्दाख में कब्जाई जमीन वापस कर देगा’ – मिलिंद सोमन पर भड़के उमर अब्दुल्ला

मिलिंद सोमन ने TikTok हटा दिया। अरशद वारसी ने भी चीनी प्रोडक्ट्स का बॉयकॉट किया। उमर अब्दुल्ला, कुछ पाकिस्तानियों को ये पसंद नहीं आया और...

हमसे जुड़ें

210,044FansLike
60,894FollowersFollow
244,000SubscribersSubscribe
Advertisements