Friday, April 19, 2024
Homeदेश-समाजकिसान महापंचायत: पंडाल खाली देख निराश हुए BKU अध्यक्ष नरेश टिकैत, धरनास्थल हुआ खाली

किसान महापंचायत: पंडाल खाली देख निराश हुए BKU अध्यक्ष नरेश टिकैत, धरनास्थल हुआ खाली

भारतीय किसान यूनियन की हर महीने 17 तारीख को मुजफ्फरनगर के सिसौली में मासिक बैठक यूपी गेट पर हो रही है। पिछले माह भी 18 मार्च को भी ये बैठक यूपी गेट पर हुई थी, लेकिन इस बार की तरह तब भी भीड़ की संख्या कम देखकर बीकेयू अध्यक्ष नरेश टिकैत निराश हुए थे।

कोरोना महामारी के फैलते प्रकोप के बीच यूपी गेट पर हुई एक मासिक पंचायत ने भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के अध्यक्ष नरेश टिकैत को निराश कर दिया है। दरअसल, किसान पंचायत के दौरान जैसे ही टिकैत मंच पर बोलने आए उन्होंने देखा कि प्रदर्शनकारियों की संख्या धरनास्थल पर बहुत कम हो गई है। पंचायत का पंडाल भी खाली पड़ा है।

दैनिक जागरण की खबर के अनुसार भारतीय किसान यूनियन की हर महीने 17 तारीख को मुजफ्फरनगर के सिसौली में मासिक बैठक यूपी गेट पर हो रही है। पिछले माह भी 18 मार्च को भी ये बैठक यूपी गेट पर हुई थी, लेकिन इस बार की तरह तब भी भीड़ की संख्या कम देखकर बीकेयू अध्यक्ष नरेश टिकैत निराश हुए थे। मालूम हो कि एक तरफ हर राज्य में कोरोना की बढ़ती रफ्तार है वहीं दूसरी ओर यूपी गेट पर भारी लापरवाही हो रही है। मंच के सामने बैठे लोगों के मुँह से मास्क गायब है।

गौरतलब है कि कोरोना के बढ़ते प्रभाव ने पूरे देश में पाबंदियाँ बढ़ा दी हैं। हर कोई कोशिश कर रहा है कि भीड़-भाड़ वाले इलाके में जाने से बचे। मगर, किसान नेता राकेश टिकैत ऐसी गंभीर स्थिति में भी अपनी हरकत से बाज नहीं आ रहे। उनका कहना है कि जैसे वह अपने गाँव में रहेंगे वैसे ही यूपी गेट, सिंघु बॉर्डर और टीकरी बॉर्डर पर भी रहेंगे। उन्होंने कहा है कि आंदोलन खत्म नहीं होगा, ये चलता रहेगा।

राकेश टिकैत ने कहा कि यूपी गेट, सिंघु बार्डर और टीकरी बार्डर पर 5 माह से किसान डटे हैं। एक तरह से यहाँ किसानों ने अपना गाँव बसा लिया है। लॉकडाउन लगेगा, तो क्या गाँव में लोग नहीं रहेंगे। टिकैत ने यह भी कहा कि लाकडाउन लगेगा, तो उसके नियमों का पालन किया जाएगा। गाँवों से किसान यहाँ नहीं आएँगे। मगर जो यहाँ पर है वह यहीं पर रहेंगे। आंदोलन चलता रहेगा।

यहाँ बता दें कि यूपी गेट पर नए कृषि कानून के विरोध में किसान आंदोलन 28 नवंबर से हो रहा है। यही वजह है कि दिल्ली जाने कई वाली लेन बंद है। कई वाहनों को इसके कारण दिक्कत का सामना भी करना पड़ रहा है।  लेकिन टिकैत व अन्य प्रदर्शनकारियों को आमजन की समस्या से कोई खासा फर्क नहीं पड़ रहा। वह अपनी मनमानी पर अड़े हुए हैं और कम भीड़ देख कर निराश हो रहे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

BJP कार्यकर्ता की हत्या में कॉन्ग्रेस MLA विनय कुलकर्णी की संलिप्तता के सबूत: कर्नाटक हाई कोर्ट ने 3 महीने के भीतर सुनवाई का दिया...

भाजपा कार्यकर्ता योगेश गौदर की हत्या के मामले में कॉन्ग्रेस विधायक विनय कुलकर्णी के खिलाफ मामला रद्द करने से हाई कोर्ट ने इनकार कर दिया।

त्रिपुरा में सबसे ज्यादा, लक्षद्वीप में सबसे कम… 102 सीटों पर 11 बजे तक हुई वोटिंग की पूरी डिटेल, जगह-जगह सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

लोकसभा चुनाव की पहले चरण की वोटिंग में आज 21 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों की 102 सीटों पर मतदान हो रहा है। सबसे ज्यादा वोट 11 बजे तक त्रिपुरा में पड़े हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe