Tuesday, January 18, 2022
Homeदेश-समाजतस्वीरों में देखिए जनता कर्फ्यू पर PM मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस का हाल

तस्वीरों में देखिए जनता कर्फ्यू पर PM मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस का हाल

काशी विश्‍वनाथ मंदिर भी इतिहास में संभवतः पहली बार बाबा के भक्‍तों के लिए बंद किया गया है। साथ ही संकटमोचन मंदिर सहित भगवान बुद्ध की स्थली सारनाथ के बौद्ध मंदिरों और कई अन्‍य पौराणिक और ऐतिहासिक महत्व के मंदिरों के पट भी भक्‍तों के लिए बंद हैं।

उत्सव जहाँ की पहचान हो और आनंद जहाँ सर्व सुलभ हो, ऐसी काशी का मिजाज इन दिनों कोरोना वायरस की वजह से थोड़ा बदला हुआ है। इतना ही नहीं, कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए बनारस में उत्‍सव और मेल मिलाप के आयोजन थम गए हैं। काशी की खास पहचान कल-कल बहती गंगा की मौज तो वही है, बस किनारे पर हलचल थम सी गई है। आज सुबह से ही गंगा में अठखेलियाँ करती नौकाएँ किनारे पर बँधी नजर आईं और कोरोना अलर्ट की वजह से मंदिरों, मठों तक में माहौल बेहद शांत है और गतिविधियाँ काफी सीमित रहीं।

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय का सन्नाटा बता रहा है विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राएँ भी इस मुहिम में पूरी तरह से साथ हैं।

गौरतलब है कि देश में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए संक्रमण के प्रति लोगों में जागरूकता हेतु आज 22 मार्च 2020 को प्रधानमंत्री मोदी ने देशवासियों से सुबह 7 बजे से रात के 9 बजे तक घरों में रहकर जनता कर्फ्यू के पालन की अपील की थी। साथ ही इस वैश्विक महामारी से निपटने में जुटे लोगों के प्रति आभार जताने के लिए शाम 5 बजे पॉंच मिनट तक ताली, थाली, घंटे, घड़ियाल, शंख बजाने की भी अपील की थी।

ऐसे में प्रधानमंत्री का अपना संसदीय क्षेत्र कैसे अछूता रहता। वाराणसी ने अपने सांसद प्रधानमंत्री मोदी के अपील में भरपूर साथ दिया है जिसे आप कुछ तस्वीरों के माध्यम से देख सकते हैं।

सुनी सड़के-खाली गलियाँ
लंका स्थित रविदास गेट पर मौजूद पुलिस और ट्रैफिक के जवान
हर तरफ सन्नाटा
BHU लंका का नजारा
BHU स्थित सर-सुंदरलाल हॉस्पिटल में भी शांत माहौल है
BHU का आपात चिकित्सा विभाग
BHU ट्रामा सेण्टर
हर तरफ शांति
सिटी स्टेशन गोलगड्डा
अस्सी घाट भी बेहद शांत है
घाटों पर दूर-दूर तक कोई नहीं है
राजघाट पुल पर भी आवाजाही बंद है
हर तरफ लोग घरों में ही नजर आ रहे हैं : सड़कें सुनी हैं
मलदहिया चौराहा, जहाँ प्रशासन मुस्तैद नजर आ रहा है
मुस्तैद प्रशासन

काशी विश्‍वनाथ मंदिर भी इतिहास में संभवतः पहली बार बाबा के भक्‍तों के लिए बंद किया गया है। साथ ही संकटमोचन मंदिर सहित भगवान बुद्ध की स्थली सारनाथ के बौद्ध मंदिरों और कई अन्‍य पौराणिक और ऐतिहासिक महत्व के मंदिरों के पट भी भक्‍तों के लिए बंद हैं। जहाँ आज देश जनता कर्फ्यू के दिन पूरी तरह से प्रधानमंत्री के साथ है और उसी क्रम में इसका सबसे बड़ा संदेश काशी से है। ये तस्वीरें धर्म की नगरी काशी से ये शंखनाद है कि हम कोरोना वायरस से लड़ने में प्रधानमंत्री मोदी के कदमों का स्वागत करते हैं।

फोटो साभार: आशीष देव उपाध्याय, वाराणसी

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘भारत में 60000 स्टार्ट-अप्स, 50 लाख सॉफ्टवेयर डेवेलपर्स’: ‘वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम’ में PM मोदी ने की ‘Pro Planet People’ की वकालत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार (17 जनवरी, 2022) को 'World Economic Forum (WEF)' के 'दावोस एजेंडा' शिखर सम्मेलन को सम्बोधित किया।

अभिनेत्री का अपहरण और यौन शोषण मामला: मीडिया को रिपोर्टिंग से रोकने के लिए केरल HC पहुँचे मलयालम एक्टर दिलीप, पुलिस को ‘मैडम’ की...

अभिनेत्री के अपहरण और यौन शोषण के मामले में फँसे मलयालम अभिनेता दिलीप ने मीडिया को इस केस की रिपोर्टिंग से रोकने के लिए केरल हाईकोर्ट पहुँचे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
151,917FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe